वसिय्यत के लिए दो इंसाफ पसंद लोग गवाह हो

वसिय्यत के लिए दो इंसाफ पसंद लोग गवाह हो

कूरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है:

“ऐ ईमान वालो ! जब तुम में से किसी को मौत आने लगे वसीय्यत के वक्त शहादत के लिये तूम (मुसलमानों) में से दो इन्साफ पसन्द आदमी गवाह होने चाहिये या फिर तुम्हारे अलावा दूसरी कौम के लोग गवाह होने चाहिये। जैसे तुम सफर में गए हो, फिर तुम्हें मौत का हादसा आ जाए।”

📕 सूरह मायेदा: १०६

Leave a Comment