Har acchi baat sikhana aur har buri baat se rokna Sadqa hai

1 9,444

♥ Mafhoom-e-Hadees: Abu Dharr (RaziAllahu Anhu) se riwayat hai ki kuch (Gareeb) Sahabi Allah ke Rasool (Sallallahu Alaihi Wasallam) ke pass aaye aur arz kiya:

“Ya RasoolAllah (Sallallahu Alaihay Wasallam) ! maal wale sara sawab kama kar le gaye! isliye ki wo Namaz padhte hai jaisa ki hum namaz padhte hai aur Roza rakhte hai jaisa ki hum roza rakhte hai aur apne zyada maalo se Sadqa bhi detey hai.

Tou aap (Sallallahu Alaihay Wasallam) ne farmaya: Tumhare liye bhi tou Allah Subhanahu Ta’ala ne sadqe ka samaan kar diya hai.
∗ Har Tasbeeh (Subhanallah kahna) Sadqa hai,
∗ Aur har Takbir (Allahu Akbar kahna) Sadqa hai,
∗ Aur har Tahmeed (Alahmdulillah kahna) Sadqa hai,
∗ Aur har Tahleel (La ilaha illallah kahna) Sadqa hai,
∗ Aur har Acchi Baat Sikhana Sadqa hai,
∗ Aur har Buri Baat se Rokna Sadqa hai,
∗ Aur har Shakhs ke badan ke tukde me Sadqa hai.
(Yaani Apni Biwi/Shohar se Sohbat karna bhi Sadqa hai)

Logon ne arz kiya: Ya RasoolAllah (Sallallahu Alaihay Wasallam)! hum me se koi shakhs apne badan se apni shahwat nikalta hai (yaani apni Biwi se Sohbat karta hai) to kya usmey bhi Sawab hai, tou Aap (Sallallahu Alaihay Wasallam) ne farmaya: kyu nahi (yaani haan), agar wo Haraam me sarf karta tou uss se wabal (Gunaah) hota ki nahi ?,.  isi tarah jab Halaal me sarf karta hai tou Sawaab hota hai.

(Sahih Muslim, Vol 3, Hadith 2329)

✦ हर अच्छी बात सीखना और हर बुरी बात से रोकना सदका है।

♥ मफ़हूम-ए-हदीस: अबू हरैराह (र.) से रिवायत है की, कुछ (गरीब) सहाबी (रज़ीअल्लाहु अनहुमा) रसूलअल्लाह (ﷺ) के पास आए और अर्ज़ कीया:
“या रसूलअल्लाह (ﷺ)! माल वाले सारा सवाब कमा कर ले गए! इसलिए की वो नमाज़ पढ़ते है जैसा की हम नमाज़ पढ़ते है और रोज़ा रखते है जैसा हम रोज़ा रखते है और अपने ज़्यादा मालों से सदका भी देते है।
तो आप (ﷺ) ने फरमाया: तुम्हारे लिए भी तो अल्लाह सुभानहु तआला ने सदके का सामान कर दिया है।
* हर तसबीह (सुभानअल्लाह कहना) सदका है ।
* और हर तकबीर (अल्लाहु अकबर कहना) सदका है ।
* और हर तहमीद (अलहम्दुलिल्लाह कहना) सदका है ।
* और हर तहलील (ला इलाहा इल्लल्लाह कहना) सदका है ।
* और हर अच्छी बात सीखना सदका है ।
* और हर बुरी बात से रोकना सदका है ।
* और हर शख्स के बदन के टुकड़े मे सदका है (यानि अपनी बीवी/शोहर से सोहबत करना भी सदका है)।

लोगों ने अर्ज़ किया: या रसूलअल्लाह (ﷺ)! हम मे से कोई शख्स अपने बदन से अपनी शहवत निकालता है (यानि अपनी बीवी से सोहबत करता है) तो क्या उसमे भी सवाब है, तो आप (ﷺ) ने फरमाया: क्यू नहीं (यानि हाँ), अगर वो हराम मे सर्फ करता तो उसे से वबाल (गुनाह) होता की नहीं ? इसी तरह जब हलाल मे सर्फ करता तो सवाब होता है ।
– (सहिह मुस्लिम, हदिस 2329)

 

80%
Awesome
  • Design
You might also like

1
Leave a Reply

avatar
1 Comment threads
0 Thread replies
0 Followers
 
Most reacted comment
Hottest comment thread
1 Comment authors
kismat ali Recent comment authors
newest oldest most voted
kismat ali
Guest
kismat ali

Subhanallah