ग़ज़व-ए-उहुद में सहाबा-ए-किराम की बेमिसाल क़ुरबानी

गजवा-ए-उहुद में हुजूर (ﷺ) के सहाबा ने जिस वालिहाना मुहब्बत व फिदाकारी का मुजाहरा किया उस का तसव्वुर भी रहती दुनिया तक आलमे इस्लाम को रूहानी जज़्बे से माला माल करता रहेगा।

जब मुश्रिकीन ने आप (ﷺ) का घेराव कर लिया तो फ़रमाया : मुझ पर कौन जान कुरबान करता है ?

जियाद बिन सकन (र.अ) चदं अन्सारियों के साथ आगे बढ़े और यके बाद दीगरे सातों ने आप (ﷺ) की हिफाजत में अपने आप को कुर्बान कर दिया।

अब्दुल्लाह बिन कमीआ ने जब तलवार का वार किया तो उम्मे अम्मारा हुजूर (ﷺ) के सामने आ गईं और उस के वार को अपने कन्धे पर रोक लिया।

हज़रत अबू दुजाना (र.अ) ढाल बन कर खड़े हो गए, यहाँ तक के उन की पीठ तीरों से छलनी हो गई।

हज़रत तलहा (र.अ) ने दुश्मन के तीर और तलवार हाथों पर रोकी, जिस की वजह से उन का एक हाथ कट कर गिर गया।

दुश्मन की एक जमात हमले के लिये आगे बढ़ी तो तन्हा हज़रत अली (ﷺ) ने उन का रुख फेर दिया।

ग़र्ज सहाब-ए-किराम (र.अ) की हुजूर (ﷺ) से वफादारी और जाँनिसारी ने अपनी शिकस्त को फतह में तबदील कर दिया।

To be Continued …

Share on:

Leave a Comment