फर्ज अमल के बारे में | Ek Farz ke Baare mein

हज की फरज़ियत

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया : “ऐ लोगो ! तुम पर हज फर्ज़ कर दिया गया है, लिहाजा उस को अदा

फर्ज अमल के बारे में | Ek Farz ke Baare mein

अस्र की नमाज़ की फज़ीलत

एक मर्तबा रसूलुल्लाह (ﷺ) ने अस्र की नमाज़ पढ़ाई और फिर लोगों की तरफ मुतवज्जेह हो कर फ़रमाया – “यह

Taqdeer par iman lana

तक़दीर पर ईमान लाना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया : “हर चीज़ तकदीर से है, यहाँ तक के आदमी का नाकारा और ना काबिल और

कर्ज़ अदा करना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया : “क़र्ज़ की अदायगी पर ताकत रखने के बावजूद टाल मटोल करना जुल्म है।”

दाढ़ी रखने की अहमियत

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “मूंछों को कतरवाओ और दाढ़ी को बढ़ाओ।” वजाहत: दाढी रखना शरीअते इस्लाम में वाजिब और

आप (ﷺ) की आखरी वसिय्यत

रसूलल्लाह (ﷺ) ने आखरी वसिय्यत यह इरशाद फ़रमाई : “नमाजों और अपने ग़ुलामों के बारे में अल्लाह तआला से डरो।”

नमाज़ के छोड़ने पर वईद

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया : “नमाज़ का छोड़ना आदमी को कुफ्र से मिला देता है।” [मुस्लिम : २४६] एक दूसरी

इल्म हासिल करना एक फ़र्ज़

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “इल्म हासिल करना हर मुसलमान पर फर्ज है।” फायदा : हर मुसलमान पर इल्मे दीन

जमात से नमाज़ अदा करना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया: “जिस ने तक्बीरे ऊला के साथ चालीस दिन तक अल्लाह की रज़ा के लिए जमात के

ज़कात अदा करना

हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसऊद (र.अ) इर्शाद फ़र्माते हैं के हमें नमाज़ कायम करने का और जकात अदा करने का हुक्म

हज किन लोगों पर फर्ज है ?

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है: “अल्लाह के वास्ते उन लोगों के जिम्मे बैतुल्लाह का हज करना (फर्ज) है, जो

नमाज़ छोड़ने पर वईद

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया : “नमाज का छोड़ना मुसलमान को कुफ़ व शिर्क तक पहुँचाने वाला है।”

अमानत का वापस करना

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है: “अल्लाह तआला तुम को हुक्म देता है के जिन की अमानतें हैं उनको लौटा

close
Ummate Nabi Android Mobile App