पहाड़ का हिलना | हुजूर (ﷺ) का मुअजिजा

हुजूर (ﷺ) का मुअजिज़ा | Huzoor ﷺ Ka Mojza

“रसूलुल्लाह (ﷺ) एक मर्तबा उहुद पहाड़ पर चढ़े, आप के साथ हज़रत अबू बक्र (र.अ), हज़रत उमर (र.अ) और हज़रत उस्मान (र.अ)  भी थे, वह पहाड़ हिलने लगा रसूलुल्लाह (ﷺ) ने पहाड़ पर अपना पाँव मार कर फर्माया: 

उहुद ठहर जा तुझ पर एक नबी, एक सिद्दीक और दो शहीद हैं।  (तो वह ठहर गया)”

📕 बुखारी : ६३७५, अन अनस (र.अ)

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *