एक गुनाह के बारे में | Ek Gunaah ke baare mein

हराम चीज़ों का बयान

क़ुरान में अल्लाह तआला फ़रमाता है – “तुम पर मरा हुआ जानवर, खून और खिंजीर का गोश्त हराम कर दिया

इंसाफ न करने का वबाल

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “जो शख्स मेरी उम्मत की किसी छोटी या बड़ी जमात का जिम्मेदार बने फिर उनके

बुरे आमाल की नहूसत

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है: “खुश्की और तरी (यानी पूरी दुनिया) में लोगों के बुरे आमाल की वजह से

फसाद फैलाने की सज़ा

कुरआन में अल्लाह तआला फरमाता है: “जो लोग अल्लाह और उसके रसूल से लड़ते हैं, जमीन में फसाद करने की

जकात न देने का गुनाह

रसूलुल्लाह ने फरमाया : “जकात का अदा न करने वाला क़यामत के दिन जहन्नम में जाएगा।”

सूद खाने का अजाब

रसूलुल्लाह (ﷺ) फ़रमाते हैं के : “मेराज की शब मेरा गुजर चंद ऐसे लोगों पर हुआ जिन के पेट धड़ों

close
Ummate Nabi Android Mobile App