Hamesha Sach Bolo Aur Jhoot Se Bachte Raho …

♥ Mafhoom-e-Hadees: Hazrate Abdullah Bin Masood (Razi’Allahu Anhu) Se Riwayat Hai Ki,
Aap (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Farmaya –
*Tum Sachhayi Ko Laazim Pakdo Aur Hamesha Sach Bolo,
Kyun Ki Sach Bolna Neki Ke Raaste Par Daal Deta Hai Aur Neki Jannat Tak Pahuncha Deti Hai.
Aur Jab Aadmi Hamesha Hi Sach Bolta Hai Aur Sachhayi Hi Ko Ikhtiyaar Kar Leta Hai Tou
Wo Muqaam-e-Siddiqat Tak Pahunch Jaata Hai Aur Allah Ke Yaha Siddiqeen Me Likh Liya Jaata Hai.

*Aur Jhooth Se Hamesha Bachte Raho –
Kyu Ki Jhooth Bolne Ki Aadat Aadmi Ko Badkari Ke Raaste Par Daal Deti Hai
Aur Aadmi Jhooth Bolne Ka Aadi Ho Jata Hai Aur Wo Jhooth Ko Ikhtiyaar Kar Leta Hai
Tou Anjaam Ye Hota Hai Ki Wo Allah Ke Yaha Kajjabi Me Likh Diya Jaata Hai”.
(Sahih Bukhari, Muslim Shareef)

Hadees in HindiHadees of the dayIkhtiyarIslam aur SoodJhootRibaRiba is HaramSachSahih Bukhari and MuslimSahih Bukhari and Sahih MuslimSahih Muslim BukhariSahih Muslim HadeesSoodSood ki Hurmatsood ki tabah kariyanSunnate Rasool Hadees Hindi
Comments (2)
Add Comment
  • Akash

    Kya allah ki rehmat muslim p hai aur dusre dharmo p nai hai ….. Kya kisi allah wahe guru ya ishwar tak pahuchne ka rasta hai …kisi dharma ko apnana?????

    • musharraf ahmad

      सर हमारे अनुसार अल्लाह की रहमत सब पर है बल्कि इंसान और इस पूरी कायनात का होना ही अल्लाह की रहमत के कारण है.
      रही आप की दूसरी बात की इश्वर तक पहुंचना कैसे है ? तो हमें इश्वर तक पहुंचना नहीं है इश्वर तो हमारे करीब ही है, लेकिन हमें ऐसा इंसान बनना है जो इश्वर को पसंद हो, धर्म का काम ही इंसान को यह बताना है कि ईश्वर ने हमें क्यों, किस लिए पैदा किया है, हमारा मकसद क्या है और उस मकसद में हम कामयाब किस तरह हो सकते हैं.


Related Post


Islamic Quiz – 55

# Sawal: Wo konsi Neymat hai Jo bande ko mil jaye tou uska aadha Iman mukammil ho jaye ?

•…


क़ुरआन मे मानव जीवन के लिये है – “समता, स्वतंत्रता, बंधुत्व-भावना” : विशम्भर नाथ पाण्डे (भूतपूर्व…

"क़ुरआन ने मनुष्य के आध्यात्मिक, आर्थिक और राजकाजी जीवन को जिन मौलिक सिद्धांतों पर क़ायम करना चाहा है…


क्या इस्लाम औरतों को पर्दे में रखकर उनका अपमान करता है और क्या बुरखा औरतो की आज़ादी के खिलाफ है ?

» उत्तर: इस्लाम में औरतों की जो स्थिति है, उसपर सेक्यूलर मीडिया का ज़बरदस्त हमला होता है। वे पर्दे…