6 Shawwal | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

6 Shawwal | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

हजरत जमीला बिन्ते सअद बिन रबी (र.अ.), हुजूर (ﷺ) की दुआ का असर, इल्म हासिल करना जरूरी है, हर तरह की परेशानी से छुटकारा, शहादत की मौत मांगना, हलाल को हराम समझना गुनाह है, नेअमत देने में अल्लाह का कानून, कयामत किन लोगों पर आएगी, बुखार का इलाज, जब तुम्हारे पास किसी दीनदार शख्स के निकाह का पैगाम आएँ …

28 Ramzan

28 Ramzan | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

इस्लाम में पहला हज, दरख्त का नबी (ﷺ) की गवाही देना, बगैर किसी उज्र के नमाज़ क़ज़ा न करना, फकीरी और कुफ्र से पनाह मांगने की दुआ, नमाज़ में सुस्ती करना कैसा, माल व दौलत आज़माइश की चीजें हैं, कयामत में तीन किस्म के लोग, हर किस्म के दर्द का इलाज, तीन काम में देर ना करो ( नमाज़, जनाज़ा और निकाह ) …

27 Ramzan | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

27 Ramzan | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

फतेह मक्का, पहाड़ों से चश्मे का जारी होना, सदका-ए-फित्र, जुमा और इदैन के लिए गुस्ल करना, बेटियों की अच्छी तरह परवरिश करना, नमाज़ छोड़ना, दुनिया की मुहब्बत हलाक करने वाली है, अहले जन्नत के उम्दा फर्श, मुसलमान आपस में एक दूसरे के भाई हैं…

10 Shaban

10 Shaban | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

हजरत अबूज़र गिफारी (र.अ), जंगे बद्र में सहाबा के हक में दुआ, हमेशा सच बोलो , वजू के दरमियान की दुआ, वालिद के दोस्तों के साथ अच्छा बर्ताव करना, दीन के खिलाफ साजिश करना, दुनिया की जिंदगी खेल तमाशा है, जन्नती अल्लाह तआला का दीदार करेंगे, फोड़े फुंसी का इलाज, कुरआन अपने पढ़ने वालो की शफाअत करेगा

17 Rajjab

17 Rajjab | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

हज़रत अबू उबैदह बिन जर्राह (र.अ), पानी अल्लाह की नेअमत, इल्म हासिल करना फ़र्ज़ है, रुखसत के वक्त मुसाफह करना, बेवा और मिस्कीन की मदद करने पर सवाब, पड़ोसी को सताने का गुनाह, ऐश व इशरत से बचना, मुजरिमों के खिलाफ आज़ा की गवाही, मुनक्का (Black Currant) से पठे वगैरह का इलाज, अदल व इंसाफ के साथ फैसला किया करो..

16 Rajjab

16 Rajjab | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

हज़रत सईद बिन जैद (र.अ), टूटे हुए पैर का ठीक हो जाना, नमाज़ में किबला की तरफ रुख करना, खाने के बाद की दुआ, हर नमाज के बाद तसबीहे फातिमी पढ़ना, किसी पर तोहमत लगाना गुनाहे अज़ीम है, नेक आमाल के बदले दुनिया की रौनक चाहना, अहले जन्नत को खुश्खबरी, कद्दू (दूधी) से इलाज, अपने मुसलमान भाई से झगड़ा मत करो

15 Rajjab

15 Rajjab | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

हजरत सअद बिन अबी वक्फास (र.अ) की करामत, नींद अल्लाह की अज़ीम नेअमत, नमाजे अस्र की अहमियत, सामने वाले की बात पूरी तवज्जोह से सुनना, मुसाफा करने की फ़ज़ीलत, सहाबा की सीरत को दागदार बनाने का गुनाह, बेजा जीनत से बचना, कयामत के रोज़ सब को जिंदा किया जाएगा, सब के साथ हुस्ने सुलूक (अच्छा बर्ताव) करो…

6 Rajjab

6 Rajjab | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

दौरे फारुकी के अहेम कारनामे,मजलिस से उठने की दुआ, मुसलमान भाई के लिए दुआ करना, कुफ्र की सज़ा जहन्नम है, दुनिया का सामान चंद रोजा है…

5 रजब | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

5 Rajjab | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

मोर की खूबसूरती, सुबह की नमाज़ अदा करने पर हिफ़ाज़त का जिम्मा, हाथ पाँव की उंगलियों का खिलाल करना, अल्लाह के वास्ते मुहब्बत करना, कर्ज अदा न करने का गुनाह, माल की हालत, जन्नत में मेहमान नवाजी, बीमारी से बचने की तदबीर, नेकी की नसीहत करो और खुद भी अमल करो

4 रजब | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

4 Rajjab | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

हज़रत उमर (र.अ) की बहादुरी, हज़रत अली (र.अ) की आँख का ठीक हो जाना, जकात की फर्जियत, दुनिया व आखिरत की भलाई की दुआ, शौहर की खुशी पर जन्नत, सच्ची गवाही को छुपाने का गुनाह, दुनियावी ज़िन्दगी धोका है, कब्र में ही ठिकाने का फैसला, खजूर से इलाज, लोगों के लिये वही चीज पसंद करो जो तुम अपने लिये पसंद करते हो…

3 रजब | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

3 रजब | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

हज़रत उमर (र.अ) का इस्लाम लाना, बाल, अल्लाह की दी हुई नेअमत है, नमाज़ के छेड़ने पर वईद, तीन सांस में पानी पीना, बीमार की इयादत का सवाब …

2 रजब | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

2 रजब | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

हजरत अबू बक्र (र.अ) की खिलाफ़त, गुस्ल में पूरे बदन पर पानी बहाना, रजब व शाबान की दुआ, दो रकात तहिय्यतुल वुजू अदा करना …

1 Rajab | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

1 रजब | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

हज़रत अबू बक्र सिद्दीक (र.अ), मुश्क अल्लाह के खजाने से आता है, इस्लाम की बुनियाद, सुन्नत ज़िन्दा करने की फजीलत, नमाज़े इश्राक की फ़ज़ीलत, सूद खाने और खिलाने पर लानत, दुनिया दार का घर और माल…

5. जमादी-उल-अव्वल | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

5. जमादी-उल-अव्वल | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

(1). मुहाजिर व अन्सार में भाई चारा, (2). परिन्दों की परवरिश, (3). नेकियों का हुक्म देना और बुराइयों से रोकना , (4). रुकू में हाथों को घुटनों पर रखना, (5). औरत के लिये चंद आमाल, (6). इंसाफ न करने का वबाल, (7). दुनिया मोमिन के लिये कैदख़ाना है, (8). जन्नत के फल और दरख्तों का साया, (9). अजवा खजूर से ज़हर का इलाज, (10). अल्लाह तआला अद्ल व इंसाफ का हुक्म देता है।

close
Ummate Nabi Android Mobile App