Kya tum log Aakhirat ki zindagi ke muqable dunia ki zindagi par razi ho gaye ?

क्या तुम लोग आखिरत की ज़िन्दगी के मुकाबले दुनिया की जिन्दगी पर राजी हो गए ?

۞ Bismillah-Hirrahman-Nirrahim ۞

अल्लाह तआला कुरआन में फरमाता है:

क्या तुम लोग आखिरत की ज़िन्दगी के मुकाबले दुनिया की जिन्दगी पर राजी हो गए ? दुनिया का माल व मताअ तो आखिरत के मुकाबले कुछ भी नहीं।


Kya tum log Aakhirat ki zindagi ke muqable dunia ki zindagi par razi ho gaye ? Dunia ka maal wa matah to aakhirat ke muqable kuch bhi nahi.

📕 Surah Taubah 9:38

(इस लिये किसी इन्सान के लिये मुनासिब नहीं है के वह आखिरत को भूलकर जिन्दगी गुज़ारे या दुनिया के थोड़े से साजो सामान की खातिर अपनी आखिरत को बरबाद करे)

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of