Browsing Tag

Aurat

9 Zil Hijjah | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

च्यूँटी अल्लाह की कुदरत का नमूना है, एक फर्ज: नमाज के लिये मस्जिद जाना, हर नमाज के बाद तस्बीह फातिमी अदा करना, औरतों का खुशबु लगाकर बाहर निकलने का गुनाह, तिब्बे नबवी से इलाज: नजर लगने से हिफाजत, नबी (ﷺ) की इताअत की अहमियत …

इस्लाम में औरत के इज़्ज़त की अहमियत

इस्लाम के दिए हुए मानव-अधिकारों में अहम चीज़ यह है कि औरत के शील और उसकी इज़्ज़त हर हाल में आदर के योग्य है, चाहे औरत अपनी क़ौम की हो, या दुश्मन क़ौम की, जंगल बियाबान में मिले या फ़तह किए हुए शहर में, हमारी अपने मज़हब की हो या दूसरे मज़हब की, या…

Shaitan ka Aurat par Hamle ke kuch Wajuhat

अकीदे कि कमजोरी औरत का बनाव सिंगार गुस्ल खाने में ज़्यादा वक्त बिताना ख़्वातीन का आइने में अपने आप को ब्रहिना देखना खवातीन का अल्लाह का नाम लिए बिना कपड़े बदलना खवातीन का ज़्यादा डरना खवातीन का बात बात पर गुस्सा…

Behtareen Akhlaaq wala sab se Kamil Momin hai

❝ Behtareen Akhlaaq wala sab se Kamil Momin hai aur Tum me behtar woh hai Jo apni Aurto ke Haq me Acchey hai.❞ Roman Urdu: Hadis-e-Nabwi ﷺ Tirmizi, Jild: 1, Page: 595 ❝ बेहतरीन अखलाख वाला सबसे कामिल मोमिन है और तुम में बेहतर वो है…

Behatreen Aurat ki Sifat aur Pehchan

✦ Behtarin Aurat Ki Sifat Abu Hurairah (RaziAllahu Anhu) se riwayat hai ki, Rasool'Allah (ﷺ) se pucha gaya ki, "Behatreen Aurat kaunsi hai ?." Tou Aap (ﷺ) ne farmaya: "Wo Aurat jisko uska Shohar jab dekhe tou wo usko khush kar de, aur jo…

Ghusal kab Wajib ho Jata hai ?

Ghusl - Bathing kin kamo se Toot Jata Hai ? , Humpar Gusal kab Farz ho jata hai ?, Ghusl kaise tut'ta hai ?, Gusl ke Aqsaam kya hai ? #Keywords: Ghusl kab farz hota hai, ghusl kab karna chahiye, ghusl kab farz hai, ghusl kab farz hota hai,…

♫ Kya Tamaam Auratey Jahannum me jayengi ?

Baaz Aurate Aisa Sochti hai ke wo Kitne bhi Acche amal kar le fir bhi wo jahannum me hi jayegi? kya ye akida durust hai? tafseeli jankari ke liye is audio ko jarur sune aur jyada se jyada share karne me humara tawoon kare,. jazakAllahu…

निकाह औरत मर्द के साथ-साथ दरअसल दो खानदान का भी रिश्ता होता हैं ….

निकाह दरहकीकत एक ऐसा ताल्लुक हैं जो औरत मर्द के दरम्यान एक पाकदामन रिश्ता हैं जो मरने के बाद भी ज़िन्दा रहता हैं बल्कि निकाह हैं ही इसलिये के लोगो के दरम्यान मोहब्बत कायम रह सके| जैसा के नबी सल्लललाहो अलेहे वसल्लम ने फ़रमाया- » हदीस: हज़रत…