तुम में सबसे अच्छा वह है जो अपनी क़ौम के लोगों के अत्याचार का विरोध करे और स्वयं वह पाप न करे।

पैग़म्बर मुहम्मद(ﷺ) ने फ़रमाया:

“तुम में सबसे अच्छा वह है जो अपनी क़ौम के लोगों के अत्याचार का विरोध करे और स्वयं वह पाप न करे।”

📕 अबू दाऊद

Source: islamshantihai.com

Daily HadeesFree Islamic Hadees SmsHadeesHadees e Nabvi in HindiHadees e Rasool in HindiHadees in Roman UrduHadees Quotes in Hindiबुख़ारी