दरवाज़े पर सलाम करने की सुन्नत

रसूलुल्लाह (ﷺ) जब किसी के घर के दरवाज़े पर आते, तो बिल्कुल सामने खड़े ना होते,
बल्क़ि दायीं तरफ या बायीं तरफ तशरीफ फ़रमा होते और “अस्सलामु अलैकुम” फ़रमाते।

📕 अबू दाऊद: 5986, अन अब्दुल्लाह बिन बुन (र.अ)

3/5 - (3 votes)

और देखे :

Leave a Reply