Browsing archive

Topic: फर्ज अमल

फ़र्ज़ अमल का हुक्म, फ़र्ज़ आमाल की अहमियत और फ़ज़ीलत कुरान और हदीस की रौशनी में।

तक़दीर पर ईमान लाना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया : “हर चीज़ तकदीर से है, यहाँ तक के आदमी का नाकारा और ना काबिल और काबिल व होशियार होना ( भी तकदीर ही से है )।” वजाहत: तकदीर कहते है के दुनिया में जो कुछ भी हो रहा है, अच्छा हो या बुरा वह सब अल्लाह तआला के हुक्म और […]

मजदूर को पूरी मजदूरी देना

۞ हदीस: रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया : “मैं क़यामत के दिन तीन लोगों का मुक़ाबिल बन कर उन से झगडूंगा, (उन तीन में से एक) वह शख्स है जिसने किसी को मजदूरी पर रखा और उससे पूरा पूरा काम लिया मगर उसको पूरी मजदूरी नहीं दी।” खुलासा: मजदूर को मुकम्मल मजदूरी देना वाजिब है।

शौहर पर बीवी के खर्चे की जिम्मेदारी

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया : “तुम पर वाजिब है के तुम औरतों के लिए कायदे के मुवाफिक खाने और कपड़े का इंतजाम करो।” वजाहत: शौहर पर वाजिब है के वह बीवी के लिये अपनी हैसियत के मुताबिक रोटी और कपड़े का इंतजाम करे।

हज़रत मुहम्मद (ﷺ) को आखरी नबी मानना

कुरआन में अल्लाह तआला फरमाता है : “(हज़रत मुहम्मद (ﷺ) ) अल्लाह के रसूल और खातमुन नबिय्यीन हैं।” वजाहत: रसूलुल्लाह (ﷺ) अल्लाह के आखरी नबी और रसूल हैं, लिहाजा आप (ﷺ) को आख़री नबी और रसूल मानना और अब क़यामत तक किसी दूसरे नए नबी के न आने का यकीन रखना फर्ज है।

कर्ज़ अदा करना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया : “क़र्ज़ की अदायगी पर ताकत रखने के बावजूद टाल मटोल करना जुल्म है।”

अपने घर वालों को नमाज़ का हुक्म देना

कुरआन में अल्लाह तआला फर्माता है: “आप अपने घर वालों को नमाज़ का हुक्म करते रहो और खुद भी नमाज़ के पाबन्द रहिये, हम आपसे रोजी तलब नहीं करते, रोजी तो आप को हम देंगे आर अच्छा अंजाम तो परहेजगारों का है।”

दाढ़ी रखने की अहमियत

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “मूंछों को कतरवाओ और दाढ़ी को बढ़ाओ।” वजाहत: दाढी रखना शरीअते इस्लाम में वाजिब और इस्लामी शिआर में से है इस लिये तमाम मुसलमानों के लिये उस पर अमल करना इन्तेहाई जरूरी है।

अच्छी तरह मुकम्मल वुजू कर के नमाज़ के लिये मस्जिद जाना

रसूलल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “तुम में से जो शख्स अच्छी तरह मुकम्मल वुजू करता है, फिर नमाज ही के इरादे से मस्जिद में आता है, तो अल्लाह तआला उस बंदे से ऐसे खुश होता हैं जैसे के किसी दूर गए हुए रिश्तेदार के अचानक आने से उसके घर वाले खुश होते हैं।”

गुस्ल में पूरे बदन पर पानी बहाना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “(जिस्म) के हर बाल के नीचे नापाकी होती है, लिहाजा तुम बालों को धोओ और बदन को अच्छी तरह साफ करो।” खुलासा: गुस्ल में पूरे बदन पर पानी पहुँचाना फर्ज है।

आप (ﷺ) की आखरी वसिय्यत

रसूलल्लाह (ﷺ) ने आखरी वसिय्यत यह इरशाद फ़रमाई : “नमाजों और अपने ग़ुलामों के बारे में अल्लाह तआला से डरो।” ( यानी नमाज को पाबन्दी से पढ़ते रहा करो और गुलामों (नौकरों) के हुकूक अदा करो।)

हज की फरज़ियत

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया : “ऐ लोगो ! तुम पर हज फर्ज़ कर दिया गया है, लिहाजा उस को अदा करो।”

नेकियों का हुक्म देना और बुराइयों से रोकना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया : “कसम है उस जात की जिस के कब्जे में मेरी जान है तुम जरूर बिज जरूर भलाइयों का हुक्म करो और बुराइयों से रोको; वरना करीब है के अल्लाह तआला गुनहगारों के साथ तुम सब पर अपना अजाब भेज दे, और उस वक्त तुम अल्लाह तआला से दूआ मांगोगे तो […]

नमाज़ छोड़ने का नुकसान

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया : “जिस शख्स की एक नमाज़ भी फौत हो गई वह ऐसा है के गोया उस के घर के लोग और माल व दौलत सब छीन लिया गया।”

नमाज़ के छोड़ने पर वईद

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया : “नमाज़ का छोड़ना आदमी को कुफ्र से मिला देता है।” [मुस्लिम : २४६] एक दूसरी हदीस में आप (ﷺ) ने फ़र्माया: “ईमान और कुफ्र के दरमियान फर्क करनेवाली चीज़ नमाज़ है।” [इब्ने माजा : १०७८]

नमाज़ों का सही होना जरूरी है

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया : “कयामत के दिन सब से पहले नमाज़ का हिसाब होगा, अगर नमाज़ अच्छी हुई तो बाकी आमाल भी अच्छे होंगे और अगर नमाज खराब हुई तो बाकी आमाल भी खराब होंगे।”

इल्म हासिल करना एक फ़र्ज़

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “इल्म हासिल करना हर मुसलमान पर फर्ज है।” फायदा : हर मुसलमान पर इल्मे दीन का इतना हासिल करना फर्ज है के जिस से हलाल व हराम में तमीज़ कर ले और दीन की सही समझ बूझ, इबादात के तरीके और सही मसाइल की मालमात हो जाए।

अल्लाह तआला सबको दोबारा ज़िन्दा करेगा

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है: “अल्लाह वह है, जिसने तुम को पैदा किया और वही तुम्हें रोजी देता है, फिर (वक्त आने पर) वही तुम को मौत देगा और फिर तुम को वही दोबारा जिन्दा करेगा।” वजाहत: मरने के बाद अल्लाह तआला दोबारा जिन्दा करेंगा, जिसको “बअस बादल मौत” कहते हैं, इसके हक होने […]

वालिदैन के साथ एहसान का मामला करो

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है: “तुम्हारे रब (अल्लाह) ने फैसला कर दिया है उसके के अलावा किसी और की इबादत न करो और वालिदैन के साथ एहसान का मामला करो।” खुलासा: माँ बाप की खिदमत करना और उनके साथ अच्छा बरताव करना फर्ज है।

जमात से नमाज़ अदा करना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़र्माया: “जिस ने तक्बीरे ऊला के साथ चालीस दिन तक अल्लाह की रज़ा के लिए जमात के साथ नमाज़ पढी उस के लिये दोजख से नजात और निफाक से बरात के दो परवाने लिख दिये जाते हैं।”

फज़्र और अस्त्र की नमाज़ पाबन्दी से अदा करना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फर्माया : “हरगिज़ वह आदमी जहन्नम में दाखिल नहीं हो सकता, जो सूरज निकलने से पहले फज़्र की नमाज और सूरज गुरूब होने से पहले अस्र की नमाज़ पढ़े।”

ज़कात अदा करना

हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसऊद (र.अ) इर्शाद फ़र्माते हैं के हमें नमाज़ कायम करने का और जकात अदा करने का हुक्म है और जो शख्स जकात अदा न करे उसकी नमाज़ भी (क़बूल) नहीं।

फराइज़ की अदायगी का सवाब

एक आदमी रसूलुल्लाह (ﷺ) की खिदमत में हाजिर हुआ और अर्ज़ किया: “या रसूलल्लाह ! अगर मैं इस बात की शहादत दू के अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं और आप अल्लाह के सच्चे रसूल है और पाँच वक्त की नमाज पढ़ता रहूँ और जकात देता रहु और रमज़ान के रोज़े रखा करूँ और उस […]

कयामत के दिन सब से पहले नमाज़ का हिसाब होगा

नमाज़ की सेहत पर रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया : “कयामत के दिन सब से पहले नमाज़ का हिसाब होगा, अगर नमाज़ अच्छी हुई तो बाकी आमाल भी अच्छे होंगे और अगर नमाज़ खराब हुई तो बाकी आमाल भी खराब होंगे।”

पानी न मिलने पर तयम्मुम करना

रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फ़रमाया : “पाक मिट्टी मुसलमान का सामाने तहारत है, अगरचे दस साल तक पानी न मिले, पस जब पानी पाए तो चाहिये के उस को बदन पर डाले यानी उस से वुजू या ग़ुस्ल कर ले। क्योंकि यह बहुत अच्छा है।”

हज किन लोगों पर फर्ज है ?

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है: “अल्लाह के वास्ते उन लोगों के जिम्मे बैतुल्लाह का हज करना (फर्ज) है, जो वहाँ तक पहुँचने की ताकत रखते हों।”

अमानत का वापस करना

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है: “अल्लाह तआला तुम को हुक्म देता है के जिन की अमानतें हैं उनको लौटा दो।” फायदा : अगर किसी ने किसी शख्स के पास कोई चीज़ अमानत के तौर पर रखी हो तो मुतालबे के वक़्त उसका अदा करना जरूरी है।

नमाज़ी पर जहन्नम की आग हराम है

रसूलुल्लाह (ﷺ)  ने फ़रमाया : “जो शख्स पाँचों नमाजों की इस तरह पाबंदी करे के वजू और औक़ात का एहतेमाम कर, और सज्दा अच्छी तरह करे और इस तरह नमाज पढने को अपने जिम्मे अल्लाह तआला का समझे, तो उस आदमी को जहन्नम की आग पर हराम कर दिया जाएगा।”

विरासत में लड़की का हिस्सा

कुरआन में अल्लाह तआला फ़र्माता है : “अल्लाह तआला तुमको तुम्हारी औलाद के हक में हुक्म देता है के 1 लड़के का हिस्सा 2 लड़कियों के हिस्से के बराबर है।” खुलासा: वालिदैन की विरासत में लड़के के 2 हिस्से और लडकी का 1 हिस्सा होता है, जिस का अदा करना फर्ज है।