जमात के मुतअल्लिक़ ख़बर देना

एक मर्तबा रसूलुल्लाह (ﷺ) अपने सहाबा से गुफ्तगू फ़रमा रहे थे, दौराने गुफ्तगू इर्शाद फ़रमाया : अभी तुम्हारे पास इस तरफ से मश्रिक वालों की एक बा अख़्लाक़ जमात आएगी, चुनान्चे हज़रत उमर (र.अ) खड़े हो कर उस तरफ चले, थोड़े ही दूर पहुँचे थे के सामने से तेरा अफराद पर मुश्तमिल एक जमात आई, हज़रत उमर (र.अ) ने पूछा : कौन हो, जमात ने कहा : हम कबील-ए-बनी अब्दे कैस से तअल्लुक रखते हैं।

हजरत उमर (र.अ) ने पूछा : क्या इस शहर में तिजारत के इरादे से आए हो? तो उन्होंने फरमाया ‘नहीं।’ हज़रत उमर (र.अ) ने फरमाया : अभी अभी रसूलुल्लाह (ﷺ) ने आप लोगों का तज़केरा किया था आर तारीफ की थी।

📕 बैहकी फी दलाइलिन्नुयुब्बह २०७२

और देखे :

Share on:

Trending Post

Leave a Reply