अल्लाह के लिये मुहब्बत का बदला hadees in hindi

अल्लाह के लिये मुहब्बत का बदला

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया:
अल्लाह तआला क़यामत के दिन फरमाएगा।

“मेरी अजमत की वजह से आपस में मुहब्बत करने वाले लोग आज कहाँ हैं ?
मैं आज उन को अपने साए में जगह दूँगा जब के मेरे साए के अलावा कोई साया न होगा।”

📕 मुस्लिम: ६५४८

5/5 - (3 votes)

बीमारी की शिकायत न करना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया :

“अल्लाह तआला फर्माता है के मै जब अपने मोमिन बंदे को (बीमारी में) मुबतला करता हूँ और वह अपनी इयादत करने वालों से मेरी शिकायत नहीं करता, तो मैं उस को अपनी कैद (यानी बीमारी) से नजात दे देता हूँ, और फिर उस के गोश्त को उससे उम्दा गोश्त और उसके खून को उम्दा खून से बदल देता हूँ ताके नए सिरे से अमल करे।”

📕 मुस्तरदक १२९०, अन अबी हुरैरह (र.अ)

खुलासा: अगर कोइ बिमार हो जाए, तो सब्र करना चाहिए, किसी से शिकायत नही करनी चाहिए, उस पर इसे अल्लाह तआला इन्आमात से नवाज़ता हैं।

Rate this quotes
एक अहेम अमल की फजीलत | Ek Aham amal ki Fazilat

मुसाफा से गुनाहों का झड़ना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया :

“जब मोमिन दूसरे मोमिन से मिल कर सलाम करता है और उस का हाथ पकड़ कर मुसाफा करता है, तो उन दोनों के गुनाह इस तरह झड़ते हैं जैसे दरख्त के पत्ते गिरते हैं।”

📕 तबरानी औसत : २५०, अन हुजैफा (र.अ)

4.9/5 - (101 votes)
एक अहेम अमल की फजीलत | Ek Aham amal ki Fazilat

जन्नत में दाखिल करने वाली चीज़

रसूलुल्लाह (ﷺ) से पूछा गया के, “लोगों को सब से ज़ियादा जन्नत में दाखिल करने वाली क्या चीज़ है?” आप (ﷺ) ने फर्माया : “अल्लाह से डरना और अच्छे अख्लाक़,

और सब से ज़ियादा आग में दाखिल करने वाली चीज़ के बारे में सवाल किया गया।
तो आप (ﷺ) ने फर्माया : मुंह और शर्मगाह।”

📕 तिर्मिज़ी : २००४, अन अबी हुरैरा (र.अ)

Rate this quotes
एक अहेम अमल की फजीलत | Ek Aham amal ki Fazilat

अल्लाह के लिये अपने भाई की जियारत करना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया :

“क्या मैं तुम्हें जन्नती लोगों के बारे में खबर न करूं? सहाबा (र.अ) ने अर्ज किया: जरूर या रसूलल्लाह (ﷺ)!

आप (ﷺ) ने फर्माया: नबी जन्नती है, सिद्दीक जन्नती है और वह आदमी जन्नती है जो सिर्फ अल्लाह की रजा के लिये शहर के दूर दराज इलाके में अपने भाई की जियारत के लिये जाए।

📕 तबरानी औसत: १८१०, अन अनस बिन मालिक (र.अ)

Rate this quotes
एक अहेम अमल की फजीलत | Ek Aham amal ki Fazilat

अपने अख़्लाक़ दुरूस्त करने की फ़ज़ीलत

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया :

“कामयाब हो गया वह आदमी जिस ने अपने दिल को ईमान के लिये सफारिश कर दिया और उसे सही सालिम रखा और अपनी जबान को सच्चा बनाया, अपने नफ़्स को नफ्से मुतमइन्ना और अख़्लाक़ को दुरूस्त बनाया और कानों को हक़ बात सुनने का और आँखों को अच्छी चीजों को देखने का आदी बनाया।”

📕 मुस्नदे अहमद: २०८०३, अन अबी जर (र.अ)

Rate this quotes

इज्जत की हिफाज़त करना

रसूलल्लाह (ﷺ) ने फरमाया :

“जिस ने पीठ पीछे अपने भाई की इज्जत की हिफाजत की। अल्लाह तआला अपनी जिम्मेदारी से उस को (जहन्नम की) आग से आज़ाद कर देगा।”

Rate this quotes

Ummate Nabi Android Mobile App