सुन्नत पर अमल करना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया :

“जो मेरी उम्मत में बिगाड़ के वक्त मेरी सुन्नत को मजबूती से थामे रहेगा, उसके लिये एक शहीद का सवाब है।”

📕 तबरानी औसत:५५७२

Share on:

Leave a Comment