Categories

हुजूर (ﷺ) ग़ारे सौर में

रसूलअल्लाह (ﷺ) और हज़रत अबू बक्र (र.अ) दोनों मक्का छोड़ कर गारे सौर में पहुँच चुके थे। उधर मुश्रिकीनने पीछा करना शुरू किया और तलाश करते हुए गारे सौर के बिल्कुल मुँह के करीब पहुंच गए। उस वक़्त हजरत अबू बक्र (र.अ) ने कहा : या रसूलल्लाह ! उन में से किसी ने एक क़दम भी आगे बढ़ाया, तो हमें देख लेगा। हुजूर (ﷺ) ने फर्माया “घबराओ नहीं अल्लाह हमारे साथ है।” अल्लाह तआला ने दोनों हज़रात की अपनी कुदरत से हिफाज़त फ़रमाई। और वह लोग वापस हो गए। हजरत अबू बक्र (र.अ) ने अपने बेटे अब्दुल्लाह से यह कह दिया था के वह मुशरिकों के दर्मियान होने वाली बातें रात के वक़्त आकर बता दिया करें। चुनान्चे वह रात के वक्त गार में आकर मुश्रिकों की साजिशों की इत्तेला हुजूर (ﷺ) को दे देते थे और हज़रत अस्मा बिन्ते अबू बक्र (र.अ) खाना वगैरह पहुँचाया करती थीं। इस तरह तीन दिन यहाँ गुज़रे फिर मदीना की तरफ रवानगी हुई।

Leave a Reply