शव्वाल में छ: (६) रोजे की फ़ज़ीलत

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया:

“जो शख्स रमजान के रोजों को रखने के बाद शव्वाल के छ: (६) रोजे भी रखे, तो वह पूरे साल के रोजे रखने के बराबर है।

फायदा: जो शख्स शव्वाल के पूरे महीने में कभी भी इन छ रोजों को रखेगा तो वह इस फजीलत का मुस्तहिक होगा।

 

📕 मुस्लिम : २७५८

और देखे :

Share on:

Trending Post

Leave a Reply

close
Ummate Nabi Android Mobile App