ग़ैर मेहरम औरत को छुना।

पोस्ट 34 :
ग़ैर मेहरम औरत को छुना।

माअ़्किल बिन यसार से रिवायत है कि
“अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया:”

तुम में से किसी के सर में लोहे की कील ठोक दी जाए ये इस से बेहतर है कि वो किसी औ़रत को छुवे जो उस के लिए ह़लाल ना हो। 

📕 त़बरानी; रावी: माअ़्किल बिन यसार
📕 स़ही़ह़ अल जामे 5045-स़ही़ह़

————-J,Salafy————
इल्म हासिल करना हर एक मुसलमान मर्द-और-औरत पर फर्ज़ हैं
(सुनन्ऩ इब्ने माजा ज़िल्द 1, हदीस 224)

Series : ख़्वातीन ए इस्लाम

J.Salafyत़बरानीसहीह अल जामेसुनन इब्ने माजाहदीस की बातें हिंदी में


Recent Posts