मुसाफा से गुनाहों का झड़ना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया :

“जब मोमिन दूसरे मोमिन से मिल कर सलाम करता है और उस का हाथ पकड़ कर मुसाफा करता है, तो उन दोनों के गुनाह इस तरह झड़ते हैं जैसे दरख्त के पत्ते गिरते हैं।”

📕 तबरानी औसत : २५०, अन हुजैफा (र.अ)

और देखे :

Trending Post

Leave a Reply

Ummate Nabi Android Mobile App