कुरआन की तिलावत करना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया :

“कुरआन शरीफ की तिलावत किया करो, इस लिए के कयामत के दिन अपने साथी (यानी पढ़ने वाले) की शफ़ाअत करेगा।”

📕 मुस्लिम: १८७४

Share on:

Leave a Comment