Gaane aur Mausiqi ki Mumaniat | Post 10 | Islam aur Humara Ghar

गाने और मौसीकी मुमानियत » पोस्ट 1⃣0⃣ » इस्लाम और हमारा घर

पोस्ट 1⃣0⃣

“इस्लाम और हमारा घर”

गाने और मौसीकी मुमानियत

इमरान बिन हुसैन रज़िअल्लाहु अ़न्हु फ़रमाते हैं:
अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया:

“इस उम्मत में ज़मीन का धंसना, लोगों के चेहरों का बदलना और पत्थरों की बारिश होने का अ़ज़ाब होगा । मुसलामानों में से एक आदमी ने कहा: ए अल्लाह के रसूल ! वो कब होगा ? आप ﷺ ने फ़रमाया: जब गाने वालिया और गाने बाजे के आलात ज़्यादा हो जाएं और शराब पीना आम हो जाएं।”

( तिर्मिज़ी ) रावी: इमरान बिन हुसैन
( स़ही़ह़ अल जामे 4273 ) ( स़ही़ह़ )

सिरीज » इस्लाम और हमारा घर

——J,Salafy✒——

▪शेयर करें▪

जिस शख़्स ने किसी नेकी का पता बताया, उसके लिए (भी) नेकी करने वाले के जैसा अजर हैं।
(स़ही़ह़ मुस्लिम: ज़ी. 3, हदीस 4665)

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More