Jo Shakhs Nikah karey aur Mehar dene ki Niyat na ho usney Zinaa kiya

Jo Shakhs Nikah karey aur Mehar dene ki Niyat na ho usney Zinaa kiya

Hadees of the Day

Nikah karey aur Mehar dene ki Niyat na ho usney Zinaa kiya

TRANSLITERATION

Abu Hurairah (R.A) se riwayat hai ke,
Rasool-e-Kareem (ﷺ) ne farmaya:

“Jo shakhs nikah karey aur Mehar dene ki Niyat na ho usney Zinaa kiya aur jo shakhs Udhaar(Qarz) le aur wapas dene ki niyat na ho usney daka dala.”

📕 At-Targib Wat-Tarheeb 1807


HINDI

अबु हुरेराह (प्रेषित के अनुयाई) कहते है के,
अल्लाह के प्रेषित मुहम्मद (ﷺ) ने फरमाया:

“जो शख्स अपनी पत्नी से मेहर का भुगतान नहीं करने के इरादे से शादी करता है वह जानी (व्यभिचारी) है। और जो व्यक्ति वापस ना लौटाने के इरादे से कर्ज़ लेता है वोह चोर है।

📕 अत तरगिब व तरहीब 1807

Leave a Comment