लोगों के लिये वही चीज पसंद करो जो तुम अपने लिये पसंद करते हो

रसूलअल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “तक़वा व परहेजगारी इख्तियार करो, सब से बड़े इबादत गुजार …

Read Moreलोगों के लिये वही चीज पसंद करो जो तुम अपने लिये पसंद करते हो

Quran wa Hadees Sunnat ki Nasihat

किसी गुनाह को छोटा और मामूली न समझो

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया:

“ऐ आयशा खुद को उन गुनाहों से भी बचाने की कोशिश करो जिन का छोटा और मामूली समझा जाता है, क्यों कि इस पर भी अल्लाह की तरफ से फरिश्ता मुकर्रर है जो उस को लिखता रहता है।”

📕 इब्ने माजाह ४२५३ अन आयशा (र.अ)

5/5 - (1 vote)

औरतों को उनके मेहर खुश दिली से दिया करो

कुरआन में अल्लाह तआला फर्माता है :

“तुम औरतों को उनके मेहर खुश दिली से अदा कर दिया करो। हाँ अगर वह औरतें अपनी खुशी से उस महेर में से कुछ तुम्हारे लिए छोड़ दें तो उसको लज़ीज और खुशगवार समझ कर खा लिया करो।”

📕 सूरह निसा ४

5/5 - (3 votes)
Quran wa Hadees Sunnat ki Nasihat

क्या ईमान वालों के लिये अभी तक ऐसा वक़्त नहीं आया?

कुरआन में अल्लाह तआला फर्माता है :

“क्या ईमान वालों के लिये अभी तक ऐसा वक़्त नहीं आया, के उनके दिल अल्लाह की नसीहत और जो दीने हक़ नाज़िल हुआ है, उसके सामने झुक जाएँ। और वह उन लोगों की तरह न हो जाएँ जिन को उन से पहले किताब दी गई थी।”

यानी वह वक़्त आ चुका है के मुसलमानों के दिल कुरआन और अल्लाह की याद और उसके सच्चे दीन के सामने झुक जाएँ।”

📕 सूरह हदीद: १६

© HindiQuran.in

Rate this quotes
Quran wa Hadees Sunnat ki Nasihat

छह चीजों की जमानत: जब बात करो तो सच बोलो

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया :

“तुम अपनी तरफ से मुझे छह चीजों की जमानत दे दो मैं तुम्हें जन्नत की जमानत देता हूँ। जब तुम बात करो तो सच बोलो, जब वादा करो तो पूरा करो, जब तुम्हारे पास अमानत रखी जाए तो अमानत अदा करो, अपनी शर्मगाहों की हिफाजत करो, अपनी आँखों को नीचे रखो और अपने हाथों को (जुल्म व सितम से) रोके रखो।”

📕 मुस्नदे अहमद : २२२५१, अन उबादा बिन सामित (र.अ)

Rate this quotes
Quran wa Hadees Sunnat ki Nasihat

ग़रीबों से मुहब्बत और उन के करीब रहने की वसिय्यत

हज़रत अबू जर (र.अ) फर्माते हैं के मुझे मेरे दोस्त रसूलुल्लाह (ﷺ) ने वसिय्यत फर्माई :

“मैं अपने से जियादा मालदार की तरफ न देखू और अपने से कम दर्जा वाले (कम मालदार) की तरफ देखू और ग़रीबों से मुहब्बत और उन के करीब रहने की वसिय्यत फर्माई और सिला रहमी करने की वसिय्यत फ़रमाई अगरचे वह तुमसे पीठ फेरे।”

📕 सहीह इब्ने हिम्बान : ४५०, अन अबी जर (र.अ)

Rate this quotes
Ummate Nabi Android Mobile App