गुनाहों को छोड़ देना बेहतरीन हिजरत है 

Ummat-e-Nabi-Thumbnail-C

हज़रत अनस की वालिदा ने सरकारे दो आलम (ﷺ) की
खिदमत में हाज़िर हो कर अर्ज किया: मुझे कुछ वसिय्यत फर्माइये। 

आप (ﷺ) ने इर्शाद फ़ाया :

“गुनाहों को छोड़ देना बेहतरीन हिजरत है, फ़राइज़ की हिफ़ाज़त करना बेहतरीन जिहाद है और ज़िक्रे इलाही ब कसरत करती रहो, इस लिए के तुम अल्लाह के यहाँ इस से जियादा महबूब चीज़ लेकर नहीं आ सकती हो।” 

📕 तबरानी कबीर : २०८२१

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *