Browsing Category

Aqaid Ki Islah

यहूदियों का ज़वाल और उरूज में उम्मते मुस्लिम के लिए इबरत

यहूदी यानी बनी इसराईल, ये नबियों की औलादें हैं. ये वो क़ौम है जिसको अल्लाह ने तमाम जहान वालों पर फ़ज़ीलत दी थी. मगर इन्होंने बार बार अल्लाह की नाफ़रमानियाँ कीं, नबियों का क़त्ल किया, अल्लाह के अहकामात की ख़िलाफ़वरज़ी की, अल्लाह के दीन में…

Roze Ka asal Maqsad

Allah Rabbul Izzat Ne Surah Baqraah Ki Aayat 183 Me Farmaya Aur Kaha: "Aye Emaan Walo Tum Par Roze Farz Kiye Gaye, Jaise Tumse Pichli Ummato Par Farz Kiye They Ta’ake Kahi Tum Taqwa(Parhezgaari) Ikhtiyar Karo..” – (Al-Quraan 2:183) ……

Shab-e-Barat Ki Hakikat …. (Reality of Shabe Barat)

Shaban Maheene Me 15th Shab Ko Shab-e-Barat Ke Naam Se Yaad Kiya Jata Hai ...!! Kuch Log Is Raat Ke Liye Shab-e-Qadr Jaisi Fazilate Bayan Karte Hain... Yeh Aqeeda Rakha Jata Hai Ke Is Raat Poore Saal Me Hone Wale Waqkhyat Ka Faisla Kiya…

क्यों हो जाते है लोग इतने बेहरहम ? क्या इन्हें खुदा का खौफ नहीं है ?

सदियों से हम इन्सानो पर हो रहे ज़ुल्म की दास्ताँ सुनते आ रहे है, ज़ालिम इस हद्द तक क़त्ले आम करते है मानो वो इन्सान ही न हो, वो जिस किसी भी रब की इबादत करते हो उसे उसका खौफ ही न हो,.. जैसा की मौजूदा दौर में सीरिया में जो कुछ क़त्ले आम हो रहा…

फिरका फिरका खेलने वालो को नबी सलल्लाहू अलैहि वसल्लम की अहम नसीहत

♥ मफहूम ऐ हदीस: अबू सोबान (रज़ीअल्लाहु अन्हु) से रिवायत है के नबी-ऐ-करीम (सलाल्लाहो अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया – बेशक मैंने अपने रब से सवाल किया : “या रब! मेरी उम्मत को कहतसाली से हलाक न करना, इनपर कोई ऐसा गैरमुस्लिम दुश्मन मुसल्लत ना हो जो…

भरोसे का अलमबरदार होता है मुसलमान (Muslim means Trustworthy Person)

एक जमाने में मुसलमान की मिसाल ISO सर्टिफिकेट वाले भरोसेमंद चीज़ की तरह हुआ करती थी, यानी मुसलमान है तो शरीफ ही होगा, मुसलमान है तो इंसाफ करता ही होगा, मुसलमान है तो जुवा, शराब, सूद रिश्वत इन सबसे भी बचता ही होगा, मुसलमान है तो औरतो की…

Shaykh Abdul Qadir Jilani (R.A) Ki Mukhtasar Sirat

"Allah ke Naam se Shuru jo Nihayat Reham Wala hai aur Durudo Salam ho uske Aakhri Nabi  Tajadare Madina Rasool’Allah (Salallahu Alahi Wasallam) par ,." Mukhtasar Seerat: » Hasab Nasab: Aapka Naam Abdul Qadir, Aapki kunniyat…

Allah ki Rehmat ka ek Khubsurat Wakiya

Ibn khudama apni kitab At-Tawabin me bani israyeel ka wakiya pesh karte hue kehte hai ke, Musa (AS) ke zamane me ek baar kehat(drought) aaya, aap apne tamam sahaba ke sath Allah ki baargah me hath uthakar barish ke liye dua karte hai,…

Akhirat Ki Kamiyabi – Iman aur Nek Amal

Allah rabbul izzat Qurane Kareem me farmata hai "Zamane Ki Qasam ! Insan Dar-Haqikat Ghate Me Hai, Siway Unn Logon Ke Jo Imaan Laye Aur Nek Aamal Karte Rahe Aur Ek Dusre Ko Haq Ki Naseehat Aur Sabr Ki Talkin Karte Rahe." – (Surah Asr:…