Hadith for Today

Log Chahte hai ke Musalman Jaahil Rahe

Log Chahte hai ke Musalman Jaahil Rahe

Hadees: Abdullah-Bin-Umro-Bin-Aas (RaziAllahu Anhu) Farmate Hai Ke,Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Hajjatul Wida Ke Din Khutba Diya Aur Farmaya – Pohcha Do Logon Tak ! Agar…

16 Zil Hijjah | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

16. जिल हिज्जा | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

  1. इस्लामी तारीख
  2. हुजूर (ﷺ) का मुअजीजा:
  3. एक फर्ज के बारे में:
  4. एक सुन्नत के बारे में:
  5. एक अहेम अमल की फजीलत:
  6. एक गुनाह के बारे में:
  7. दुनिया के बारे में:
  8. तिब्बे नबवी से इलाज
  9. नबी (ﷺ) की नसीहत:
Nikah ke masail | Nikah, Mehr, Humbistari ki dua tarika aur Waleema

निकाह के मसाइल | ख़ुत्बाए निकाह, मेहर, हमबिस्तरी, वलीमा

  1. निकाह 
    1. निकाह की अहमियत अहादीस की रौशनी में 
  2. ख़ुत्बाए निकाह का तर्जुमा
  3. निकाह करने वालो के लिए दुआ 
  4. निकाह की फजीलत. 
  5. मेहर और उसके मसाइल
  6. हमबिस्तरी की दुआ और आदाब
  7. वलीमा 
  8. निकाह में जाइज काम 
  9. निकाह से मुताल्लिक वह काम (बातें) जो सुन्नत से साबित नहीं
  10. मिसाली शोहर | बेहतरीन शोहर की मिसाल 
  11. मिसाली बीवी | बेहतरीन बीवी की मिसाल
  12. मियां-बीवी के एक-दूसरे पर हुकूक
  13. निकाह के लिए हराम रिश्ते 
    1. (अ) मुस्तकिल हराम रिश्तों के असबाब तीन है 
    2. (ब) आरजी हराम रिश्ते । 

शोहर के ख़राब रवैये से हर बीवी के सामने तीन रास्ते होते है

शोहर का ख़राब रवैया देखकर हर बीवी के सामने तीन रास्ते होते है, और हर बीवी इन तीन रास्तों मे …

Read moreशोहर के ख़राब रवैये से हर बीवी के सामने तीन रास्ते होते है

15 Zil Hijjah | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

15. जिल हिज्जा | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

  1. अल्लाह की कुदरत
  2. एक फर्ज के बारे में
  3. एक सुन्नत के बारे में:
  4. एक अहेम अमल की फजीलत:
  5. एक गुनाह के बारे में:
  6. दुनिया के बारे में:
  7. आख़िरत के बारे में:
  8. तिब्बे नबवी से इलाज
  9. कुरआन की नसीहत:
बेचैनी की दुआ ❶

बेचैनी की दुआ | Bechaini ki Dua

यूँ तो मुकम्मल कुरआन हमारे दिल को सुकून पोहचाता है,
लेकिनं इस पोस्ट में हम महज कुछ ही दुआओं का तज़किरा कर रहे है
जो बेचैनी और बेकरारी के इलाज के लिए
कुरआन व सुन्नत से मुफीद साबित है। 

Bechaini ki Dua - 1
बेचैनी की दुआ ❶

لاَ إِلَهَ إِلاَّ أَنْتَ سُبْحَانَكَ إِنِّي كُنْتُ مِنَ الظّالِمِينَ

La ilaha illa anta subhanaka 
innee kuntu mina-zalimeen.

तेरे सिवा कोई भी इबादत के लायक़ नहीं,
तू पाक है। बेशक मैं ही ज़ालिमों में से था।

[ तिर्मज़ीः5/529, ह़दीस संख़्याः3505 ]


Bechaini ki Dua - 2
बेचैनी की दुआ ❷

اللَّهُ اللَّهُ رَبِّي لاَ أُشْرِكُ بِهِ شَيْئاً

Allahu! Allahu! 
Rabbi la ushriku bihi shay’aaa

अल्लाह, अल्लाह मेरा रब है, 
मैं उसके साथ किसी चीज़ को शरीक नहीं करता।

[ अबू दीऊदः2/87, ह़दीस संख्याः1525 ]
[ इब्ने माजा ह़दीस संख्याः3882]


Bechaini ki Dua - 3
बेचैनी की दुआ ❸

اللَّهُمَّ رَحْمَتَكَ أَرْجُو، فَلاَ تَكِلْنِي إِلَى نَفْسِي
طَرْفَةَ عَيْنٍ، وَأَصْلِحْ لِي شَأْنِي كُلَّهُ، لاَ إِلَهَ إِلاَّ أَنْتَ

Allahumma rahmataka arjoo fala
takilnee ila nafsee tarfata AAayn,
wa-aslih lee sha/nee kullah,
la ilaha illa ant.

(ऐ अल्लाह! मैं तेरी रह़मत की आशा रखता हूं,
इस लिए तू मुझे पलक झपकने के बराबर भी
मेरे नफ़्स (आत्मा) के ह़वाले न कर और
मेरे लिए मेरे तमाम काम ठीक कर दे।
तेरे सिवा कोई इबादत के लायक़ नहीं।)

[ अबू दाऊदः4/324, ह़दीस संख्याः5090, अह़मदः5/42 ]


Bechaini ki Dua - 4
बेचैनी की दुआ ❹

لاَ إِلَهَ إِلاَّ اللَّهُ الْعَظِيمُ الْحَلِيمُ، لاَ إِلَهَ إِلاَّ اللَّهُ رَبُّ الْعَرْشِ الْعَظِيمِ،
 لاَ إِلَهَ إِلاَّ اللَّهُ رَبُّ السَّمَوَاتِ وَرَبُّ الْأَرْضِ وَرَبُّ الْعَرْشِ الْكَرِيمِ

La ilaha illal-lahul-AAatheemul-haleem,
la ilaha illal-lahu rabbul-AAarshil-AAatheem,
la ilaha illal-lahu rabbus-samawati warabbul-ardi
warabbul-AAarshil-kareem.

(अल्लाह के सिवा कोई इबादत के लायक़ नहीं। वह महान तथा सहनशील है।
अल्लाह के अलावा कोई इबादत के लायक़ नहीं, जो बड़े अर्श का रब है।
अल्लाह के सिवा कोई इबादत के लायक़ नहीं, जो आस्मानों का रब,
ज़मीन का रब और अर्शे करीम का रब है।)

[ बुखारीः7/154, हदीस संख्याः6345]
[ मुस्लिमः4/2092,हदीस संख्याः2730 ]

कयामत की तारीख़ की ख़बर | मैदाने हश्र (पार्ट: २)

कयामत की तारीख़ की ख़बर | मैदाने हश्र (पार्ट: २)

  1. कयामत की तारीख़ की ख़बर
  2. कयामत अचानक आ जाएगी
  3. जुम्मे का दिन होगा
  4. सूर का फूंका जाना
  5. सुर क्या है ?
  6. दो सुर फुंकने के दरमियान कितना वक्त होगा ?
  7. सुर फुकने के बाद कौन होश में बाकि रहेंगे ?
क़यामत क्या है और क्यों आएगी?

क़यामत क्यां, क्यों और कब | मैदाने हश्र (पार्ट: १)

  1. क़यामत क्या है ?
  2. क़यामत क्यों आएगी ?
  3. क़यामत कब आएगी ?
  4. सबसे बड़े ज़ालिमों पर क़यामत नाज़िल होगी
  5. ठंडी हवा के जरिए तमाम मोमिनो को मौत दी जाएगी
  6. हज़ार में 999 दोजखी होंगे
सऊदी अरब के इमाम ने ख्वाब में नबी सलल्लाहु अलैहि वसल्लम को देखा है...

इस मेसेज को २२ लोगों को भेजोगे तो ५ दिन में खुशखबरी मिलेगी?

एक ज़माने से सोशल मीडिया पर ऐसे मेसेजेस की भरमार लगी हुई है के,

सऊदी अरब के इमाम ने ख्वाब में नबी सलल्लाहु अलैहि वसल्लम को देखा है, फलाल फलाह पैगाम आया है, लोगो को हुक्म दिया जाये के कुरआन की तीलावत करो, इस मेसेज को २२ लोगों को भेजोगे तो ५ दिन में खुशखबरी मिलेगी, और जो इसको जाया करेगा तो १५ साल तक कोई ख़ुशी नहीं मिलेगी।

क्या वाकय में ऐसे मेसेज को वायरल करने से खुशखबरी मिलेगी?
हकीकत जानिए 👇

14 Zil Hijjah | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

14. जिल हिज्जा | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

14 Zil Hijjah | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

  1. इस्लामी तारीख
  2. हुजूर (ﷺ) का मुअजीजा
  3. एक फर्ज के बारे में
  4. एक सुन्नत के बारे में
  5. एक अहेम अमल की फजीलत
  6. एक गुनाह के बारे में
  7. दुनिया के बारे में
  8. आख़िरत के बारे में
  9. तिब्बे नबवी से इलाज
  10. नबी (ﷺ) की नसीहत
13. जिल हिज्जा | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

13. जिल हिज्जा | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

  1. इस्लामी तारीख:
  2. अल्लाह की कुदरत
  3. एक फर्ज के बारे में
  4. एक सुन्नत के बारे में
  5. एक अहेम अमल की फजीलत
  6. एक गुनाह के बारे में
  7. दुनिया के बारे में
  8. आख़िरत के बारे में
  9. तिब्बे नबवी से इलाज
  10. क़ुरान की नसीहत
12. जिल हिज्जा | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

12. जिल हिज्जा | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

  1. इस्लामी तारीख:
  2. हुजूर (ﷺ) का मुअजीजा:
  3. एक फर्ज के बारे में:
  4. एक सुन्नत के बारे में:
  5. एक अहेम अमल की फजीलत:
  6. एक गुनाह के बारे में:
  7. दुनिया के बारे में :
  8. आख़िरत के बारे में
  9. तिब्बे नबवी से इलाज
  10. नबी (ﷺ) की नसीहत:
11 Zil Hijjah | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

11. जिल हिज्जा | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

  1. इस्लामी तारीख:
  2. अल्लाह की कुदरत:
  3. एक फर्ज के बारे में:
  4. एक सुन्नत के बारे में:
  5. एक अहेम अमल की फजीलत:
  6. एक गुनाह के बारे में:
  7. आख़िरत के बारे में:
  8. तिब्बे नबवी से इलाज:
  9. कुरआन की नसीहत:
9 Zil Hijjah जिल हिज्जा

9. जिल हिज्जा | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

च्यूँटी अल्लाह की कुदरत का नमूना है, एक फर्ज: नमाज के लिये मस्जिद जाना, हर नमाज के बाद तस्बीह फातिमी अदा करना,
औरतों का खुशबु लगाकर बाहर निकलने का गुनाह, तिब्बे नबवी से इलाज: नजर लगने से हिफाजत, नबी (ﷺ) की इताअत की अहमियत …

जो क़ुरबानी ना कर सके वो क़ुरबानी का सवाब कैसे पाए ?

जो क़ुरबानी ना कर सके वो क़ुरबानी का सवाब कैसे पाए ?

जो शख़्स कुरबानी करने की ताक़त नहीं रखता हो उसे कुरबानी करने का सवाब कैसे मिलेगा?

रसूलअल्लाह (ﷺ) ने एक आदमी से फ़रमाया :

मुझे कुरबानियों वाले दिन को ईद बनाने का हुक्म दिया गया है जिसे अल्लाह तआला ने इस उम्मत के लिए मुकर्रर फ़रमाया है। 

उस शख़्स ने अर्ज़ किया अगर मेरे पास दूध वाली बकरी के इलावा कोई और जानवर कुरबानी के लिए न हो तो फरमाइए क्या मैं उसे ही ज़बह कर दू ? 

आप ने फ़रमाया नही! लेकिन तू (कुरबानी वाले दिन) अपने (जिस्म के) बाल काट ले , नाखून और मुंछे तराश ले और ज़ेरे नाफ बाल साफ़ कर ले अल्लाह तआला के यहां तेरी तरफ़ से यहीं मुकम्मल कुरबानी शुमार होगी।

( सुनन निसाई #4370 / सहीह )

8 Zil Hijjah

8. जिल हिज्जा | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

  1. इस्लामी तारीख:
  2. हुजूर (ﷺ) का मुअजीजा:
  3. एक फर्ज के बारे में:
  4. एक सुन्नत के बारे में:
  5. एक गुनाह के बारे में:
  6. दुनिया के बारे में :
  7. आख़िरत के बारे में:
  8. तिब्बे नबवी से इलाज:
  9. नबी (ﷺ) की नसीहत:
← PREVNEXT →
7. जिल हिज्जाLIST9. जिल हिज्जा
7 Zil Hijjah

7. जिल हिज्जा | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

सीरत – इमाम नसई (रहमतुल्लाहि अलैहि), मुखतलिफ तरीके से पानी का उतरना, एक फर्ज : आप (ﷺ) की आखरी वसिय्यत, एक अहेम अमल: अरफ़ा के दिन रोजा रखना, नमाज़ दिखलावे के लिये पढ़ने का गुनाह, कुरआन की नसीहत: गवाही मत छुपाया करो …

हज का सुन्नत तरीका ~ कुरआन व सुन्नत की रौशनी में

हज का तारूफ , हज्ज के फ़र्ज़ होने की शर्तें, हज में एहतियात करने वाली बाते, एहराम की हालत में मना की हुई चीज़ें, हज्ज के तीन किस्मे, यौमूत्तर्वियह, अरफा का दिन , मुज़दलिफा में रात बिताना, यौमुन्नह्र (10 जिल हिज्जा – क़ुरबानी का दिन), अय्यामुत्तश्रीक़ (11,12,13 जिल हिज्जा), जिल हिज्जा की 12वीं तारीख