Categories

हुजूर (ﷺ) की हिजरत

रसूलअल्लाह (ﷺ) को जब अल्लाह ताला के हुक्म से हिजरत की इजाजत मिली, तो उसकी इत्तेला हजरत अबू बक्र सिद्दीक (र.अ) को दे दी, और जब हिजरत का वक्त आया, तो रात के वक्त घर से निकले और काबा पर अलविदाई नज़र डालकर फ़र्माया : तू मुझे तमाम दुनिया से ज़ियादा महबूब है। अगर मेरी क़ौम यहाँ से न निकालती तो मै तेरे सिवा किसी और जगह को रहने के लिये इख्तियार न करता।

हजरत असमा बिन्ते अबू बक्र (र.अ) ने दो तीन रोज़ के खाने पीने का सामान तय्यार किया। आप (ﷺ) हज़रत अबू बक्र (र.अ) के साथ मक्का से रवाना हुए। एक तरफ महबूब वतन छोड़ने का गम था और दूसरी तरफ नुकीले पत्थरों के दुश्वार गुजार रास्ते और हर तरफ से दुश्मनों का खौफ था। मगर इस्लाम की खातिर इमामुल अम्बिया तमाम मुसीबतों को झेलते हुए आगे बढ़ रहे थे।

रास्ते में हज़रत अबू बक्र (र.अ) कभी आगे आगे चलते और कभी पीछे पीछे चलने लगते थे। हुजूर (ﷺ) ने इस की वजह पूछी, तो उन्होंने फ़रमाया : या रसूलल्लाह (ﷺ) जब मुझे पीछे से किसी के आने का खयाल होता है, तो मैं आप के पीछे चलने लगता हूँ और जब आगे किसी के घात में रहने का खतरा होता है, तो आगे चलने लगता हूँ। चूँकि कुफ्फार की मुखालफत का जोर था और वह लोग (नऊजु बिल्लाह) आप (ﷺ) के कत्ल की कोशिश में थे। इस लिये रास्ते में आप (ﷺ) और हज़रत अबू बक्र (र.अ) ने “गारे सौर” में पनाह ली, उस गार में पहले हजरत अबू बक्र (र.अ) दाखिल हुए और उसको साफ किया, फिर हुजूर (ﷺ) उस में दाखिल हुए और तीन रोज तक उसी ग़ार में रहे।

To be Continued…

Leave a Reply