Browsing Category

इस्लाम के बारे में संदेह और उत्तर

Crimes me Humesha Bikau Media ko Musalman hi Kyu nazar Aatey hai ?

अपराध में हमेशा बिकाऊ मीडिया को मुसलमान ही क्यों नज़र आते है ?

अक्सर क्राइम्स के मुआमलो में मुस्लिम्स ही नज़र आते है, और मीडिया भी मुसलमानों को ही निशाना बनाती है , तो आईये जानते है इसकी असल वजह क्या है ? .. *बराए मेहरबानी इस मुख़्तसर सी विडियो को ज्यादा से ज्यादा शेयर करने में हमारा तावून करे,.. -…
Read More...

तलाक, हलाला और खुला की हकीकत (Talaq, Halala aur Khula Ki Hakikat)

Concept of Triple Talaq, Khula & Halala

• तलाक की हकीकत: यूं तो तलाक़ कोई अच्छी चीज़ नहीं है और सभी लोग इसको ना पसंद करते हैं इस्लाम में भी यह एक बुरी बात समझी जाती है लेकिन इसका मतलब यह हरगिज़ नहीं कि तलाक़ का हक ही इंसानों से छीन लिया जाए,पति पत्नी में अगर किसी तरह भी निबाह नहीं…
Read More...

Islam ne Diya hai Betiyo ko uncha Makam by Dr. Vidya Pradhan

इस्लाम ने ही दिया है बेटियों को ऊँचा मक़ाम - डॉ. विद्या प्रधान | Islam ne hi Diya hai Betiyo ko uncha Makam by Dr. Vidya PradhanTag: Non Muslim speak about Islam, benefits of hijab, Burkhe ke fayde, hy hijab is important in islam, Non…
Read More...

पैगम्बर मोहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) – संक्षिप्त जीवन परिचय

Contentहसब-नसब (Family tree) वंश – पिता की तरफ़ से वंश – माता की तरफ़ से बुज़ुर्गों के कुछ नाम पैदाइश मुबारक नाम पिता का देहान्त माता का देहान्त दादा-चाचा की परवरिश…
Read More...

Kya Guru Nanak Ji Makka Gaye they ( क्या गुरुनानक जी मक्का गए थे ) ?

अक्सर हमारे सिख भाइयो में ये बात मानी जाती है के “जब गुरुनानक जी मक्का गए तो वहां पर जिस तरफ अपना पाँव करते उस तरफ काबा आ जाता..” नौज़ुबिल्लाह! क्या वाकय में ऐसा कुछ हुआ था ?... आईये तफ्सीली जानकारी के लिए इस मुख़्तसर से बयांन का मुताला करते…
Read More...

Technology Industries aaj wajud me nahi hoti ! agar Musalman Scientist Na Hotey – Mrs Carlton…

टेक्नोलॉजी इंडस्ट्रीज आज वजूद में नहीं होती! अगर मुसलमान साइंटिस्ट न होते: मिस कार्लटन फिओरिना

"ट्विन टावर के हादसे के २ हफ्ते बाद ही जब इस्लाम पर सारी दुनिया दहशतगर्दी के इलज़ामात लगा रही थी तब एक ईसाई खातून जो की HP की CEO थी वो अपने स्पीच में "इस्लामी सिविलाइज़ेशन" के जो एहसानात है इंसानियत के लिए वो याद दिलाते हुए सबको हैरान कर…
Read More...

Gaay ke Qatil Koun aur Ilzam Kispar ? by Rajiv Dixit

गाय के कातिल कौन और इलज़ाम किस पर ? : राजीव दीक्षित

Janiye Rajiv Dixit Bhai Ki Zuban se "Gaay ke Qatil Koun aur Ilzam Kispar ?", Cattle slaughter in India, history of cow slaughter in india, the british origin of cow-slaughter in india, भारत में गौ हत्या की शुरुवात कैसे हुई?, गौ हत्या पर…
Read More...

ताजियों का इस्लाम से नहीं कोई रिश्ता , जानिए ताजियों के शुरूआत की हकीकत

✦ मुहर्रम क्या है ? मुहर्रम कोई त्योहार नहीं है, यह सिर्फ इस्लामी हिजरी सन् का पहला महीना है। पूरी इस्लामी दुनिया में मुहर्रम की नौ और दस तारीख को मुसलमान रोजे रखते हैं और मस्जिदों-घरों में इबादत की जाती है। क्यूंकि ये तारीख इस्लामी इतिहास…
Read More...

इस्लाम में क्यों हराम है ब्याजखोरी ? जानिए

Why is charging interest (usury) forbidden in Islam?

अगर मुहम्मद (स.) साहब की शिक्षाओं पर मनन किया जाए तो - दो बातें उनमें सबसे अहम हैं। पहली, मुहम्मद साहब की शिक्षाएं किसी एक देश या धर्म के लिए नहीं हैं। वे सबके लिए हैं। ... और दूसरी, उनकी शिक्षाएं आज से डेढ़ हजार साल पहले जितनी प्रासंगिक…
Read More...

Musalman aur Vande Mataram ki Kahani – Swami Laxmi Shankaracharya Ji ki Zubani

मुसलमान, लव जिहाद और वन्दे मातरम की कहानी : स्वामी शंकराचार्य की ज़ुबानी

Agar Musalman Deshbhakt Hai Tou Vandey Mataram Kyu nahi Kehte ? Janiye Vande Mataram ki Kahani Swami Laxmi Shankaracharya Ji ki Zubani. Why Vande Mataram Is Against Islam, Fatwa Against Vande Mataram, Vande Mataram Controversy, Vande…
Read More...

क्या इस्लाम औरतों को पर्दे में रखकर उनका अपमान करता है और क्या बुरखा औरतो की आज़ादी के खिलाफ है ?

» उत्तर: इस्लाम में औरतों की जो स्थिति है, उसपर सेक्यूलर मीडिया का ज़बरदस्त हमला होता है। वे पर्दे और इस्लामी लिबास को इस्लामी क़ानून में स्त्रियों की दासता के तर्क के रूप में पेश करते हैं। इससे पहले कि हम पर्दे के धार्मिक निर्देश के पीछे…
Read More...

जानिए- क्यों मनाई जाती ही क़ुरबानी ईद ? (क़ुरबानी की हिक़मत)

"कह दो कि मेरी नमाज़ मेरी क़ुरबानी 'यानि' मेरा जीना मेरा मरना अल्लाह के लिए है जो सब आलमों का रब है" - (कुरआन 6:162) *बकरा ईद का असल नाम "ईदुल-अज़हा" है, मुसलमानों में साल में दो ही त्यौहार मजहबी तौर पर मनाए जाते हैं एक "ईदुल फ़ित्र" और दूसरा…
Read More...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More