Ilm-Ki-Ahmiyat-15

Ilm Ki Ahmiyat: Part-15

Ek Mashoor Aur Maruf Shakhsiyat *Ms. Carleton Fiorina* Jo Ke H.P. Ki CEO Thi, Aur Iss Khatun Ne Ek Speech Di Thi Jo HP Ki All Worldwide Company Managers Ki Meeting Thi, Usmey Yeh Khatun CEO Thi Uss Zamane Me ..
Yeh Speech Usne Di Hai 26 September 2001 Ko ,.. Yaani 11 Sept 2001 Ko World Trade Center Ka Wakiya Hua Tha Jispar Musalmano Par Ilzam Par Lagaye Ja Rahe They ,..

Unki Speech English Me Thi Hum Uska Tarjuma Yaha Batane Ki Koshish Karte Hai ,..
Yeh Speech Bohot Himmat Bohot Jasarat Ki Cheez Hai. Jaha Musalman Apne Aap Ko Musalman Kahne Se Yaha Sharma Rahe They Jo Wakiya Waha Hua, Ye Khatun Jo Isayi Hai Isne Twin Tower Ke Blast Ke 2 Haftey Baad Ek Takreer Me Dunya Se Ailan Kiya Aur Kaha Aur Usne Shuruwat Yun Ki –

» Tarjuma: – @[156344474474186:]
* Ek Zamana Tha Ek Qoum Gujri Hai Jo Duniya Me Sabse Behtareen Qoum Thi, (Abhi Usne Naam Nahi Liya)
* Yeh Wo Qoum Thi Jisne Ek Aisi Hukumat Qayam Ki Jo Ek Barre Aazam Se Dusre Barre Azam Aur, Ek Pahadi Ilakey Se Dusre Ilakey Tak.,, Jangalaat Aur Tamam Digar Zameenat Inke Paas Thi ,..
* Inke Hukumat Ke Andar Hazaro Aur Lakho Log Rehte They Jo Mukhtalif Majahib Ke Man’ne Wale They ,..
* Iski Zubaan Dunia Ki Aalmi Zaban Ban Gayi Thi.. Aur Bohot Se Qoumo Ke Bich Me Tallukat Qayam Karne Ki Vajah Ban Gayi Thi Iski Zubaan ,..
* Iske Andar Jo Fouje Thi Wo Kayi Mukhataleef Mumalikat Se They.. Aur Jo Hifazat Inhone Di Aisi Hifazat Duniya Me Is Se Pahle Nahi Dekhne Ko Mili Kahi ,..
* Aur Tijarat South America Se Lekar China Tak Aur Tamam Bich Ke Ilako Tak Faili Hui Thi ,..

* Yeh Jo Qoum Thi Jis Cheez Se Chalti Thi Wo Inke Khayalat They, Inke Inkheshafat They, Inke Inventions They ,..
* Inke Engineers Ne Aisi Imaarate Banayi Jo Zameen Ke Kashish (Kuwwat) Ke Khilaf They.. Yaani Badi Badi Imaarate Tameer Karte They ,..
* Inke Mathematicians Jo They Inhone Algebra Aur Algorithm Jaise Subjects Ki Buniyad Daali Jo Aagey Chalkar Computer Ke Banane Aur Encryption Ki Technology Ijad Ho Saki ,..
* Inke Jo Tabib Doctors They Jo Insani Jismo Ko Janchtey Aur Naye-Naye Ilajat Nikaltey Unn Bimariyo Aur Kamjoriyo Ke ,..

* Inke Jo Ilm-e-Falkiyat Rakhne Wale Log They Wo Gour Karte Zameen Aur Aasman Me Aur Taaro Ko Naam Detey Aur Yahi Jarya Bani Aaj Ke Dour Ke Satellite Aur Digar Space Exploration Ka Jo Aaj Hum Inkashafat Kar Rahe Hai Uski Vajah Bani ,..
* Inke Jo Musaniff (Writers) They Wo Kitabe Likhtey They, Kahaniya Likhtey They,.. Kahaniya Jo Jasarat, Himmat, Taqat Quwwat Ki, Mohabbat Ki ,…
* Inke Jo Shayar They Wo Mohabbat Ke Baarey Me Shayriya Likhtey, Yeh Wo Zamana Tha Jab Dusre Iske Kahne Ke Liye Bohot Jyada Khoufjada Hua Karte They ,..

* Jab Dusre Log Naye Inkashafat Ke Baarey Me Sochana Bhi Unke Liye Khouf Tha Yeh Qoum Tou Soch Pe Jiya Karti Thi ,..
* Jab Duniya Iss Cheez Par Aa Chuki Thi Ke Pichley Qoumo Ka Ilm Mita Diya Jaye Iss Qoum Ne Wo Ilm Baaki Rakha Aur Logon Tak Pohchaya (Yaani Isayat Ne Jab Soch Liya Ke Jitna Pichla Greek Knowledge Tha Wo Mita Diya Jaye Tou Wo Ilm Musalmano Ne Ba’Salamat Logon Tak Pohchaya)

* Bohot Saari Cheeze Jo Aaj Ki Hum Duniya Me Dekh Rahe Hai, Istemal Kar Rahe Hai, Yeh Bohot Saari Cheeze Uss Qoum Ki Deyn Hai Jiske Baare Me Mai Baat Kar Rahi Hu, Wo “Islamic World” Hai.. Islami Qoum Hai,. Musalman Hai ,. Jisne 8 vi Sadi Se Lekar, 16 vi Sadi Tak Duniya Ko Mashal-e-Raah Dikhayi..
Aur Iske Andar Usmani Khalifa, Aur Bagdad,. Aur Shaam(Syriya) Aur Kahera, Misr Ki Libraries, Kutubkhane Aur Acche Hukumraah Jaise Ke “Suleiman The Magnificent” Bhi Moujdu They ..

Aagey Wo Kahti Hai Ke –
* Bohot Saari Cheeze Jo Humko Mili Hai Iss Qoum Se, Haala Ki Hum Jantey Hai, Fir Bhi Hum Inke Ahasanmand Nahi Hai ,..
Aur Aagey Wo Kehti Hai Ke – “Inki Yeh Deyn Aaj Humari Jindagi Ka Hissa Hai, Aur Technology Industries Aaj Wajud Me Nahi Hoti! Agar Musalman Scientist Na Hotey..

* * * * *
Kyunki Uska IT (Information Technology) Se Talluk Tha Wo HP Ki CEO Thi Usney Sirf Yeh Bataney Ke Liye Ke Aaj Hum Iss Company Ke Jarye Jiska Hum Fayda Utha Rahe Hai Yeh Kisi Ka Ahsan Hai Hum Par Jis Qoum Ne Hume Diya Hai, Wo Musalman They …

# Tou Andaza Lagayiye Kis Jasarat Se Usne 2 Hafte Baad Twin Tower Ke Blast Ke Baad Musalman Ka Naam Lena Buri Baat Samjhi Ja Rahi Thi Usi Mahoul Me America Me Iss Nonmuslim Khatun Ne Speech Di Aur Kaha Ke Yeh Qoum Tou Insaniyat Ke Fayde Ke Liye Aayi Hai …

# SABAQ:
– Tou Log Hume Jantey Hai,.. Log Hume Pahchan Rahe Hai, Siway Iske Ke Hum So Rahe Hai.. Jabki Log Tou Humko Jagana Chahtey Hai.. Yah Baat Yahi Tou Bata Rahi Hai Ke Maazi(Past) Me Humare Aaba-O-Azdad Ne Bohot Saare Tajurbaat,.. Bohot Saare Inkhsafat, Bohot Saare Karnaame Kiye! Chahe Wo Deeni Uloom Me Ho Ya Duniyawi! Dono Me Maharat Hasil Kiye They ,..

* Aaj Musalmano Ko Jarurat Hai Ke Hum Datt Jaye Iss Cheez Par, Jo Talibe Ilm School Jatey Hai, Yeh Ilm Bhi Iss Niyat Se Hasil Kare Ke Iska Bhi Ajar Aur Sawab Miley ,..
* Aur Saath Me Waliden Jaha Duniyawi Ilm Sikhatey Hai, Dini Ilm Ko Bhi Utni Hi Balki Us’se Jayda Tarji Dey,..
Ke Meri Aulaad Jaha Jabardast Hafize Quraan Ho, Wahi Ek Jabardast Duniyawi Kisi Funn Ka Maahir Bhi Ho..

* Aaj Ummat Ko Aise Logon Ki Jarurat Hai Jo Deen Me Maharat Rakhtey Hai Wo Duniya Me Bhi Maharat Rakhe..
* Tou Hume Agar Duniya Me Rehna Hai Aur Deen Par Chalna Hai Tab Bhi Humko Yeh Duniyawi Ilm Jan’na Hai.. Isliye Ke Iske Bagair Jina Bhi Mushkil Hai Humara,, Sahi Ilm Tak Pohach Nahi Payenge , Kya Humare Khilaf Hai Aur Kya Haq Me Wo Samjh Nahi Payenge.. Aur Fir Mohtaaj Ho Jaynge , Kamtar Hoi Jayenge, Baddtar Ho Jaynge ,.. Aur Jo Halat Ho Rahi Hai Behrahaal Hum Sabhi Dekh Rahe Hai.. Yeh Ilm Ko Chorrne Ka Natija Hai Deeni Aur Duniyawi ,.. Jiski Wajah Se Aaj Humpar Qoume Tasallud Kar Rahi Hai, Chahe Jis Bhi Naam Se Ho ,..

* Ilm Nafa Hi Nafa Deta Hai,.. Ilm Ka Kabhi Koi Nuksan Nahi Hai Yaad Rakhiye ,..
Kharch Kijiye Iske Upar Agar Paisa Lagta Hai.. Khub Maal Iske Liye Lutayiye, Isliyeke Ye Jayaz Jagah Jaha Aap Apna Maal Luta Sakte Hai..
Jis Tarha Se Humare Aaba-O-Azdad They Ke Deen Aur Duniya Dono Me Wo Maharat Rakhte They, Aur Aise Aise Kaarnamo Ko Anjam Diya Karte They Jisko Dekhkar Aaj Duniya Ungiliya Daba Leti Hai Apne Daanto Me.. Ke Kya Wakay Me Musalman Aise They? Ke Kya Wakay Me Musalmano Ka Yeh Ilm Tha,.

* Tou Lihaja Humare Yeh Aslaf Humare Liye Namuna Hai,.. Humko Yeh Dono Ilm Ko Wapas Usi Jagah Lakar Usi Tareeke Se Hasil Karna Hai,. Fir Insha’allah!! Wohi Zamana , Wohi Khushiya, Wohi Tamam Cheeze Humari Jindagi Me Wapis Lout Kar Aaynegi Jo Humari Deyn Thi Insaniyat Ko ,..

* Beharhaal Ilm Ki Ahmiyat Ko Samjhey Isko Jaaney Aur Isko Khub Hasil Kare ,..
Isi Post Ke Sath Hum Iss Unwaan Topic Ko Pura Karenge ,..

♥ Aakhir Me Allah Rabbul Izzat Ser Dua Hai Ke
# Allah Ta’ala Hum Parhne Sun’ne Se Jyada Amal Ki Taufik Dey,…
# Hum Tamam Ko Apni Mukaddas Kitab Quraan Majid Ko Padhna Samjhna Aur Iss Par Amal Karna Sikhaye ,..
# Jab Tak Hume Zinda Rakhey Islam Aur Imaan Par Zinda Rakhye…
# Khatma Humara Imaan Par Ho …
!!! Wa Akhiru Dawana Anilhamdulillahe Rabbil A’lameen !!!

☆ इल्म की अहमियत: पार्ट-१५
एक मशहूर और मारूफ शख्सियत “मिस. कार्लेटन फ्लोरीना” जो के H.P. की सीईओ थी, और इस खातून ने एक स्पीच दी थी जो H.P की “औल वर्ल्डवाइड कंपनी मैनेजर्स की मीटिंग” थी उसमे यह खातून सीईओ थी उस ज़माने में ..
*यह स्पीच उसने दी है २६ सितम्बर २००१ को यानी ११ सितम्बर २००१ को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर का वाकिया हुआ जिसपर मुसलमानो पर इलज़ाम पर इंल्जाम लगाये जा रहे थे …

उनकी स्पीच इंग्लिश में थी हम उसका तर्जुमा यहाँ बताने की कोशिश करते है …
*यह स्पीच बहुत हिम्मत बहुत जसारत की चीज़ है! जहाँ मुसलमान अपने आप को मुसलमान कहने से यहाँ शर्मा रहे थे जो वाकिया वहां हुआ! ये खातून जो ईसाई है इसने “ट्विन टावर” के बलास्ट के २ हफ्ते बाद एक तक़रीर में दुनिया से ऐलान किया और कहा और उसने शुरुआत यू की

» तर्जुमा:
*एक ज़माना था एक क़ौम गुज़री है जो दुनिया में सबसे बेहतरीन क़ौम थी (अभी उसने नाम नहीं लिया) ,..
*ये वो कौम थी जिसने एक ऐसी हुकूमत कायम की जो एक बर्रे आज़म से दूसरे बर्रे आज़म और एक पहाड़ी इलाक़े से दूसरे इलाक़े तक जंगलात और तमाम दीगर ज़मीनात इनके पास थी ,..
*इनके हुकूमत के अंदर हज़ारो और लाखो लोग रहते थे जो मुख्तलिफ मज़ाहिब के मानने वाले थे ,..
*इसकी ज़ुबान दुनिया की आलमी जुबान बन गयी थी और बहुत से क़ौम के बीच में ताल्लुकात कायम करने की वजह बन गई थी इसकी ज़ुबान ,..

*इसके अंदर जो फौजे थी कई मुख्तलीफ़ मुमालिकात से थे और जो हिफाज़त इन्होने दी ऐसी हिफाज़त दुनिया में इस से पहले नहीं देखने को मिली कहीं
और तिजारत साउथ अमेरिका से लेकर चीन तक और तमाम बीच के इलाक़ो तक फैली थी ,..

*यह जो क़ौम थी जिस चीज़ से चलती थी वो इनके खयालात थे, इनके इन्क्शाफात थे ,..
*इनके इंजीनियर्स ने ऐसी इमारते बनाई जो ज़मीन के कशिश (कुव्वत) के खिलाफ थे यानी बड़ी बड़ी इमारतें तामीर करते थे ,..

*इनके मैथमेटिक्स जो थे इन्होने अलजेब्रा और एल्गोरिथम जैसे सब्जेक्ट की बुनियाद डाली जो आगे चलकर कंप्यूटर के बनाने इनक्रीप्शन की टेक्नोलॉजी ईजाद हो सकी ,..
*इनके जो तबीब डॉक्टर्स थे जो इंसानी जिस्मो को जांचते और नए नए इलाज निकालते उन बीमारियो और कमज़ोरियों के ,..
*इनके जो इल्म-ए-फाल्कियत रखने वाले लोग थे वो गौर करते ज़मीन और आसमान में और तारो को नाम देते और यही जरिया बनी आज के दौर के सैटेलाइट और दीगर स्पेस एक्सप्लोरेशन का,.. जो आज हम इन्क्शाफात कर रहे है उसकी वजह बनी ,…

*इनके जो मुसन्निफ़ थे वो किताब लिखते थे कहानिया लिखते थे कहानिया जो जसारत, हिम्मत, ताक़त क़ुव्वत की मोहब्बत की ,..
*इनके जो शायर थे वो मोहब्बत के बारे में शायरियां लिखते! यह वो ज़माना था जब दूसरे इसके कहने के लिए बहुत ज़्यादा ख़ौफ़ज़दा हुआ करते थे
जब दूसरे लोग नयी इन्काशाफ़त के बारे में सोचना भी उनके लिए खौफ था यह क़ौम तो सोच पे जिया करती थी ,..
*जब दुनिया इस चीज़ पर आ चुकी थी की पिछले क़ौम का इल्म मिटा दिया जाए इस क़ौम ने वो इल्म बाकी रखा और लोगों तक पहुँचाया,..

*बहुत सारी चीज़ जो आज की हम दुनिया में देख रहे है, इस्तेमाल कर रहे है, यह बहुत सारी चीज़ उस क़ौम की देन है जिसके बारे में मैं बात कर रही हूँ, वो “इस्लामिक वर्ल्ड” है,.. इस्लामी क़ौम है, मुसलमान है!! जिसने आठवीं सदी से लेकर सोलवीं सदी तक दुनिया को मशाल-राह दिखाई और इसके अंदर उस्मानी खलीफा और और बग़दाद और शाम और क़ाहेरा, मिस्र की लाइब्रेरीज कुतुबखाने और अच्छे हुक़ुमराह जैसे की “सुलैमान दी मग्निफिसेंत” भी मौजूद थे ,..

आगे वो कहती है की-
*बहुत सारी चीज़ जो हमको मिली है इस क़ौम से, हाला के हम जानते है, फिर भी हम इनके अहसानमंद नहीं है ,..
और आगे वो कहती है की- “इनकी यह देन आज हमारी ज़िंदगी का हिस्सा है, और “टेक्नोलॉजी इंडस्ट्रीज आज वजूद में नहीं होती! अगर मुसलमान साइंटिस्ट न होते”

****
क्यूंकि उसका IT (इन्फोर्मेशन टेक्नोलॉजी) से ताल्लुक़ था! वो H.P की सीईओ थी उसने सिर्फ यह बताने के लिए की आज हम इस कंपनी के ज़रिये जिसका हम फायदा उठा रहे है यह किसी का अहसान है हम पर जिस क़ौम ने हमे दिया है, वो मुसलमान थे ,…

* तो अंदाज़ा लगाइये किस जसारत से उसने “ट्विन टॉवर के ब्लास्ट” के बाद मुसलमान का नाम लेना बुरी बात समझी जा रही थी उसी माहोल में अमेरिका में इस नोनमुस्लिम खातून ने स्पीच दी और कहा की यह क़ौम तो इंसानियत के फायदे के लिए आई थी ,..

# सबक: तो लोग हमे जानते है, लोग हमे पहचान रहे है, सिवाय इसके की हम सो रहे है!!! जबकि लोग तो हमको जगाना चाहते है,… यह बात यही तो बता रही है की माज़ी में हमारे आबा-ओ-अज़दाद ने बहुत सारे तजुर्बात, बहुत सारे इन्क्शाफात, बहुत सारे कारनामे किये! चाहे वो दीनी उलूम में हो या दुनियावी! दोनों में महारत हासिल किये थे ,…

*आज मुसलमानो को ज़रूरत है की हम डट जाए इस चीज़ पर, जो तालिबे इल्म स्कूल जाते है, यह इल्म भी इस नियत से हासिल करे की इसका भी अजर और सवाब मिले ,…
*और साथ में वालीदेन जहाँ दुनियावी इल्म सिखाते है, दिनी इल्म को भी उतनी ही बल्कि उससे ज़्यादा तरजी दे ,..
के मेरी औलाद जहाँ जबरदस्त हाफिज-ए-क़ुरान हो, वही एक जबरदस्त दुनियावी किसी फन का माहिर भी हो ,..

आज उम्मत को ऐसे लोगों की ज़रुरत है! और दीन पर चलना है तब भी हमको यह दुनियावी इल्म जानना है! इसलिए की इसके बगैर जिना भी मुश्किल है हमारा! सही इल्म तक पहुँच नहीं पाएंगे,. क्या हमारे खिलाफ है और क्या हमारे हक़ में वो समझ नहीं पाएंगे,.. और फिर मोहताज हो जाएंगे, कमतर हो जाएंगे, बदतर हो जाएंगे और जो हालत हो रही है बहरहाल हम सभी देख रहे है,… यह इल्म को छोड़ने का नतीजा है चाहे वो दिनी इल्मं हो या दुनियावी,.. जिसकी वजह से आज हमपर क़ौमें तसल्लुद कर रही है, चाहे जिस भी नाम से हो ,..

*इल्म नफा देता है, इल्म का कभी कोई नुक्सान नहीं है याद रखिये ,..
खर्च कीजिये इसके ऊपर अगर पैसा लगता है,..
खूब माल इसके लिए लुटाईये, इसलिए की ये जाएज़ जगह जहाँ आप अपना माल लुटा सकते है ,..

जिस तरह से हमारे अबा-ओ-अजदाद थे की दीन और दुनिया दोनो में वो महारत रखते थे, और ऐसे ऐसे कारनामो को अंजाम दिया करते थे जिसको देखकर आज दुनिया उंगिलिया दबा लेती है अपने दाँतो में! की क्या वाकई में मुसलमान ऐसे थे? की क्या वाकई में मुसलमानो का यह इल्म था

तो लिहाज़ा हमारे यह असलाफ हमारे लिए नमूना है, हमको यह दोनों इल्म को वापस उसी जगह लेकर उसी तरीके से हासिल करना है, फिर इंशा अल्लाह!! वही ज़माना, वही खुशियाँ, वही तमाम चीज़ हमारी ज़िंदगी में वापिस लौट कर आयेंगी जो हमारी देन थी इंसानियत को ,..

# बहरहाल इल्म की अहमियत को समझे, इसको जाने और इसको खूब हासिल करे!!
इसी पोस्ट के साथ हम इस उनवान (टॉपिक) को पूरा करेंगे ,…

# आखिर में अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त से दुआ है की
*अल्लाह तआला हमे पढ़ने सुनने से ज़्यादा अमल की तौफीक दे ,..
*हम तमाम को अपनी मुकद्दस किताब क़ुरान मजीद को पढ़ना समझना और इस पर अमल करना सिखाये ,..
*जब तक हमे ज़िंदा रखे इस्लाम और ईमान पर ज़िंदा रखे ,..
*खात्मा हमारा ईमान पर हो ,..
!!! वा अखीरु दवाना अनिल्हम्दुलिल्लाहे रब्बिल अलमीन !!!

• इल्म की अहमियत → Parts:

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15

Views: 6949

Leave a Reply

7 Comments on "Ilm Ki Ahmiyat: Part-15"

Notify of
avatar

Sort by:   newest | oldest | most voted
M.Salman
Guest
M.Salman
1 year 27 days ago

Mashallah…

yasin.m.kureshi
Guest
yasin.m.kureshi
1 year 6 days ago

Wery good I like

yasin.m.kureshi
Guest
yasin.m.kureshi
1 year 6 days ago

Subha allah

danish alme
Guest
danish alme
11 months 1 day ago

Masha allah

danish alme
Guest
danish alme
11 months 1 day ago

Subhan allah

md falahuddin
Guest
md falahuddin
10 months 5 days ago

Ilm ki ahmiyat pr apka collum qabile tariff h. Aisi kosise age v krte rhe yhi dua h.

Salauddin
Guest
Salauddin
10 months 5 days ago

Masha allah

wpDiscuz