Allah ki Hidayat ko Chupane Wale par Lanat

Allah ki Hidayat ko Chupane Wale par Lanat

Hadees-e-Nabwi (ﷺ)

Allah ki Hidayat ko Chupane Wale par Lanat

Usman (R.A) ne Wuzu kiya tou Ek Shakhs se farmaya,
“Main Tumko Ek Hadees Sunata hu agar Quraan Paak ki Ek Aayat (Nazil) na hoti tou Main ye Hadees Tumko na sunata ke,

RasoolAllah (ﷺ) ne farmaya –

“Jab bhi koi Achchi tarah Wuzu karta hai aur Namaz parhta hai tou Uskey Ek Namaz se Dusri Namaz ke parhney tak ke Gunnah muaf kar diye Jaatey hain.”
(Sahih Bukhari; Vol 1, Hadees: 153)

Urwah (R.A) kahtey hain Wo Ye Aayat ye hai –

“Jo Log Allah ki Uss Nazil ki Huyee Hidayat ko Chupatey hain Jo Usney logon ke liye Apni Kitab me bayan ki hai, Un par Allah ki Lanat hai aur (Dusrey) Lanat karney walon ki lanat hai”
(Surah Al-Baqrah 2:159)

5/5 - (4 votes)
Farz Namaz ke Baad Nafeel ki Fazilat

Farz Namaz ke Baad Nafeel ki Fazilat

Hadees Of The Day

Farz Namaz ke Baad Nafeel ki Fazilat

Allah ke Rasool (ﷺ) ne farmaya ke,
Allah Taala farmata hai –

“Mera Banda Farz ada karne ke Baad Nafeel Ibadatein Karke Mujhse Itna Qareebho jata hai ki Main Us se Mohabbat karne lag jata hu.”

📕 Sahih Bukhari: 6502

4.9/5 - (23 votes)
8 Rabi Ul Akhir

8. रबी उल आखिर | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

रसूलुल्लाह (ﷺ) की चचा अबू तालिब से गुफ्तगू, नमाज़ छोड़ने पर वईद, नफा न पहुँचाने वाली नमाज़ से पनाह मांगना, अमल : जबान और शर्मगाह की हिफाजत करना, बुराई से न रोकने का वबाल, जख्म वगैरह का इलाज …

Namaz kisi bhi Haal mein Muaf nahi

Hadees of the Day

Namaz kisi bhi Haal mein Muaf nahi

Allah ke Rasool (ﷺ) ne farmaya:

“Khade ho kar Namaz padha karo, Agar Uski bhi Taaqat na ho to Baith kar aur Agar uski bhi na ho to Pehlu ke Bal Let kar padh lo.”

📕 Sahih Bukhari: 1117

4.8/5 - (106 votes)
1 Rabbi Ul Awwal

1 Rabi-ul-Awal | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

इस्लामी तारीख: हज़रत ज़करिया (अ.स), अस्र की नमाज़ की फज़ीलत, मेहमान का अच्छे अलफाज़ से इस्तिकबाल करना, पड़ोसी के साथ अच्छा सुलूक करना, रसूलल्लाह (ﷺ) की नाफ़रमानी करने का गुनाह, अल्लाह और उसके बन्दों के हुकूक …

30 Muharram | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

30. मुहर्रम | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

इस्लामी तारीख : हज़रत याकूब (अ.स), मुअजिज़ा: सुराका के घोड़े का ज़मीन में धंस जाना, एक फ़र्ज़ : बाजमात नमाज़ पढ़ने की निय्यत से मस्जिद जाना, मुसलमानों को तकलीफ पहुँचाने का गुनाह, आख़िरत : जहन्नम की वादी, तिब्बे नब्बीसे इलाज : शहद के फवाइद …

28 Muharram | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

28. मुहर्रम | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

इस्लामी तारीख : हजरत लूत (अ.स), एक फ़र्ज़ : कजा नमाज़ों की अदाएगी, एक सुन्नत : कब्रस्तान जाने की दुआ, अहेम अमल : तहिय्यतुल वुजू पर जन्नत का इन्आम, नमाज़ में सुस्ती करने का गुनाह …

Hadees : Namaz me banda Rab se Baate karta hai

Namaz me banda Rab se Baate karta hai

Hadees of the Day

Namaz me banda Rab se Baate karta hai

Anas bin Malik (R.A) se riwayat hai ki,
RasoolAllah (ﷺ) ne farmaya –

Jab Koi Shakhs Namaz ke liye Khada hota hai,
tou goya wo Apne Rab ke Saath Sargoshi (yaani baate) karta hai.
Ya Yu farmaya ki Uska Rab uskey aur
Qibley ke darmiyan hota hai.”

📕 Sahih Bukhari, 405

5/5 - (7 votes)
20 Muharram | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

20. मुहर्रम | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

तारीख: हजरत इब्राहीम (अ.स) की दावत, मुअजिजा : एक इशारे में दरख्त का दो हिस्सा हो जाना, एक फ़र्ज़ : अपने घर वालों को नमाज़ का हुक्म देना, अहेम अमल : अल्लाह से रहम तलब करना, दोजख / जहन्नुम से नजात की दुआ, झूटी तोहमत लगाने का गुनाह …

18 Muharram | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

18. मुहर्रम | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

तारीख: हजरत इब्राहीम (अ.स), मुअजिजा : अबू तालिब का सेहतयाब होना, एक फ़र्ज़ : जमात के साथ नमाज़ अदा करना, अहेम अमल : नुक्सान से हिफाज़त, फुजूल कामों में माल खर्च करने का गुनाह, माल व औलाद अल्लाह के क़ुर्ब का जरिया नहीं …

14 Zil Hijjah | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

14 Zil Hijjah | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

(1). अल्लामा अब्दुर्रहमान बिन जौज़ी (रह.), (2). बेहोशी से शिफ़ा पाना, (3). कज़ा नमाज़ों की अदायगी, (4). गुनाहों से बचने की दुआ, (5). मस्जिद की सफाई का इन्आम, (6). कुफ्र की सज़ा जहन्नम है, (7). माल व औलाद दुनिया के लिए ज़ीनत, (8). कब्र की पुकार, (9). बड़ी बीमारियों से हिफ़ाज़त, (10). जन्नत में दाखिल करने वाले आमाल…

Jab kisi ko Namaz ke dauran Oongh ya Neend aaye to kya kare ?

Jab kisi ko Namaz ke dauran Oongh ya Neend aaye to kya kare ?

Hadees of the Day

Jab kisi ko Namaz ke dauran Oongh ya Neend aaye

Ummahatul Momineen Aisha (R.A) se riwayat hai ki
Rasool’Allah (ﷺ) ne farmaya:

Jab Tum me se kisi ko Namaz ke Dauran Oongh ya Neend aaye to wo so jaye yaha tak ki Uski Neend puri ho jaye kyunki agar wo Unghte huye Namaz padhega to Shayad wo Astigfar karne ki jagah khud ko Baddua kar dega.”

📕 Sunan Abu Dawud, Jild 1,1297-Sahih

Read More

5/5 - (14 votes)
Meri Namaz Roza Qurbani sab Allah ke liye hai.jpg

मेरी नमाज़, क़ुरबानी, मेरा जीना मरना सब कुछ अल्लाह के लिए है

۞ बिस्मिल्लाह-हिर्रहमान-निर्रहीम ۞

मेरी नमाज़, क़ुरबानी, मेरा जीना मरना सब कुछ अल्लाह के लिए है

“आप फ़रमा दीजिए बेशक! मेरी नमाज़ मेरी कुर्बानी मेरा जीना मेरा मरना सब कुछ अल्लाह ही के लिए है जो सारे जहान का मालिक है।”

📕 क़ुरआन; सूरह अल अनआम 6:162

4.7/5 - (12 votes)
7 Zil Hijjah

7 Zil Hijjah | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

सीरत – इमाम नसई (रहमतुल्लाहि अलैहि), मुखतलिफ तरीके से पानी का उतरना, एक फर्ज : आप (ﷺ) की आखरी वसिय्यत, एक अहेम अमल: अरफ़ा के दिन रोजा रखना, नमाज़ दिखलावे के लिये पढ़ने का गुनाह, कुरआन की नसीहत: गवाही मत छुपाया करो …

Hadees Allah Ta’ala se Qareeb karne wale Aamal

Allah Ta’ala se Qareeb karne wale Aamal

Hadees of the Day

Allah Ta’ala se Qareeb karne wale Aamal

۞ Hadees: Hazrate Samrah (R.A.) ne farmaya,
Hum Darbaar-e-Nabuwat (ﷺ) me haazir they ke, Ek Shakhs haazir hua aur arz kiya
“Ya Rasool’Allah (ﷺ) ! Allah Ta’ala ke Qareeb tar Aamal kya hain?

Aap (ﷺ) ne farmaya “Sach Bolna aur Amanat ka Aada karna.”

Arz kiya gaya “Huzoor (ﷺ) Kuch aur Irshad farmaiye! ”

Aap (ﷺ) ne farmaya :
“Tahajjud ki Namaz aur Garmiyon ke Roze.”

Phir Maine arz kiya “Huzoor (ﷺ) Kuch aur Irshad farmaiye!”

Aap (ﷺ) ne farmaya:
“Zikr-e-Elahi ki Qasrat karna aur Mujh par Durood-e-Paak Padhna tangdasti ko door karta hai.”

Mai ne arz kiya “Kuch aur Irshaad farmaiye.”

Aap (ﷺ) ne farmaya
“Jo kisi Qoam ka Imaam baney tou Halki Namaz parhaye, Kyun ki Muqtadion me Burhay(Oldage) bhi hotey hai, Bimaar bhi, Bacche bhi aur Kaam kaaj wale bhi.”

📕 Al-Qawl Al-Bade’e, Pg 129
📕 Sa’adat Al-Daarain, Pg-714

4.6/5 - (14 votes)
Jis Shakhs ka Amalnama uski Peeth piche diya jayega

Jis Shakhs ka Amalnama uski Peeth piche diya jayega

Aaj ki Aayat | Verse of the day

Jis Shakhs ka Amalnama uski Peeth piche diya jayega

۞ Bismillah-Hirrahman-Nirrahim ۞

Allah Ta’ala farmata hai:

“Aur Jis Shakhs ka Aamaal Naama Uski Peeth Piche se diya Jayega, tou woh Maut ko Bulane Lagega, aur Bhadakti huyi Jahannam mein Daakhil hoga.”

📕 Quran 84: 10-12

Rate this post
Namaz aur Gulaamo ka khayal karo

Nabi ﷺ ke Aakhri Alfaz Namaz aur Gulamo ka Khayal rakhna

۞ Bismillah-Hirrahman-Nirrahim ۞

Namaz aur Gulamo ka Khayal rakhna

۞ Hadees: Ali Ibne Abu Talib (R.A.) se riwayat hai ke,
Allah ke Rasool (ﷺ) ke Zubane Mubarak ke Aakhri Alfaz they:

“Namaz, Namaz; aur un logo ke baare me Allah se daro jo tumhare dahine hath me hai. (Namaz aur Gulaamo ka khayal karo)”

📕 Sunan Abu Dawud 5156
📕 Book 43, Hadith 384-Sahih

Read More

5/5 - (1 vote)
♫ Ramzan ki Fazilat - Ahmiyat aur Masaail

♫ Ramzan ki Fazilat – Ahmiyat aur Masaail

Ramzan ki Fazilat – Ahmiyat aur Masaail

Free Download Audio Bayan of Ramzan Ki Fazilat, Ahmiyat aur Masaail, Shabe Qadr ki Hakikat aur Fazail by Adv Faiz Sayed.

♪ Ramzan ki Fazilat – Part (I)

♪ Ramzan ki Fazilat – Part (II)

♪ Ramzan Ki Fazilat – Part (III)

♪ Shabe Qadr – (Ramzan Ki Fazilat) – Part (IV)

♪ Roze Chodney Se Bachey – (Ramzan Ki Fazilat) – Part (V)

5/5 - (1 vote)
11 Rajjab | Sirf Panch Minute ka Madarsa

12 Rajjab | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

इस्लामी तारीख: हज़रत जुबैर बिन अव्वाम (र.अ), नमाज़ी पर जहन्नम की आग हराम है, जब बुरा ख्वाब देखे तो यह अमल करे, बीमारी की शिकायत न करना, अल्लाह और उसके रसूल की नाफर्मानी का गुनाह, किसी गुनाह को छोटा और मामूली न समझो …

11 Rajjab | Sirf Panch Minute ka Madarsa

11 Rajjab | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

इस्लामी तारीख: हज़रत तल्हा बिन उबैदुल्लाह (र.अ), बारिश में कुदरती निज़ाम, बीवी की विरासत में शौहर का हिस्सा, मुस्कुराते हुए मुलाकात करना, हर महीने के तीन दिन रोजे रखने की फ़ज़ीलत, औरतों को उनके मेहर खुश दिली से दिया करो …

19 Jamadi-ul-Akhir | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

19 Jamadi-ul-Akhir | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

इस्लामी तारीख: दीन के मुकम्मल होने का एलान, दाँतों की बनावट में अल्लाह की क़ुदरत, अपने घर वालों को नमाज़ का हुक्म देना, रुख्सत के वक़्त मुसाफा करना, जन्नत का मुस्तहिक, सामान ऐब बताए बगैर फरोख्त करने का गुनाह, अल्लाह तआला को तुम्हारे सब आमाल की खबर है…

28 Rabi-ul-Awal | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

28 Rabi-ul-Awal | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

हूज़ूर (ﷺ) का शाम का पहेला सफर, गुस्ल के लिये तययम्मुम करना, बुढ़ापे में रिज़्क में बरकत की दुआ, मौत को कसरत से याद करने की फ़ज़ीलत, पाक दामन औरतों पर तोहमत लगाने का गुनाह, क़यामत के दिन लोगों की हालत …