Browsing Category

हिंदी हदिस

मां बेहतरीन सुलुक की ह़क़दार है…

पोस्ट 02: मां बेहतरीन सुलुक की ह़क़दार हैअबू हुरैराह रजिअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है फ़रमाते हैं: एक शख़्स़ अल्लाह के रसूल ﷺ के पास आया और कहा: ऐ अल्लाह के रसूल, मेरे अच्छे सुलूक का सबसे ज़ियादा ह़क़दार कौन है ? आप ﷺ ने फ़रमाया: तेरी…
Read More...

अल्लाह की रह़मत समझाने के लिए मां की रह़मत की त़रफ़ इशारा करना

पोस्ट 01: अल्लाह की रह़मत समझाने के लिए मां की रह़मत की त़रफ़ इशारा करनाउमर बिन ख़त्ताब रजिअल्लाहु अ़न्हु फ़रमाते हैं कि वो अल्लाह के नबी ﷺ के पास कुछ क़ैदी ले कर आए । उन कैदियों में एक औ़रत भी थी जो (अपने) बच्चे को तलाश कर रही थी ।…
Read More...

तुम में सबसे अच्छा वह है जो अपनी क़ौम के लोगों के अत्याचार का विरोध करे और स्वयं वह पाप न करे।

पैग़म्बर मुहम्मद(ﷺ) ने फ़रमाया: "तुम में सबसे अच्छा वह है जो अपनी क़ौम के लोगों के अत्याचार का विरोध करे और स्वयं वह पाप न करे।" 📕 अबू दाऊद Source: islamshantihai.com
Read More...

सताए हुए की ‘आह’ से बचो क्यूंकि उसके और अल्लाह के मध्य कोई रुकावट नहीं होती।

पैग़म्बर मुहम्मद (ﷺ) ने फरमाया कि: "सताए हुए की 'आह' से बचो क्यूंकि उसके और अल्लाह के मध्य कोई रुकावट नहीं होती।" (बुख़ारी) Source: islamshantihai.com
Read More...

जो शख्स रिश्तेदारों का हक अदा करने के लिए सदके का दरवाज़ा खोलता है तो अल्लाह तआला उस की दौलत को बढ़ा…

♥ हदीसे नबवी (ﷺ) : रसूलअल्लाह (सलल्लाहू अलैहि वसल्लम) फरमाते है, “जो शख्स रिश्तेदारों का हक अदा करने के लिए सदके का दरवाज़ा खोलता है तो अल्लाह तआला उस की दौलत को बढ़ा देता है” – (मुस्नदे अहमद: 9624) Source: islamshantihai.com
Read More...

किसी मोमिन (आस्तिक) के लिए ये उचित नहीं कि उसमें लानत करते रहने की आदत हो।

पैग़म्बर मुहम्मद ने फरमाया: "किसी मोमिन (आस्तिक) के लिए ये उचित नहीं कि उसमें लानत करते रहने की आदत हो।" 📕 तिरमिज़ी Source: islamshantihai.com
Read More...

अल्लाह रफ़ीक (नरम) है, नरमी को पसंद करता है तथा नरमी बरतने पर वह जो …

इस्लाम की एक विशेषता यह भी है कि यह लोगों के ऊपर दया था कृपा करने वाला धर्म है पैग़म्बर मुहम्मद ने फ़रमाया किः “अल्लाह रफ़ीक (नरम) है, नरमी को पसंद करता है तथा नरमी बरतने पर वह जो कुछ देता है सख़्ती बरतने पर नहीं देता। Source:…
Read More...

नमाज़ की सुरह और उनका हिंदी तर्जुमा (अनुवाद) | Namaz ki Surah aur unka Hindi Tajuma (4 Qul Hindi)

नमाज़ में अक्सर पढ़ी जाने वाली क़ुराण की सूरह और उनका हिंदी तर्जुमा ۞ Bismillah-Hirrahman-Nirrahim ۞यूँ तो क़ुरआन की हर सूरह नमाज़ में पढ़ी जा सकती है , लेकिन हम यहाँ सिर्फ ७ ही सूरह का ज़िक्र कर रहे है जो बोहोत ही आसान है और अक्सर इन्हे नमाज़…
Read More...

जो कोई दिल से ‘अल्हम्दुलिल्लाही रब्बिल आलमीन’ कहेगा उसके लिए 30 नेकियां लिखी जाएगी

अलहम्दुलिल्लाह की फ़ज़ीलत - 30 नेकियां और 30 गुनाह मुआफ

🌟 रसूलअल्लाह (सलअल्लाहू अलैही वसल्लम) ने फरमाया : ❝जो कोई दिल से अल्हम्दुलिल्लाही रब्बिल आलमीन कहेगा (यानी ज़ुबान के साथ दिल से भी इसका यकीन हो की तमाम तारीफें अल्लाह के लिए हैं और वही सारे जहाँ का पालने वाला है) तो उसके लिए 30 नेकियां…
Read More...

इस्लाम सुलह और शांति सिखाता है

Islam hume Sulah aur Shanti sikhata hai

♥ मफहूम-ऐ-हदीस ﷺ अल्लाह के नबी (सलल्लाहो अलैहि वसल्लम) ने एक रोज़ सहाबा से फ़रमाया: "क्या मै तुम्हे उस चीज़ के बारे में न बता दू जिसका दर्जा रोज़े , नमाज़ , सदके से भी ज्यादा ?" लोगो ने जवाब दिया: ए अल्लाह के रसूल! हमे जरुर बताये!आप…
Read More...

Sabse Acche aur Bure Hakim ki Pehchan – About the Best and the Worst Leader

सबसे अच्छे और बुरे नेताओं के बारे में अल्लाह के पैगम्बर (ﷺ) की हदिस

۞ Hadees: Umar bin Khattab (R.A.) se riwayat hai ke Allah ke Rasool (Salallahu Alaihi Wasallam) ne farmaya: ❝ Kya mai tumhe sabse acche aur bure Hakim ke bare na bata du ?"  Sabse Acche Haqim wo hai jinse Tum(Riyaya) Mohabbat kare aur wo…
Read More...

Sharab se bacho kyunki wo har burayi ki chabi hai

शराब से बचो इसलिए क्यूंकि वो हर बुराई की चाबी है।

❝ शराब से बचो इसलिए क्यूंकि वो हर बुराई की चाबी है।❞अल्लाह के अंतिम पैगम्बर (ﷺ) (हदिस: मुस्तदरक: ७३१३)❝ Sharab se bacho isiliye kyunki wo har burayi ki chabi hai.❞Allah ke Rasool (ﷺ) (Hadith: Mustadrak: 7313)…
Read More...

दुआ इबादत है – तो इबादत के उसूल – हदीस की रौशनी में

♥ मह्फुम ऐ हदीस: हजरत अब्दुल्लाह इब्न अब्बास (रज़ि0) का बयान है कि एक दिन मैं अल्लाह के अन्तिम रसूल मुहम्मद (सलाल्लाहो अलैहि वसल्लम) के पीछे सवारी पर बैठा था कि आपने फऱमायाः ऐ बेटे! मैं तुम्हें कुछ बातें सिखाता हूं: अल्लाह को याद रख,…
Read More...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More