Kya tum log Aakhirat ki zindagi ke muqable dunia ki zindagi par razi ho gaye ?

क्या तुम लोग आखिरत की ज़िन्दगी के मुकाबले दुनिया की जिन्दगी पर राजी हो गए ?

۞ Bismillah-Hirrahman-Nirrahim ۞

अल्लाह तआला कुरआन में फरमाता है:

क्या तुम लोग आखिरत की ज़िन्दगी के मुकाबले दुनिया की जिन्दगी पर राजी हो गए ? दुनिया का माल व मताअ तो आखिरत के मुकाबले कुछ भी नहीं।


Kya tum log Aakhirat ki zindagi ke muqable dunia ki zindagi par razi ho gaye ? Dunia ka maal wa matah to aakhirat ke muqable kuch bhi nahi.

📕 Surah Taubah 9:38

(इस लिये किसी इन्सान के लिये मुनासिब नहीं है के वह आखिरत को भूलकर जिन्दगी गुज़ारे या दुनिया के थोड़े से साजो सामान की खातिर अपनी आखिरत को बरबाद करे)

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More