Ummat-e-NabiProud to be Ummat-e-Rasool'Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam)

 

 

     
Hindi Hidayat Post Hidayat Post 1467 results in ( 0.915 seconds)

Khadija Watson’s Journey of Faith …

∗ Khadija Watson’s Journey of Faith …

♥ अब मैं मुस्लिम के रूप में ही जीना चाहती हूं! Khadija Watson’s Journey of Faith !!!
वे कट्टर ईसाई थीं। लेकिन जब इस्लाम का अध्ययन किया और इस्लाम के रूप में सच्चाई सामने आई तो इसे अपना लिया।
पूर्व पादरी, मिशनरी, प्रोफेसर और धर्मशास्त्र में मास्टर डिग्री धारक खदीजा स्यू वेस्टन की जुबानी कि आखिर वे किस तरह इस्लाम की आगोश में आईं।
यह तुम्हें क्या हो गया है? यह (more…)

     

तीन ईसाई पादरी इस्लाम की शरण में‏ …

∗ तीन ईसाई पादरी इस्लाम की शरण में‏ …

♥ एक साथ तीन पादरी मुसलमान :
अमेरिका के तीन ईसाई पादरी इस्लाम की शरण में आ गए। उन्हीं तीन पादरियों में से एक पूर्व ईसाई पादरी यूसुफ एस्टीज की जुबानी कि कैसे वे जुटे थे एक मिस्री मुसलमान को ईसाई बनाने में, मगर जब सत्य सामने आया तो खुद ने अपना लिया इस्लाम।
बहुत से लोग मुझसे पूछते हैं कि आखिर मैं एक ईसाई पादरी से मुसलमान कैसे बन गया? यह भी (more…)

     

Allah Ki Panaah Me Elaaj-e-Marz ….

∗ Allah Ki Panaah Me Elaaj-e-Marz ….

» Hadees : Hazrate Uthman Bin Abi Al-’As (RaziAllahu Anhu) Se Riwayat Hai Ke Unhone Rasool’Allah (Sallallahu Alaihay Wasallam) Se Dard Ki Shikayat Ki Jise Wo Apne Jism Me Islam Lane Ke Waqt Mahsus Karte They,
Aap (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Farmaya: ‘Tum Apna Hath Dard Ki Jagah Par Rakho Aur Kaho,
Bismillah Teen (3) Baar Uss Ke Baad Sath (7) Baar Ye Kaho. “A’udhu Billahi Wa Qudratihi Min Sharri Ma Ajidu Wa Uhadhiru”
(Tarjuma : Mai Allah Ki Zaat Aur Qudrat Se Har Uss Cheez Se Panaah Mangta Hun Jise Mai Mahsus Karta Hun Aur Jis Se Mai Khauf Karta Hun)’.
- (Sahih Muslimm, Vol-5, Hadees-5737 : @[156344474474186:])

     

Poshida Amal Afzal Hai ….

∗ Poshida Amal Afzal Hai ….

» Hadees : Nabi-e-Paak (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Irshad Farmaya -
“Zahiri Amal Ke Muqabley Me Poshida Amal Afzal Hai !!”
- (Shuabul Imaan, Part-5- @[156344474474186:])
» Sabaq : Poshida Amaal Se Muraad Hai Chupkar Ya Logon Se Chupakar Neki Karna,
Jaise Kisi Ko Koi Cheez Sadqa Karna Iss Niyat Se, Ke Koi Dekhe Ya Na Dekhe Lekin Hamara Rab Jarur Hamare Iss Amaal Se Bakhabar (Wakifkaar) Hai.
Aur Agar Koi Zahiri Amal Hum Logon Me Shohrat Ke Niyat Se Karte Hai Tou Yeh Khudpasandi Hai Aur Allah Kisi Khudpasand Aur Takabbur Karnewalo Ko Pasand Nahi Karta.

♥ Allah Ta’ala Hume Parhne Sun’ne Se Jyada Amal Ki Toufiq De !! Ameen !!!

     

इस्लाम के बारे में भारतीय ग़ैर-मुस्लिम विद्वानों के विचार …

∗ इस्लाम के बारे में भारतीय ग़ैर-मुस्लिम विद्वानों के विचार …
इस्लाम के बारे में दुनिया के बेशुमार विद्वानों, विचारकों, साहित्यकारों, बुद्धिजीवियों और इतिहासकारों आदि ने अपने विचार व्यक्त किए हैं। इनमें हर धर्म, जाति, क़ौम और देश के लोग रहे हैं। यहाँ उनमें से सिर्फ़ भारतवर्ष के कुछ विद्वानों के विचार उद्धृत किए जा रहे हैं:
» स्वामी विवेकानंद (विश्व-विख्यात धर्मविद्) :
मुहम्मद (इन्सानी) बराबरी, इन्सानी भाईचारे और तमाम मुसलमानों के भाईचारे के पैग़म्बर थे।…
… read more
» मुंशी प्रेमचंद (प्रसिद्ध साहित्यकार) :
जहाँ तक हम जानते हैं, किसी धर्म ने न्याय को इतनी महानता नहीं दी जितनी इस्लाम ने।…
… read more
» अन्नादुराई (डी॰एमके॰ के संस्थापक, भूतपूर्व मुख्यमंत्री तमिलनाडु) :
इस्लाम के सिद्धांतों और धारणाओं की जितनी ज़रूरत छठी शताब्दी में दुनिया को थी, उससे कहीं बढ़कर उनकी ज़रूरत आज दुनिया को है,…
… read more
» प्रोफ़ेसर के॰ एस॰ रामाकृष्णा राव (अध्यक्ष, दर्शन-शास्त्र विभाग, राजकीय कन्या विद्यालय मैसूर, कर्नाटक) :
पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल॰) की शिक्षाओं का ही यह व्यावहारिक गुण है, जिसने वैज्ञानिक प्रवृत्ति को जन्म दिया।…
… read more
» वेनगताचिल्लम अडियार :
औरत के अधिकारों से अनभिज्ञ अरब समाज में प्यारे नबी (सल्ल॰) ने औरत को मर्द के बराबर दर्जा दिया।…
… read more
» विशम्भर नाथ पाण्डे भूतपूर्व राज्यपाल, उड़ीसा :
क़ुरआन ने मनुष्य के आध्यात्मिक, आर्थिक और राजकाजी जीवन को जिन मौलिक सिद्धांतों पर क़ायम करना चाहा है उनमें लोकतंत्र को बहुत ऊँची जगह दी गई है। …
… read more
» तरुण विजय सम्पादक, हिन्दी साप्ताहिक ‘पाञ्चजन्य’ (राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पत्रिका) :
क्या इससे इन्कार मुम्किन है कि पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल॰) एक ऐसी जीवन-पद्धति बनाने और सुनियोजित करने वाली महान विभूति थे जिसे इस संसार ने पहले कभी नहीं देखा? …
… read more
» एम॰ एन॰ रॉय संस्थापक-कम्युनिस्ट पार्टी, मैक्सिको कम्युनिस्ट पार्टी, भारत :
इस्लाम के एकेश्वरवाद के प्रति अरब के बद्दुओं के दृढ़ विश्वास ने न केवल क़बीलों के बुतों को ध्वस्त कर दिया बल्कि वे इतिहास में एक ऐसी अजेय शक्ति बनकर उभरे जिसने मानवता को बुतपरस्ती की लानत से छुटकारा दिलाया।
… read more
» राजेन्द्र नारायण लाल (एम॰ ए॰ (इतिहास) काशी हिन्दू विश्वविद्यालय) :
संसार के सब धर्मों में इस्लाम की एक विशेषता यह भी है कि इसके विरुद्ध जितना भ्रष्ट प्रचार हुआ किसी अन्य धर्म के विरुद्ध नहीं हुआ ।…
… read more
» लाला काशी राम चावला :
न्याय ईश्वर के सबसे बड़े गुणों में से एक अतिआवश्यक गुण है। ईश्वर के न्याय से ही संसार का यह सारा कार्यालय चल रहा है। …
… read more
» पेरियार ई॰ वी॰ रामास्वामी (राज्य सरकार द्वारा पुरस्कृत, द्रविड़ प्रबुद्ध विचारक, पत्रकार, समाजसेवक) :
हमारा शूद्र होना एक भयंकर रोग है, यह कैंसर जैसा है। यह अत्यंत पुरानी शिकायत है। इसकी केवल एक ही दवा है, और वह है इस्लाम ।…
… read more
» डॉ॰ बाबासाहब भीमराव अम्बेडकर (बैरिस्टर, अध्यक्ष-संविधान निर्मात्री सभा) :
इस्लाम धर्म सम्पूर्ण एवं सार्वभौमिक धर्म है जो कि अपने सभी अनुयायियों से समानता का व्यवहार करता है ।…
… read more
» कोडिक्कल चेलप्पा (बैरिस्टर, अध्यक्ष-संविधान सभा) :
मानवजाति के लिए अर्पित, इस्लाम की सेवाएं महान हैं। इसे ठीक से जानने के लिए वर्तमान के बजाय 1400 वर्ष पहले की परिस्थितियों पर दृष्टि डालनी चाहिए ।…
@[156344474474186:] … read more
     

Allah Ta’ala Se Duaa Me Aafiyat Maanga Karo ….

∗ Allah Ta’ala Se Duaa Me Aafiyat Maanga Karo ….

» Hadees : Nabi-e-Kareem (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Irshad Farmaya -
“Jis Shakhs Ke Liye Duaa Ke Darwaaze Khol Diye Gaye (Yaani Jo Kasrat Se Duaa Mangta Ho) Uske Liye Rahmat Ke Darwaaze Khul Gaye,
Aur Allah Ta’ala Se Koi Duaa Iss Se Ziyadah Mehboob Nahi Maangi Gayee Ke Insan Allah Ta’ala Se Aafiyat (Bhalayi) Ka Sawaal Karey.”
- (Tirmizi Sharif : @[156344474474186:])
» Sabaq : Yaani Allah Ta’ala Se Duaa Me Aafiyat Maanga Karo.
♥ Dua : Allahumma Inni As’aluka Aafiyah Fid Duniya-Wal-Aakhirah.

     

Bhai Ke Samne Muskura Dena Sadqa Hai ….

∗ Bhai Ke Samne Muskura Dena Sadqa Hai ….

» Hadees : Hazrate Abu Jar Gaffari (RaziAllahu Anhu) Se Riwayat Hai Ke, Rasool-e-Paak (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Farmaya Ke,
“Aye Emaanwalo ! Tumhara Apne Bhai Ke Samne Muskura Dena Sadqa Hai, Bhalayi Ka Hukm Dena Sadqa Hai Aur Burayi Se Rok Dena Sadqa Hai, Kisi Raah Bhatke Ko Raah Dikhana Bhi Tumhare Liye Ek Sadqa Hai.
- (Tirimizi Sharif : @[156344474474186:])

» Sabaq : Bhai Ke Samne Muskura Dene Se Muraad Apne Momin Bhai Ko Dekh Khush’hali Ka Izhaar Karna Hai Jo Allah Ke Nazdik Ek Sadqa Hai, Thik Usey Bhalayi Ka Hukm Dena Aur Burayi Se Rokna Bhi Ek Sadqa Hai, Aur Kisi Bhatke Huye Ko Raah Dikhana Bhi Ek Sadqa Hee Hai.
♥ Allah Taala Hume Parhne Sun’ne Se Jyada Amal Ki Toufiq De !!!!
- www.Ummat-e-Nabi.com

     

Sabse Napasan’dida Cheez Talaaq Hai ….

∗ Sabse Napasan’dida Cheez Talaaq Hai ….

» Hadees : Nabi-e-Karim (Sallallahu Alaiyhi Wasallam) Ne Faramaya,
“Saari Halaal Cheezo Me Khuda Ta’ala Ke Nazdiq Sabse Napasan’dida Cheez Talaaq (Divorce) Hai”.
- (Abu Dau’d Sharif : @[156344474474186:])

     

Martaba-e-Hazrat Ali (RaziAllahu Anhu) …

∗ Martaba-e-Hazrat Ali (RaziAllahu Anhu) …

» Hadees : Hazrate Amir Bin Saad Bin Abu Waqqas (RaziAllahu Anhu) Se Riwayat Hai Ki, Rasool’Aallah (Sallallahu Alaihi Wasallam) Ne Hazrat Ali (RaziAllahu Anhu) Se Farmaya -
“Tum (Hazrate Ali Ibne-Abu-Taalib) Mere Paas Aisey Ho Jaise Hazrat Haroon They Hazrat Musaa (Alaihay Salam) Ke Paas Magar Mere Baad Koi Nabi Nahi Hai”.
- (Sahih Muslim, Vol 6, 6217 – @[156344474474186:])

     

Shohrat Ke Waste Ilm Haasil Karne Wala Dozakhi Hai ….

∗ Shohrat Ke Waste Ilm Haasil Karne Wala Dozakhi Hai ….

» Hadees : Nabi-e-Kareem Mohammad (Sallallahu Alyhiwasallam) Ne Farmaya -
“Jo Insan Deen-e-Islam Ka Ilm Sirf Isliye Sikhna Chahta Ho Ke Uss Ilm Ke Jarye Wo Kum Ilm Walo(Jaahilo) Par Fakr (Ghamand) Kare, Ulema (Scholar) Se Jhagda Kare, Logon Me Aalim Ke Taur Par Mash’hoor (Famous) Ho Jaae Aur Log Uski Izzat Kare Tou Aesa Insan Dozakh Me Jaaega”.
- (Tirmizi #2654, Ibne Majah #253 : @[156344474474186:])

» Sabaq : Shohrat Wa Fakr Ke Waste Ilm Haasil Karne Wala Dozakhi Hai Lihaza Apni Shoharat Ke waste Ilm Haasil Naa Karo, Balki Deen Ka Ilm Isliye Haasil Karo Ke Allah Aur Uske Rasool Ki Farmabardari Kar Sako Aur Logon Ko Bhi Iss Azeem Tareen Neki Ki Daawat De Sako..
Allah Ta’ala Hume Parhne Sun’ne Se Jyada Amal Ki Toufiq De !!! Ameen …