Ummat-e-NabiProud to be Ummat-e-Rasool'Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam)

 

 

     
Hidayat Post 1488 results in ( 1.433 seconds)

Sunnat Ki Ahmiyat: Part-2

10 views

∗ Sunnat Ki Ahmiyat: Part-2

# Rasool’allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ke Ba-asat Ka Maksad :
Rasool’Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ka Muamla Dusre Ambiya(Alaihi Salam) Se Mukhtaleef Hai ,..
Isliye Ke Aapka Paigaam Apki Ba’asat Se Lekar Qayamat Tak Hai,
Jabki Digar Ambiya (Alaihi Salam) Ka Paigaam Unke Zindagi Unke Hayat Ek Makhsus Wakt Tak Hua Karta Tha, Jab Tak Ke Dusra Nabi Na Aajaye ,..
Dusra Nabi Aata Tou Pahle Ki Shariyat Khatm Dusre Ki Laagu Ho Jati ,…

Lekin Kyun Ke Rasool’Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Aakhri Nabi Hai ! Insaniyat Ki Taraf Aur Tamam Aalam Ki Taraf Bheje Gaye, Ab Aapke Baad Koi Nabi Nahi Aaney Wala Lihaja Aapki Ita-at Sirf Musalmano Par Hi Nahi Balki Tamam Insano Par Farz Aur Wajib Hai ,.. – @[156344474474186:]

* Aur Iski Wajahat Me Allah Rabbul Izzat Ne Quraan Me Farmaya –
♥ Al-Quraan: “Aye Rasool! Insaniyat Se Kehdo Ke Mai Tum Sabki Taraf Allah Ka Rasool Banakar Bheja Gaya Hu,.” - [Surah(7) Araf: Ayat-158]

Tou Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Insaniyat Ki Taraf Mabus Kiye Gaye,
Aur Insaniyat Ka Kaam Hai Ke Wo Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ki Itteba Karey, Farmabardari Karey Aur Aap Par Imaan Laye, Aur Aapki Kitab Par Imaan Laye Aur Aapke Tareeke Par Chaley ,..

Tou Jab Insaniyat Ko Ye Hukm Aa Raha Hai Ke Rasool’Allah Ki Ita-at Karo, Tou Yaha Musalmano Par Tou Badh-Chadhkar Ye Baat Jyada Laagu Hoti Hai Kyunki Humne Imaan Ka Dawa Kiya Lihaja Humpar Ye Baat Jyada Wajib Hoti Hai …

# Sunnat Kya Hai ?
*Ab Sunnat Kya Hai ? Ye Jaan Lijiye Ke: Rasool’Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ka Qoul ,.. (Yaani Jo Aapne Kaha)
*Aap (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ka Fail ,.. (Yaani Jo Aapne Kiya)
*Aur Aapki Takreer (Yaani Aapne Logon Ko Karte Hue Dekha Aur Khamoshi Ikhteyar Ki)
*Aur Aap (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ke Akhlaaq-e-Mubarak,.. Aadab, Ausaaf, Aapki Seerat Ye Tamam Milakar Sunnat-e-Rasool Kehlati Hai ,..

Tou Jub Mai Jikr Karunga Sunnat! Jiska Aam Lugat Ka Matlab Hota Hai Tareeka ,…
Lekin Sharayi Istehla Me Matlab Hota Hai Rasool’Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ka Tareeka,..

Tou Nabi Ne Jo Kiya, Nabi Ne Jo Kaha! Ummat Ke Liye Wajib Aur Farz Hai Ke Usi Amal Ko Har Mu’amle Me Zindagi Ke Har Shobey Me Ikhtiyar Karey ,..
Tou Nabiyo Ke Bheje Janey Ka Maksad Hai Ke Unki Iata-at Aur Farmabardari Ki Jaye, Isliye Ke Rab Ne Unhe Munttakhib Kiya Hai Ke Hum Log Unki Baat Maney ,…

Aur Rasool’allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Kyunki Saare Aalam Ke Nabi Hai, Saare Aalam Ke Liye Bheje Gaye Hai Aur Rasool’allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ko Hum Tamam Ke Liye Usma-Tun-Hasna (Misaal/Ideal aur Role Model) Banaya Gaya Hai ,..

Tou Rasool’allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ke Ba-asat Ka Maksad Tha Ke Hum Unki Ita-at Kare, Itteba Kare, Aur Aap (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ki Farmabardari Kare Jiske Talluk Se Quraan Ne Youn Farmaya Aur Kaha:
♥ Al-Quraan: (Tarjuma: Aye Musalmano ! Allah Ke Rasool (Sallallahu Alaihi Wasallam) Tumhare Liye Behtareen Namuna (Ideal Aur Role Model) Hai, Jo Iman Rakhta Hai Allah Par Aur Youme Aakhirat Par Aur Allah Ko Kasrat Se Yaad Karta Hai Tou Aise Shakhs Ke Liye Jaruri Hai Ke Allah Ki Aur Uske Rasool (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ki Ita-at Kare Aur Rasool’Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ko Ideal Aur Role Model Maaney . – [Surah Ahzab (33): Ayat:21]

Ab Gour karte Hai Ke:
*Kya Wakay Me Aaj Hum Rasool’Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ko Apna Role Model Maan Rahe Hai ?
*Kya Wakay Me Aapke Ita-at Ke Mutabik Humari Zindagi Guzar Rahi Hai ?
*Kya Wakay Me Humari Zindagi Ke Tamam Shobo Me Rasool’Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ka Tareeka Chalkata Hai ?

Agar Ha ? Fir Muamla Bohot Acha Hai ,..
Aur Agar Naa? Fir Tou Mumla Jabardast Bigad Hai.. Usko Badalne Ki Jarurat Hai Aaj,…

To be Continue …

     

Sunnat Ki Ahmiyat : Part-1

167 views

∗ Sunnat Ki Ahmiyat : Part-1
(“Bismillah-Hirrahman-Nirrahim: Allah Ke Naam Se Shuru Jo Nihayat Maherbaan Aur Rahem Wala Hai”)

♥ In shaAllah-Ul-Azezz!! Hum Iss Sesion Me “Sunnat Ke Ahmiyat” Ke Taaluk Se Kuch Aham Tazkira Karenge ,.
*Maksad Yahi Hai Ke Aaj Mu’ashre Me Jis Deen Par Hum Chal Rahe Hai Wo Kis Hadd Tak Kitabo Sunnat Se Sabit Hai ,..
Aur Sunnat-e-Rasool Ka Chorrne Ka Kya Anjaam Hum Bhugat Rahe Hai Us’se Rubaru Karwana Hai ,..

# Ambiya (Alaihi Salam) Ka Bheje Jaane Ka Maksad:
Allah Rabbul Izzat Quraan Me Surah Nisa (4) Aayat 63 Me Farmata Hai Ke
*Tarjuma: “Hum Ne Her Qaum Ke Paas Nabi Aur Rasool Bheje Sirf Iss Liye Ke Allah Ta’alaa Ke Hukm Se Uss Ki Farmabardari Ki Jaye”
Yaani Ke Allah Rabbul Izzat Jab Bhi Ambiya (Alaihi Salam) Ko Mabus Karta Hai, Bhejta Hai Aur Unko Jo Iss Mansab Par Fayej Karta Hai Tou Maksad Yahi Hota Hai Ke Allah Ke Hukm Se Unki Ita-at Ki Jaye ,.. – @[156344474474186:]

Tou Goya Anbiya (Alaihi Salam) Ke Ba’asat Ka Maksad Yeh Hai Ke Unki Ita-At Ki Jaye ,..
Mukammil Taur Se Jo Wo Kahe Usko Mana Jaye ,..
Mukkamil Taur Se Jis’se Wo Rokey Uss Se Ruka Jaye,.. Ye Hai Ambiyao Ki Ita-at,..

*Ab Ambiya (Alaihi Salato Salam) Ke Aane Ka Maksad Kya Hota Hai Ye Baat Hum Sab Jaantey Hai ?
Ke Allah Rabbul Izzat Humse Kya Chahta Hai ? Wo Bataney Ke Liye Allah Insano Me Se Ek Insan Ko Chunta Hai Jis Tak Wo Bajarye Wahi Ustak Wo Baat Pohchata Hai Jo Allah Chahta Hai Ke Uski Makhlook Tak Wo Paigam Pohchey
Taaki “Ins Aur Jins” (Insan Aur Jinn) Uspar Amal Karey…

*Tou Allah Rabbul Izzat Isliye Bhejta Hai Ke Ambiya Ek Mu’allim(Representative) Hotey Hai Aur Allah Jo Chahta Hai Inko Batata Hai Ke Insan Kya Kare Aur Kya Na Kare Aur Ye Insano Tak Wo Baatey Laakar Phocha Detey Hai …

*Aur Isi Maksad Ke Tahat Ambiya (Alaihi Salam) Ko Bheja Gaya Aur Humara Fariza Ye Tha Ke Hum Unki Ita-at Karey ,…
Aur Hadees Me Aata Hai Ke Isi Maksad Ke Tehat Allah Rabbul Izzat Ne Iss Roo-e-Zameen Par Kamobesh Sawa Laakh Nabi Aur Rasoolo Ko Mabus Kiya .. Taaki Log Allah Ke Hukm Se Unki Ita-at Kare ,…

# Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Tamam Aalam Ke Nabi Hai!
Digar Ambiya Aur Rasool Jo Rasool’Allah(Sallallahu Alaihay Wasallam) Se Pahle Mabus Hue, Pahle Aaye, Yeh Khusus Hotey, Makhsus Hotey Kisi Qoum Ki Taraf,
Inka Paigaam Ek Wakt Tak Hota, Aur Ye Nabi Ek Makhsus Hissey Ke Liye Aatey Ek Mehdud(Limited) Waqt Ke Liye ..

*Lekin Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ka Muamla Dusrey Ambiyao Se Mukhtalif Hai..
Aur Yeh Baat Aap Aur Hum Jantey Hai Ke Allah Rabbul Izzat Ne Faramaya –
♥ Al-Quraan: “Wama Arsalnaka Illa Rahmatan Lil Aalameen”
(Trajuma: Aye Nabi! Humne Aapko Tamam Insaniyat Ke Liye Rehmat Banakar Bheja) - (Surah-21: Aayat-107)

Tou Lihaja *Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Insano Ke Liye Bhi Nabi-e-Rehmat Hai,
*Rasool’Allah Jinno Ke Bhi Nabi Hai ,…
*Rasool’Allah Charind Aur Parindo Ke Bhi Nabi Hai ,…
*Rasool’Allah Tamam Makhlukat Jo Bhi Aalam Me Hai Unn Tamam Ke Nabi Hai …

Aur Iski Wajahat Aahadeese Sharifa Se Bhi Hoti Hai Ke –
Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ki Kayi Aahadees Hum Suntey Hai Ke –
#Wakiya 1. Ek Mimber Tha, Jo Ek Khajur Ki Darakht Par Banaya Gaya Tha,
Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Uspar Khadey Hokar Khutba Diya Karte,
Aur Ek Baar Yun Hua Ke Rasool’Allah Ne Apne Mimber Ki Jagah Badal Di, Tou Umar Bin Khattab Aur Abu Baqar Siddhiq (Razi’Allahu Anhu) Farmatey Hai Ke Wo Zaad Roney Laga Aur Uski Siskiya Hum Sunn Rahey They…
*Fir Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Hukm Diya Ke Isey Wapas Yaha Lakar Laga Do.,…
Tou Goya Aap Ek Zaad Ke Bhi Nabi Hai..

#Wakiya 2. Yeh Wakiya Bhi Humne Suna Ke Muslim Ki Riwayat Me Aata Hai Ke – Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ke Paas Ek Shakhs Ne Aakar Kaha Ke –
‘Ya Rasool’Allah ! Mera Ye Uoonth Baat Nahi Manta Meri, Nafarman Hai Yeh! ‘..
Rasool’Allah(Sallallahu Alaihay Wasallam) Uskey Paas Gaye, Aur Uss Uoonth Ne Rasool’Allah Ke Kaan-e-Mubarak Tak Apna Muuh Laya Aur Kuch Baat Kahi,.

Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Uss Shakhs Se Kaha – ‘Ke Isney Mujhse Tumhari Ek Shikayat Ki Hai Ke Tum Fazar Ki Namaz Me Kotahi Kartey Ho Isiliye Ye Tumhari Baat Nahi Manta.. Lihaja Tum Wo Chorr Do Kotahi Yeh Tumhari Baat Manega..

* Tou Goya Rasool’Allah Janwaro Ke Bhi Nabi Hai,
Charind Aur Parind Ke Bhi Nabi Hai ,..
* Aur Zaad Aur Pahaad Jo Kuch Moujud Hai “Wama Arsalnaka Illa Rahmatan Lil Aalameen”
Aalam Me Jo Kuch Moujud Hai, Rasool’Allah(Sallallahu Alaihay Wasallam) Unn Tamam Ke Nabi Hai..
Aur Tamam Ko Aapki Ita-at Farz Aur Wajib Hai ,..

• Web: Ummat-e-Nabi.com
• Page: Fb.com/HadiseNabwi

To Be Continue …

     

Ilm Ki Ahmiyat – Download – All Parts

1,590 views
• Subject → "Ilm Ki Ahmiyat" All 15 Parts
• Pages → 16
• Language → Roman Hindi
Download Android App
Download1250 downloads
• Size → 2 MB. | • Format → Android app
Download PDF
Download5095 downloads
• Size → 2 MB. | • Format → PDF
• Direct Post Link → Part: 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15
     

Zubaan (Languages) Ka Ikhtelaaf Allah Ki Nishani ….

262 views

Aaj Zubaan(Languages) Ke Naam Par Kya Kuch Fitney Nahi Hotey Ye Aap Sabhi Jantey Ho ,..

*Mulk Todey Jaate Hai Zubaan Ke Naam Par ,.
*Falah Zubaan Bolney Wale Unchey Aur Falah Wale Niche ,..
*Riyasate Baati Jaati Hai Zubaan Ke Naam Par ,.
*Log Ikhtelaaf Karte Hai Ek-Dusre Se Zaban Ke Naam Par ..

Tou Aayiye Dekhte Hai Ke Iska Ikhtelaaf Shairyat Ne Kaise Mitaya ,.
Ke Jab Islam Aalami Aman Ki Baat Karta Hai Tou Dekhiye Allah Rabbul Izzat Zubaan Ke Talluk Se Kya Farmata Hai ?
♥ Al-Quran: “Wa Min Aayaatihee Khalqus Samaawaati Wal Aardi Wakhtilaafu Alsinatikum Wa Alwaanikum; Inna Fee Zaalika La Aayaatil Lil’aalimeen”.. - [Surah(30) Room: Ayat-22] – @[156344474474186:]
(# Tarjuma: Ke Allah Rabbul Izzat Ke Aayto Aur Nishaniyon Me Se Hai Ke Usney Aasman Aur Zameen Ko Paida Kiya .. Aur Tumhari Zubaano Aur Rangat Ka Ikhtelaf Bhi Allah Ki Nishani Hai ..)

*Kyunki Ye Zubaan Bhi Ek Tassuf Ki Buniyad Banti Hai.. Aur Aaj Yahi Muamla Hai Musalmano Ka,
*Musalman Bhi Aapas Me Tassuf Karta Hai Zubaan Ki Buniyad Par !
Ke Wo Falah Zubaan Ke Bolney Waley Hai Aur Hum Falah Zubaan Waley ,..

#Subhan’Allah!!! Hume Batayiye Kya Humare Deen Aur Shariyat Ne Zubaan Ka Tassuf Diya Hume ??? ,..
*Kya Kisi Riwayat Me Aata Hai Ke Falah Zubaan Islami Zubaan Hai Aur Falah Zubaan Islami Nahi Hai ?? ,..
*Kya Kisi BhI Qoul me Humne Padha Ki Falah Zubaan Ameero Ki Aur Falah Gareebo Ki ??,…

Allah Reham Karey!!! Ke Zubaano Ka Ikhelaaf Iss Hadd Tak Pohoch Gaya Ke Kuch Log Kuch Cheezo Ki Taalim Hasil Nahi Karte Isiliye Ke Wo Zubaan Falah Logon Ki Hai ,..
*Wo Zubaan Yahudiyon Ki Hai.,.. Wo Zubaan Nasraniyo Ki Hai ,..

* Lekin Sawaal Tou Yeh Hai Ke: Rab Farmata Hai Ke Tumhari Zubaano Ka Ikhtelaf Ye Tou Meri Nishani Hai!!
Fir Kyun Kar Humne Iss Muamlo Me Ikhlafat Karte Rehte Hai.????

*Koi Hindi Bolta Hai, Koi Marathi,. Koi Urdu, Arabi, Telgu, Malyalam, Spanish, Japani,…
Aur Na Jaane Kitne-Kitne Zubaane Tum Boltey Ho ,.
Ek-Ek Lafz Ko Kitne-Kitne Namo Se Pukarte Ho!!!
Yeh Bhi Allah Ki Nishani Hai,.
Wo Rab Hai Jisne Humare Jehno Me Yeh Baatey Daali Aur Humari Zubaano Ko Paida Kiya ,..

Afsos Ke Humne Iss Ikhtelaaf Ko Tassuf Ka Mouju Bana Diya,..
Jabki Yeh Ikhtelaaf Ki Cheez Nahi Hai,. Balki Har Zubaan (Languages) Allah Ki Taraf Se Hai!
Lihjaa Hume Chahiye Ke Iss Tassuf Se Bachey Kyunki Alami Aman Ke Khilaf Zubaan Ka Tassuf Yeh Bohot Badi Vajah Banti Hai ..

# Inshaallah-Ul-Azeez !! Allah Ta’ala Hume Parhne Sun’ne Se Jyada Amal Ki Taufiq Dey…
# Jab Tak Hume Zinda Rakhey Islam Aur Imaan Par Zinda Rakhye…
# Khatma Humara Imaan Par Ho …
!!! Wa Akhiru Dawana Anilhamdulillahe Rabbil A’lameen !!!

     

Dua Ibadat Hai ….

123 views

» Mefhum-e-Hadees: Nu’man Ibn Bashir (RaziAllahu Anhu} Se Riwayat Hai Rasool’Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) ne Farmaya:
Dua Hi Tou Ibadat Hai, Fir Aapne “Surah (40) Momin” Ki “Aayat 60″ Tilawat Farmayi,
“Tumhare Parwardigar ne Farmaya Ke Mujhe Pukaro! Main Tumhari Dua Qabool Karunga, Aur Jo Log Meri Ibadat Se Takabbur Karte Hain Woh Zaleel-O-Khuwar Hokar Jahannum Me Dakhil Honge.”
- (Jamia -Tirmizi, Vol-no: 2, Book: Kitaab-ul-Dua, Hadees-no: 1297 Hasan)

     

तलाक, हलाला और खुला की हकीकत ….

268 views

Talaaq• तलाक की हकीकत:
यूं तो तलाक़ कोई अच्छी चीज़ नहीं है और सभी लोग इसको ना पसंद करते हैं इस्लाम में भी यह एक बुरी बात समझी जाती है लेकिन इसका मतलब यह हरगिज़ नहीं कि तलाक़ का हक ही इंसानों से छीन लिया जाए,

पति पत्नी में अगर किसी तरह भी निबाह नहीं हो पा रहा है तो अपनी ज़िदगी जहन्नम बनाने से बहतर है कि वो अलग हो कर अपनी ज़िन्दगी का सफ़र अपनी मर्ज़ी से पूरा करें जो कि इंसान होने के नाते उनका हक है, इसी लिए दुनियां भर के कानून में तलाक़ की गुंजाइश मौजूद है.
और इसी लिए पैगम्बरों के दीन (धर्म) में भी तलाक़ की गुंजाइश हमेशा से रही है,.. – @[156344474474186:]
• दीने इब्राहीम की रिवायात के मुताबिक अरब जाहिलियत के दौर में भी तलाक़ से अनजान नहीं थे, उनका इतिहास बताता है कि तलाक़ का कानून उनके यहाँ भी लगभग वही था जो अब इस्लाम में है लेकिन कुछ बिदअतें उन्होंने इसमें भी दाखिल कर दी थी.
*किसी जोड़े में तलाक की नौबत आने से पहले हर किसी की यह कोशिश होनी चाहिए कि जो रिश्ते की डोर एक बार बन्ध गई है उसे मुमकिन हद तक टूटने से बचाया जाए,
*जब किसी पति-पत्नी का झगड़ा बढ़ता दिखाई दे तो अल्लाह ने कुरआन में उनके करीबी रिश्तेदारों और उनका भला चाहने वालों को यह हिदायत दी है कि वो आगे बढ़ें और मामले को सुधारने की कोशिश करें इसका तरीका कुरआन ने यह बतलाया है कि – “एक फैसला करने वाला शोहर के खानदान में से मुकर्रर करें और एक फैसला करने वाला बीवी के खानदान में से चुने और वो दोनों जज मिल कर उनमे सुलह कराने की कोशिश करें, इससे उम्मीद है कि जिस झगड़े को पति पत्नी नहीं सुलझा सके वो खानदान के बुज़ुर्ग और दूसरे हमदर्द लोगों के बीच में आने से सुलझ जाए”..

♥ कुरआन ने इसे कुछ यूं बयान किया है – “और अगर तुम्हे शोहर बीवी में फूट पड़ जाने का अंदेशा हो तो एक हकम (जज) मर्द के लोगों में से और एक औरत के लोगों में से मुक़र्रर कर दो, अगर शोहर बीवी दोनों सुलह चाहेंगे तो अल्लाह उनके बीच सुलह करा देगा, बेशक अल्लाह सब कुछ जानने वाला और सब की खबर रखने वाला है” - (सूरेह निसा-35).
इसके बावजूद भी अगर शोहर और बीवी दोनों या दोनों में से किसी एक ने तलाक का फैसला कर ही लिया है तो शोहर बीवी के खास दिनों (Menstruation) के आने का इन्तिज़ार करे, और खास दिनों के गुज़र जाने के बाद जब बीवी पाक़ हो जाए तो बिना हम बिस्तर हुए कम से कम दो जुम्मेदार लोगों को गवाह बना कर उनके सामने बीवी को एक तलाक दे, यानि शोहर बीवी से सिर्फ इतना कहे कि ”मैं तुम्हे तलाक देता हूँ”.

* तलाक हर हाल में एक ही दी जाएगी दो या तीन या सौ नहीं, जो लोग जिहालत की हदें पार करते हुए दो तीन या हज़ार तलाक बोल देते हैं यह इस्लाम के बिल्कुल खिलाफ अमल है और बहुत बड़ा गुनाह है अल्लाह के रसूल (सल्लाहू अलैहि वसल्लम) के फरमान के मुताबिक जो ऐसा बोलता है वो इस्लामी शर्यत और कुरआन का मज़ाक उड़ा रहा होता है.

इस एक तलाक के बाद बीवी 3 महीने यानि 3 तीन हैज़ (जिन्हें इद्दत कहा जाता है और अगर वो प्रेग्नेंट है तो बच्चा होने) तक शोहर ही के घर रहेगी और उसका खर्च भी शोहर ही के जुम्मे रहेगा लेकिन उनके बिस्तर अलग रहेंगे, कुरआन ने सूरेह तलाक में हुक्म फ़रमाया है कि इद्दत पूरी होने से पहले ना तो बीवी को ससुराल से निकाला जाए और ना ही वो खुद निकले, इसकी वजह कुरआन ने यह बतलाई है कि इससे उम्मीद है कि इद्दत के दौरान शोहर बीवी में सुलह हो जाए और वो तलाक का फैसला वापस लेने को तैयार हो जाएं.

* अक्ल की रौशनी से अगर इस हुक्म पर गोर किया जाए तो मालूम होगा कि इसमें बड़ी अच्छी हिकमत है, हर मआशरे(समाज) में बीच में आज भड़काने वाले लोग मौजूद होते ही हैं, अगर बीवी तलाक मिलते ही अपनी माँ के घर चली जाए तो ऐसे लोगों को दोनों तरफ कान भरने का मौका मिल जाएगा, इसलिए यह ज़रूरी है कि बीवी इद्दत का वक़्त शोहर ही के घर गुज़ारे.

फिर अगर शोहर बीवी में इद्दत के दौरान सुलह हो जाए तो फिरसे वो दोनों बिना कुछ किये शोहर और बीवी की हेस्यत से रह सकते हैं इसके लिए उन्हें सिर्फ इतना करना होगा कि जिन गवाहों के सामने तलाक दी थी उनको खबर करदें कि हम ने अपना फैसला बदल लिया है, कानून में इसे ही ”रुजू” करना कहते हैं और यह ज़िन्दगी में दो बार किया जा सकता है इससे ज्यादा नहीं.(सूरेह बक्राह-229)

*शोहर रुजू ना करे तो इद्दत के पूरा होने पर शोहर बीवी का रिश्ता ख़त्म हो जाएगा, लिहाज़ा कुरआन ने यह हिदायत फरमाई है कि इद्दत अगर पूरी होने वाली है तो शोहर को यह फैसला कर लेना चाहिए कि उसे बीवी को रोकना है या रुखसत करना है, दोनों ही सूरतों में अल्लाह का हुक्म है कि मामला भले तरीके से किया जाए, सूरेह बक्राह में हिदायत फरमाई है कि अगर बीवी को रोकने का फैसला किया है तो यह रोकना वीबी को परेशान करने के लिए हरगिज़ नहीं होना चाहिए बल्कि सिर्फ भलाई के लिए ही रोका जाए.

♥ अल्लाह कुरआन में फरमाता है – “और जब तुम औरतों को तलाक दो और वो अपनी इद्दत के खात्मे पर पहुँच जाएँ तो या तो उन्हें भले तरीक़े से रोक लो या भले तरीक़े से रुखसत कर दो, और उन्हें नुक्सान पहुँचाने के इरादे से ना रोको के उनपर ज़ुल्म करो, और याद रखो के जो कोई ऐसा करेगा वो दर हकीकत अपने ही ऊपर ज़ुल्म ढाएगा, और अल्लाह की आयातों को मज़ाक ना बनाओ और अपने ऊपर अल्लाह की नेमतों को याद रखो और उस कानून और हिकमत को याद रखो जो अल्लाह ने उतारी है जिसकी वो तुम्हे नसीहत करता है, और अल्लाह से डरते रहो और ध्यान रहे के अल्लाह हर चीज़ से वाकिफ है” - (सूरेह बक्राह-231)

लेकिन अगर उन्होंने इद्दत के दौरान रुजू नहीं किया और इद्दत का वक़्त ख़त्म हो गया तो अब उनका रिश्ता ख़त्म हो जाएगा, अब उन्हें जुदा होना है.
इस मौके पर कुरआन ने कम से कम दो जगह (सूरेह बक्राह आयत 229 और सूरेह निसा आयत 20 में) इस बात पर बहुत ज़ोर दिया है कि मर्द ने जो कुछ बीवी को पहले गहने, कीमती सामान, रूपये या कोई जाएदाद तोहफे के तौर पर दे रखी थी उसका वापस लेना शोहर के लिए बिल्कुल जायज़ नहीं है वो सब माल जो बीवी को तलाक से पहले दिया था वो अब भी बीवी का ही रहेगा और वो उस माल को अपने साथ लेकर ही घर से जाएगी, शोहर के लिए वो माल वापस मांगना या लेना या बीवी पर माल वापस करने के लिए किसी तरह का दबाव बनाना बिल्कुल जायज़ नहीं है.
(नोट- अगर बीवी ने खुद तलाक मांगी थी जबकि शोहर उसके सारे हक सही से अदा कर रहा था या बीवी खुली बदकारी पर उतर आई थी जिसके बाद उसको बीवी बनाए रखना मुमकिन नहीं रहा था तो महर के अलावा उसको दिए हुए माल में से कुछ को वापस मांगना या लेना शोहर के लिए जायज़ है.)
अब इसके बाद बीवी आज़ाद है वो चाहे जहाँ जाए और जिससे चाहे शादी करे, अब पहले शोहर का उस पर कोई हक बाकि नहीं रहा.

इसके बाद तलाक देने वाला मर्द और औरत जब कभी ज़िन्दगी में दोबारा शादी करना चाहें तो वो कर सकते हैं इसके लिए उन्हें आम निकाह की तरह ही फिरसे निकाह करना होगा और शोहर को महर देने होंगे और बीवी को महर लेने होंगे.

# अब फ़र्ज़ करें कि दूसरी बार निकाह करने के बाद कुछ समय के बाद उनमे फिरसे झगड़ा हो जाए और उनमे फिरसे तलाक हो जाए तो फिर से वही पूरा प्रोसेस दोहराना होगा जो मैंने ऊपर लिखा है,

# अब फ़र्ज़ करें कि दूसरी बार भी तलाक के बाद वो दोनों आपस में शादी करना चाहें तो शरयत में तीसरी बार भी उन्हें निकाह करने की इजाज़त है.
लेकिन अब अगर उनको तलाक हुई तो यह तीसरी तलाक होगी जिस के बाद ना तो रुजू कर सकते हैं और ना ही आपस में निकाह किया जा सकता है.

• हलाला:
# अब चौथी बार उनकी आपस में निकाह करने की कोई गुंजाइश नहीं लेकिन सिर्फ ऐसे कि अपनी आज़ाद मर्ज़ी से वो औरत किसी दुसरे मर्द से शादी करे और इत्तिफाक़ से उनका भी निभा ना हो सके और वो दूसरा शोहर भी उसे तलाक देदे या मर जाए तो ही वो औरत पहले मर्द से निकाह कर सकती है, इसी को कानून में ”हलाला” कहते हैं.
लेकिन याद रहे यह इत्तिफ़ाक से हो तो जायज़ है जान बूझ कर या प्लान बना कर किसी और मर्द से शादी करना और फिर उससे सिर्फ इस लिए तलाक लेना ताकि पहले शोहर से निकाह जायज़ हो सके यह साजिश सरासर नाजायज़ है और अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने ऐसी साजिश करने वालों पर लानत फरमाई है.

• खुला:
*अगर सिर्फ बीवी तलाक चाहे तो उसे शोहर से तलाक मांगना होगी, अगर शोहर नेक इंसान होगा तो ज़ाहिर है वो बीवी को समझाने की कोशिश करेगा और फिर उसे एक तलाक दे देगा, लेकिन अगर शोहर मांगने के बावजूद भी तलाक नहीं देता तो बीवी के लिए इस्लाम में यह आसानी रखी गई है कि वो शहर काज़ी (जज) के पास जाए और उससे शोहर से तलाक दिलवाने के लिए कहे, इस्लाम ने काज़ी को यह हक़ दे रखा है कि वो उनका रिश्ता ख़त्म करने का ऐलान कर दे, जिससे उनकी तलाक हो जाएगी, कानून में इसे ”खुला” कहा जाता है.

यही तलाक का सही तरीका है लेकिन अफ़सोस की बात है कि हमारे यहाँ इस तरीके की खिलाफ वर्जी भी होती है और कुछ लोग बिना सोचे समझे इस्लाम के खिलाफ तरीके से तलाक देते हैं जिससे खुद भी परेशानी उठाते हैं और इस्लाम की भी बदनामी होती है.
- (मुशर्रफ अहमद)
• Web: Ummat-e-Nabi.com
• Page: Fb.com/HadiseNabwi

Talaaq, Khula, Halala

     

Allah Ke Siwa Tumhara Koi Bhi Himayati Nahi ….

166 views

♥ Al-Quraan: “Kya Tumhe Pata Nahi Ki Aasmano Aur Zameen Ki Badshahi Allah Hi Ki Hai, Aur Allah Ke Siwa Tumhara Koi Bhi Himayati Aur Madad Karne Wala Nahi Hai”.
[Surah(2) Al-Bakar, Aayat-107]

♥ अल-कुरान: “क्या तुम्हे पता नहीं की आसमान और ज़मीन की बादशाही अल्लाह ही की है, और अल्लाह के सिवा तुम्हारा कोई भी हिमायती और मदद करने वाला नहीं है”
[सुरह (२) अल-बक्र, आयत-१०७]

     

Har Musalman Ko Chahiye Ki Sadqa Diya Kare ….

177 views

» Mehfum-e-Hadees: Nabi-e-Kareem Rasool’Allah(Sallallahu Alaihi Wasallam) Irshad Farmate Hai:
*”Har Musalman Ko Chahiye Ki Sadqa Diya Kare !!!”
• Logon Ne Puncha – “Agar Uske Paas Sadqa Dene Ke Liye Kuch Na Ho Tou Kya Kare ?”
*Irshad Farmaya – “Apne Hatho Se Mehnat Majduri Karke Apne Aap Ko Bhi Fayda Pahuchaye Aur Sadqa Bhi Dey!”
• Logon Ne Kaha – “Agar Yeh Bhi Na Kar Sakey Ya (Kar Sakta Ho Fir Bhi) Na Kare? ”
*Farmaya – “Kisi Gamjadah Mohtaj Ki Madad Kar Dey !”
• Kaha Gaya Ke : “Agar Yeh Bhi Na Karey”
*Irshad Farmaya: “Tou (Kum Se Kum) Kisi Ko Nuqsaan Hi Na Pahuchaye
Kyunki Yeh Bhi Uskey Liye Sadqa Hai!”
- @[156344474474186:] - (Bukhari Shareef)

* * * * * * * * * * *

» मेह्फुम-ऐ-हदीस: नबी-ऐ-करीम रसूलल्लाह(सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) इरशाद फरमाते है :
*”हर मुसलमान को चाहिये कि सदका दिया करे !!!! ”
• लोगों ने पूँछा – “अगर उसके पास सदका देने के लिये कुछ न हो तो क्या करे? ”
*इरशाद फरमाया – “अपने हाथों से मेहनत मज़दूरी करके अपने आप को भी फायदा पहुँचाये और सदका भी दे।”
• लोगों ने कहा – “अगर यह भी न कर सके या (कर सकता हो फिर भी) न करे ? ”
*फरमाया – “किसी गमज़दह मोहताज की मदद कर दे ।”
• कहा गया कि : “अगर यह भी न करे ”
*इरशाद फरमाया : “तो (कम से कम) किसी को नुकसान ही न पहुँचाये
क्योंकि यह भी उसके लिये सदका है।”
- @[156344474474186:] - (बुखारी शरीफ)

     

इस्लाम में नारी का महत्व ….

335 views

यदि आप धर्मों का अध्ययन करें तो पाएंगे कि हर युग में महिलाओं के साथ सौतेला व्यवहार किया गया,
* हर धर्म में महिलाओं का महत्व पुरुषों की तुलना में कम रहा। बल्कि उनको समाज में तुच्छ समझा गया, उन्हें प्रत्येक बुराइयों की जड़ बताया गया, उन्हें वासना की मशीन बना कर रखा गया। एक तम्बा युग महिलाओं पर ऐसा ही बिता कि वह सारे अधिकार से वंचित रही।

लेकिन यह इस्लाम की भूमिका है कि उसने हव्वा की बेटी को सम्मान के योग्य समझा और उसको मर्द के समान अधिकार दिए गए।
♥ क़ुरआन की सूरः बक़रः (2: 228) में कहा गया:
“महिलाओं के लिए भी सामान्य नियम के अनुसार वैसे ही अधिकार हैं जैसे मर्दों के अधिकार उन पर हैं।”

∗ इस्लाम में महिलाओं का स्थान
इस्लाम में महिलाओं का बड़ा ऊंचा स्थान है। इस्लाम ने महिलाओं को अपने जीवन के हर भाग में महत्व प्रदान किया है। माँ के रूप में उसे सम्मान प्रदान किया है, पत्नी के रूप में उसे सम्मान प्रदान किया है, बेटी के रूप में उसे सम्मान प्रदान किया है, बहन के रूप में उसे सम्मान प्रदान किया है, विधवा के रूप में उसे सम्मान प्रदान किया है, खाला के रूप में उसे सम्मान प्रदान किया है, तात्पर्य यह कि विभिन्न परिस्थितियों में उसे सम्मान प्रदान किया है जिन्हें बयान करने का यहाँ अवसर नहीं हम तो बस उपर्युक्त कुछ स्थितियों में इस्लाम में महिलाओं के सम्मान पर संक्षिप्त में प्रकाश डालेंगे।

∗ माँ के रूप में सम्मानः
माँ होने पर उनके प्रति क़ुरआन ने यह चेतावनी दी कि “और हमने मनुष्य को उसके अपने माँ-बाप के मामले में ताकीद की है – उसकी माँ ने निढाल होकर उसे पेट में रखा और दो वर्ष उसके दूध छूटने में लगे – कि ”मेरे प्रति कृतज्ञ हो और अपने माँ-बाप के प्रति भी। अंततः मेरी ही ओर आना है॥14॥ ”
कुरआन ने यह भी कहा कि – “तुम्हारे रब ने फ़ैसला कर दिया है कि उसके सिवा किसी की बन्दगी न करो और माँ-बाप के साथ अच्छा व्यवहार करो। यदि उनमें से कोई एक या दोनों ही तुम्हारे सामने बुढ़ापे को पहुँच जाएँ तो उन्हें ‘उँह’ तक न कहो और न उन्हें झिझको, बल्कि उनसे शिष्‍टापूर्वक बात करो॥23॥ और उनके आगे दयालुता से नम्रता की भुजाएँ बिछाए रखो और कहो, “मेरे रब! जिस प्रकार उन्होंने बालकाल में मुझे पाला है, तू भी उनपर दया कर।”॥24॥ (सूरः बनीइस्राईल 23-25) – @[156344474474186:]

» हदीस: माँ के साथ अच्छा व्यवहार करने का अन्तिम ईश्दुत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने भी आदेश दिया,
एक व्यक्ति उनके पास आया और पूछा कि मेरे अच्छे व्यवहार का सब से ज्यादा अधिकारी कौन है?
आप ने फरमायाः तुम्हारी माता,
उसने पूछाः फिर कौन ?
कहाः तुम्हारी माता.
पूछाः फिर कौन ?
कहाः तुम्हारी माता,
पूछाः फिर कौन ? कहाः तुम्हारे पिता ।
मानो माता को पिता की तुलना में तीनगुना अधिकार प्राप्त है।

» हदीस: अन्तिम संदेष्टा मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फरमायाः “अल्लाह की आज्ञाकारी माता-पिता की आज्ञाकारी में है और अल्लाह की अवज्ञा माता पिता की अवज्ञा में है” - (तिर्मज़ी)

∗ पत्नी के रूप में सम्मानः
पवित्र क़ुरआन में अल्लाह तआला ने फरमाया और उनके साथ भले तरीक़े से रहो-सहो। (निसा4 आयत 19) और मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फरमायाः “एक पति अपनी पत्नी को बुरा न समझे यदि उसे उसकी एक आदत अप्रिय होगी तो दूसरी प्रिय होगी।” - (मुस्लिम)

∗ बेटी के रूप में सम्मानः
मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फरमायाः “जिसने दो बेटियों का पालन-पोषन किया यहां तक कि वह बालिग़ हो गई और उनका अच्छी जगह निकाह करवा दिया वह इन्सान महाप्रलय के दिन हमारे साथ होगा” - (मुस्लिम)
आपने यह भी फरमायाः जिसने बेटियों के प्रति किसी प्रकार का कष्ट उठाया और वह उनके साथ अच्छा व्यवहार करता रहा तो यह उसके लिए नरक से पर्दा बन जाएंगी” - (मुस्लिम)

∗ बहन के रूप में सम्मानः
मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फरमायाः जिस किसी के पास तीन बेटियाँ हों अथवा तीन बहनें हों उनके साथ अच्छा व्यवहार किया तो वह स्वर्ग में प्रवेश करेगा” - (अहमद)

∗ विधवा के रूप में सम्मानः
इस्लाम ने विधवा की भावनाओं का बड़ा ख्याल किया बल्कि उनकी देख भाल और उन पर खर्च करने का बड़ा पुण्य बताया है।
मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फरमायाः ”विधवाओं और निर्धनों की देख-रेख करने वाला ऐसा है मानो वह हमेशा दिन में रोज़ा रख रहा और रात में इबादत कर रहा है।” - (बुखारी)

∗ खाला के रूप में सम्मानः
इस्लाम ने खाला के रूप में भी महिलाओं को सम्मनित करते हुए उसे माता का पद दिया।
हज़रत बरा बिन आज़िब कहते हैं कि अल्लाह के नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने फरमायाः “खाला माता के समान है।” - (बुखारी)
Aurton Ke Huqooq

     

Rasool’Allahﷺ Tamam Aalam Ke Nabi ….

254 views

Digar Ambiya Aur Rasool Jo Rasool’Allah(Sallallahu Alaihay Wasallam) Se Pahle Mabus Hue Pahle Aaye, Yeh Khusus Hotey, Makhsus Hotey Kisi Qoum Ki Taraf, Inka Paigaam Ek Wakt Tak Hota, Aur Ye Nabi Ek Makhsus Hissey Ke Liye Aatey Ek Mehdud(Limited) Waqt Ke Liye ..

Lekin Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ka Muamla Dusrey Ambiyao Se Mukhtalif Hai..

Aur Yeh Baat Aap Aur Hum Jantey Hai Ke Allah Rabbul Izzat Ne Faramaya –
♥ Al-Quraan: “Wama Arsalnaka Illa Rahmatan Lil Aalameen”
(Trajuma: Aye Nabi! Humne Aapko Tamam Insaniyat Ke Liye Rehmat Banakar Bheja) - (Surah-21: Aayat-107)

Tou Lihaja Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Insano Ke Liye Bhi Nabi-e-Rehmat Hai,
Rasool’Allah Jinno Ke Bhi Nabi Hai ,…
Rasool’Allah Charind Aur Parindo Ke Bhi Nabi Hai ,…
Rasool’Allah Tamam Makhlukat Jo Bhi Aalam Me Hai Unn Tamam Ke Nabi Hai …

Aur Iski Wajahat AaHadeese Sharifa Se Bhi Hoti Hai Ke –
Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ki Kayi Aahadees Hum Suntey Hai Ke –
» Wakiya 1. Ek Mimber Tha, Jo Ek Khajur Ki Darakht Par Banaya Gaya Tha, Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Uspar Khadey Hokar Khutba Diya Karte, Aur Ek Baar Yun Hua Ke Rasool’Allah Ne Apne Mimber Ki Jagah Badal Di, Tou Umar Bin Khattab Aur Abu Baqar Siddhiq (Raziallahu Anhu) Farmatey Hai Ke Wo Jhaad Roney Laga Aur Uski Siskiya Hum Sunn Rahey They…
Fir Rasool’Allah Ne Hukm Diya Ke Isey Wapas Yaha Lakar Laga Do.,…
Tou Goya Aap Ek Jhaad Ke Bhi Nabi Hai..

» Wakiya 2. Yeh Wakiya Bhi Humne Suna Ke Muslim Ki Riwayat Me Aata Hai Ke – Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ke Paas Ek Shakhs Ne Aakar Kaha Ke – ‘Ya Rasool’Allah ! Mera Ye Uoonth Baat Nahi Manta Meri, Nafarman Hai Yeh! ‘..
Rasool’Allah Uskey Paas Gaye, Aur Uss Uoonth Ne Rasool’Allah Ke Kaan-e-Mubarak Tak Apna Muuh Laya Aur Kuch Baat Kahi,.
Rasool’Allah Ne Uss Shakhs Se Kaha – ‘Ke Isney Mujhse Tumhari Ek Shikayat Ki Hai Ke Tum Fazar Ki Namaz Me Kotahi Kartey Ho Isiliye Ye Tumhari Baat Nahi Manta.. Lihaja Tum Wo Chorr Do Kotahi Yeh Tumhari Baat Manega..’ – @[156344474474186:]

* Tou Goya Rasool’Allah Janwaro Ke Bhi Nabi Hai, Charind Aur Parind Ke Bhi Nabi Hai ,..
Aur Jhaad Aur Pahaad Jo Kuch Moujud Hai “Wama Arsalnaka Illa Rahmatan Lil Aalameen” Aalam Me Jo Kuch Moujud Hai, Rasool’Allah Unn Tamam Ke Nabi Hai.. Aur Tamam Ko Aapki Ita-At Farz Aur Wajib Hai ,..

* Aur Iski Wajahat Allah Rabbul Izzat Ne Surah Araf Ki Ayat 158 Me Farmaya –
“Aye Mohammad Rasool’Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam)! Insaniyat Se Kehdo Ke Mai Tum Sabki Taraf Allah Ka Rasool Banakar Bheja Gaya Hu,.”

Tou Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Insaniyat Ki Taraf Mabus Kiye Gaye, Aur Insaniyat Ka Kaam Hai Ke Wo Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ki Itteba Karey, Farmabardari Karey Aur Aap Par Imaan Laye ..

* Lihaja Hum Tamam Ko Chahiye Ke Rasool’Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ki Sunnato Ko Apni Zindagi Me Lazim Aur Farz Jaaney.. Aur Ispar Khud Bhi Amal Karey Aur Dusro Ko Bhi Amal Ki Dawat Dey..

» InshaAllah-Ul-Azeez!!!
# Allah Ta’ala Humey Rasool’Allah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ki Sunnato Ka Muttabe Banaye,
# Rasool’Allah(Sallallahu Alaihi Wasallam) Ki Sacchi Mohabbat Hum’me Daaley…
# Unki Sunnato Ko Samjhna Aur Uspar Chalna Humare Liye Aasan Karey..
# Aur Humari Naslo Me Rasool’Allah Ki Sunnat Ko Baaki Rakhey..
# Jab Tak Hume Zinda Rakhey Islam Aur Imaan Par Zinda Rakhye…
# Khatma Humara Imaan Par Ho …
!!! Wa Akhiru Dawana Anilhamdulillahe Rabbil A’lameen !!!