Browsing Category

इस्लाम सब के लिए

गुलामो का ये कहना के नाकिस है ये किताब, सिखाती नहीं हमे गुलामी के उसूल: डॉ. अल्लामा इकबाल

Gulaamo ka ye kehna ke naqees hai ye kitaab (Quran), Sikhaati nahi hume Gulaami ke usool: Dr.Allama Iqbalदुनिया परस्ती के फ़ितनो में मुब्तेला होकर अल्लाह की नाजिल करदा किताब (कुरान) से दूरी इख़्तियार करने वाले बाज़ मुसलमानों का नजरिया बयांन…
Read More...

३ साल की कड़ी मेहनत के बाद राजीव भाई ने पेश किया कुरान का मारवाड़ी अनुवाद

जी हाँ ! जहा आज दुनिया भर में कुरान और इस्लाम के खिलाफ न जाने कितनी किताबे लिखी जा रही है, वही अल्लाह के फज्लो करम से कुरान के पैगामे हक को लोगो में आम करने की खिदमत में भी अल्लाह के बन्दे दिन रात कड़ी से कड़ी मेहनत कर रहे,.  ताज्जुब की बात…
Read More...

कुरआन में मानवता के लिए 99 सीधे आदेश ! जानिए

99 direct commands mentioned in the Holy Quran in Hindi

1. बदज़ुबानी से बचो। (सूरह 3:159) 2. गुस्से को पी जाओ। (सूरह 3:134) 3. दूसरों के साथ भलाई करो। (सूरह 4:36) 4. घमंड से बचो। (सूरह 7:13) 5. दूसरों की गलतियां माफ करो। (सूरह 7:199) 6. लोगों से नरमी से बात करो। (सूरह 20:44) 7. अपनी आवाज़…
Read More...

धर्म क्या है, और इसकी उत्पति कैसे हुयी ?

• सवाल 1. धर्म क्या है, और इसकी उत्पति कैसे हुयी ? • सवाल 2. आप धर्म को क्यों मानते हो और जीवन मै इसका क्या महतव है ? » जवाब: ● धर्म......... धर्म मौलिक मानवीय मूल्यों (अच्छे गुणों) से आगे की चीज़ है। अच्छे गुण (उदाहरणतः नेकी, अच्छाई, सच…
Read More...

Zameen ki Shakl ke bare me Janiye kya kehta hai Quran (Shape of the earth in Quran)

जानिए: क्या कुरान के अनुसार ज़मीन चपटी है या गोल ?

अक्सर गैरमुस्लिम हज़रात कुरान की सुरह ७९ की आयत ३० के सबब ये ग़लतफहमी रखते है के कुरआन के तहत ज़मीन की शक्ल फ्लैट है, तो आईये उनकी इस ग़लतफहमी का इजाला करने इस मुख़्तसर सी विडिओ का मुताला करते है .. - बराए मेहरबानी इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करने…
Read More...

मुसलमान से आप की दुश्मनी धार्मिक है या राजनैतिक

जी हा ! सोशल मीडिया पर मुसलमानों ने कुछ सवाल पूछना शुरू कर दिया है उनका कहना है जो लोग हमारे खिलाफ ज़हर उगलते है वो इन सवालो का जवाब दें या गौर करें कि क्या सिर्फ राजनीती के लिए हमारे खिलाफ ज़हर उगला जाता है।मौजूदा हालात में फैलती नफरत के…
Read More...

अकीदा क्या होता है ? और इसका महत्त्व

ईमांन और अकीदे से सम्भंदित प्रश्न एवं उत्तर

1- प्रश्नः वह कलमा जिसे बोलकर एक आदमी मुसलमान बनता है क्या है और उसका अर्थ क्या होता है ? उत्तरः वह कलमा जिसे बोलकर एक आदमी मुसलमान बनता है कलमा शहादत ( अश्हदु अल्ला इलाहा इल्लल्लाहु व अश्हदु अन्न मोहम्मदन रसूलुल्लाह) है। जिसका अर्थ होता है…
Read More...

जानिए – क्यों मनायी जाती है बकरी ईद

ईद उल अज़हा को सुन्नते इब्राहीम भी कहते है। इस्लाम के मुताबिक, अल्लाह ने अपने नबी(प्रेषित) हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम की परीक्षा लेने के उद्देश्य से अपनी सबसे प्रिय चीज की कुर्बानी देने का हुक्म दिया। - हजरत इब्राहिम को लगा कि उन्हें सबसे…
Read More...

हदिस का परिचय – हदीस पर अमल की जरुरत

पवित्र क़ुरआन के बाद मुसलमानों के पास इस्लाम का दूसरा शास्त्र अल्लाह के रसूल मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) की कथनी और करनी है जिसे हम हदीस और सीरत के नाम से जानते हैं। हदिस की परिभाषाः हदीस का शाब्दिक अर्थ है: बात, वाणी और ख़बर।…
Read More...

रिसालत – इस्लाम की दूसरी अनिर्वाय आस्था

#इस्लाम_का_परिचय : पार्ट 3

*रिसालत का अर्थ होता है के जब अल्लाह ने पृथ्वी पर मानवो को भेजा तो मानव क्या करे और क्या ना करे , कैसे जीवन व्यक्त करे इसके मार्गदर्शन के लिए इश्वर(अल्लाह) मानवो में से एक मानव को चुन लेता था फिर वो अपनी वाणी उस तक भेजता था और फिर उन्हें…
Read More...

तौहीद – इस्लाम की पहली अनिर्वाय आस्था

#इस्लाम_का_परिचय : पार्ट 2

इस्लाम की सबसे पहली जो आस्था है तौहिद इसको हम आपके सामने रखते है जो मानवता को बताने के लिए इश्वर (अल्लाह) ने हर समय, हर समुदाय, हर जाती के अंदर प्रेषित (नबी, इश्दुत) भेजे ताकि मानवों को बता दे और उनका रिश्ता श्रुष्टि के रचियेता एक इश्वर से…
Read More...

अल्लाह कौन है? अल्लाह का परिचय और विशेषताएं

हमारे मन में यह प्रश्न बार बार उभरता है कि अल्लाह कौन है ? वह कैसा है ? उस के गुण क्या हैं ? वह कहाँ है ? अल्लाह का परिचय अल्लाह का शब्द मन में आते ही एक महान महिमा की कल्पना मन में पैदा होती है जो हर वस्तु का स्वामी और रब हो। उसने हर…
Read More...

इस्लाम की मूल आस्थाये: तौहिद, रिसालत और आखिरत

इस्लाम की मुल आस्थाये ३ है , जिन्हें मानना सम्पूर्ण मानवजाति के लिए अनिर्वाय (Compulsory) है |तौहिद – एकेश्वरवाद (एक इश्वर में आस्था रखना) रिसालत – प्रेशित्वाद (इशदुत, नबी, Messengers) आखिरत – परलोकवाद (मृत्यु के बाद का जीवन)…
Read More...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More