Browsing Tag

Hadees

धोकेबाजी से सावधान रहें।

धोकेबाजी से सावधान रहें। "झूठे वादे और चमक-धमक वाले उपहारों के द्वारा अनुचित कर्म करवाने का आह्वान करने वाले, दोस्त नहीं धोखेबाज हैं।" नकली संबंधों में अपनी गरिमा और जीवन का बलिदान न करें।Ref: Wisdom Media School
Read More...

धर्म आत्मज्ञान के लिए है तथा आस्था, कर्म और संस्कृति का संगम जब होता है

धर्म आत्मज्ञान के लिए है। "आस्था, कर्म और संस्कृति का संगम जब होता है तब धर्म प्रबुद्ध होता है। इन में से एक की भी कमी धर्म की आत्मा को नष्ट कर देती है।"
Read More...

एकजुट हो कर रहें। और सब मिलकर अल्लाह की रस्सी को मज़बूती से पकड़ लो [कुरआन ३:१०३]

एकजुट हो कर रहें। और सब मिलकर अल्लाह की रस्सी को मज़बूती से पकड़ लो और विभेद में न पड़ो। ( कुरआन ३:१०३ ) Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com
Read More...

Ziyada Se Ziyada Sajdey Kiya Kare

۞ Hadees: Ubadah Bin Sabit (R.A) se riwayat hai ki, Rasool'Allah (ﷺ) ne farmaya -"Jo Banda Allah Ta'ala ko Ek Sajda bhi Karta hai, Tou Allah Ta'ala Uskey liye Ek Neki Likhega aur Ek Gunaah Muaf Farma Dega, aur Ek Darja Buland Farmayega…
Read More...

Duniya ki Misaal Aakhirat ke Muqable me

۞ Hadees: Mustawrid (R.A) se riwayat hai ki, Rasool'Allah (ﷺ) ne farmaya :"Duniya ki Misaal Aakhirat ke Muqable me Aisee hai Jaisey Tum me se Koi Apni Ungli Samandar me Daley Phir Dekhey ki Kitna Paani Uski Ungli me Lagta hai."
Read More...

Takabbur aur Dikhawe Wale Aamal se Bacha karo

۞ Hadees: Abu Darda (RaziAllahu Anhu) se marwi hain, Unohne Huzoor (Sallallahu Alaihay Wasallam) se Arz kiya "Mujhe Wasiyat Farmayiye"!*Aap (Sallallahu Alaihay Wasallam) ne farmaya : "Pakeeza Hunar Ikhtiyar kar, Nek Amal kar, Allah…
Read More...

जानिए- क्यों मनाई जाती ही क़ुरबानी ईद ? (क़ुरबानी की हिक़मत)

" कह दो कि मेरी नमाज़ मेरी क़ुरबानी 'यानि' मेरा जीना मेरा मरना अल्लाह के लिए है जो सब आलमों का रब है ।"- बकरा ईद का असल नाम "ईदुल-अज़हा" है, मुसलमानों में साल में दो ही त्यौहार मजहबी तौर पर मनाए जाते हैं एक "ईदुल फ़ित्र" और दूसरा "ईदुल…
Read More...

ईद उल अजहा / क़ुरबानी ईद मुबारक। Eid ul Adha Mubarak 2020

ईद उल अजहा (क़ुरबानी ईद) हर मुसलमान के लिए एक अहम मौका होता है।कुछ लोगो की गलतफहमी है कि इस्लाम की स्थापना मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने की, ये बात वो बिना लेखक की फालतु किताब वाले बोलेंगे जिन्हे इस्लाम के नाम से हमेशा डराया जाता…
Read More...

4. ज़िल कदा | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा 5 Minute Ka Madarsa in Hindiइस्लामी तारीख: मिनाहुजूर (ﷺ) का मुअजीजा: जख्मी पैर का अच्छा हो जाना एक फर्ज के बारे में: बीवी के साथ अच्छा सुलूक करना एक सुन्नत के बारे में: एहराम बांधे तो इस तरह…
Read More...

3. ज़िल कदा | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: सफा व मरवाहअल्लाह की कुदरत: अंडे से बच्चे का पैदा होना एक फर्ज के बारे में: मीकात से एहराम बांध कर गुज़रना एक सुन्नत के बारे में: एहराम से पहले खुशबु लगाना एक अहेम अमल की फजीलत: हज के दौरान गुनाहों से बचना…
Read More...

2. ज़िल कदा | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: ज़मज़म का चश्माहुजूर (ﷺ) का मुअजीजा: आप (ﷺ) की दुआ से सर्दी खत्म हो गई एक फर्ज के बारे में: सफा और मरवाह की सई करना एक सुन्नत के बारे में: एहराम बांधने की दुआ एक अहेम अमल की फजीलत: बैतुल्लाह का तवाफ करना…
Read More...

1. ज़िल कदा | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: बैतुल्लाह की तामीरअल्लाह की कुदरत: सूरज अल्लाह की निशानी एक फर्ज के बारे में: इस्लाम की बुनियाद एक सुन्नत के बारे में: एहराम के लिये गुस्ल करना एक अहेम अमल की फजीलत: हज व उमरह एक साथ करना एक गुनाह के…
Read More...

30. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: हजरत सुहेल बिन अम्र (र.अ)हुजूर (ﷺ) का मुअजिजा: एक वसक जौ में बरकत एक फर्ज के बारे में: बीवी को उस का महर देना एक सुन्नत के बारे में: औलाद के फर्माबरदार होने के लिए एक अहेम अमल की फजीलत: पहली सफ की फजीलत…
Read More...

29. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: हज़रत अनस बिन मालिक (र.अ)अल्लाह की कुदरत: सितारों में अल्लाह की कुदरत एक फर्ज के बारे में: दीन में पैदा की हुई नई बातों से बचना (बिद्दत से बचना) एक सुन्नत के बारे में: सोने के आदाब एक अहेम अमल की फजीलत:…
Read More...

28. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: रसूलुल्लाह (ﷺ) के बेटेहुजूर (ﷺ) का मुअजिजा: नबी (ﷺ) की दुआ से बारिश का होना एक फर्ज के बारे में: नमाज़ों को सही पढ़ने पर माफी का वादा एक सुन्नत के बारे में: सुबह व शाम पढ़ने की दुआ एक अहेम अमल की फजीलत:…
Read More...

Gadhe, Kutte aur Murghe ki aawaaz sun kar yeh dua kare

✦ Gadhe ki aawaaz aur kutte ki bhonk sun kar yeh Dua kare ❝ أَعُوذُ بِاللهِ مِنَ الشَّيْطَانِ الرَّجِيمِ  ❞ 〘 Auzu Billahi Minash Shaitanir Rajim 〙- (Allah ki Panah Mangta/Mangti hu Shaitan Mardud ke Sharr se)      📕 Sahih…
Read More...

27. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: हजरत फ़ातिमा बिन्ते रसूलुल्लाह (ﷺ)अल्लाह की कुदरत: रात और दिन का अदलना बदलना एक फर्ज के बारे में: बीवी की विरासत में शौहर का हिस्सा एक सुन्नत के बारे में: दुआ के खत्म पर चेहरे पर हाथ फेरना एक गुनाह के बारे…
Read More...

26. शव्वाल | सिर्फ पाँच मिनट का मदरसा (कुरआन व हदीस की रौशनी में)

इस्लामी तारीख: हजरत उम्मे कुलसूम बिन्ते रसूलुल्लाह (ﷺ)हुजूर (ﷺ) का मुअजिजा: मशकीजे के पानी का खत्म न होना एक फर्ज के बारे में: सूद से बचना एक सुन्नत के बारे में: हलाल रिज्क और इल्मे नाफे की दुआ एक अहेम अमल की फजीलत: वुजू…
Read More...

25. शव्वाल | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

(1). हजरत रुकय्या बिन्ते रसूलुल्लाह (र.अ), (2). अल्लाह का बा बरकत निजाम, (3). सजद-ए-तिलावत अदा करना, (4). बीमारों की इयादत करना, (5). किसी की बात को छुप कर सुनना, (6). दुनिया से बेरग़वती का इनाम, (7). जन्नतियों का लिबास, (8). हर बीमारी का…
Read More...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More