Tauba aur Astaghfar ki Fazilat

❝ Astagfirullah Al-lazi la ilaha illa Huwa Al-Hayyul-Qayyum wa atubu ilaih ❞

✦ Al-Quran: Apne RABB se maafi maango, Wo bada muaf karne wala hai, Wo Aasman se tum par (Rahmat ki) baarish barsayega Aur maal se tumhari madad farmayega Aur aulad se (tumhari madad farmayega) Aur tumhe baag (garden) ata karega Aur unmein tumhare liye nahrein baha dega.

📕 Surah Al-Nooh (71), Verse 10-12

– – – – – – – – – – –

۞ Hadees: RasoolAllah (SalAllahu Alaihi Wasallam) ne farmaya

“jo Astigfar karne ko apne upar lazim karega to Allah subhanhu usko har tangi se nikalne ka ek raasta ata farmayega aur har Gam se Nijat dega aur aisee jagah se Rozi ata farmayega jahan se usko Guman bhi nahi hoga.”

📕 Sunan Abu Dawud, Jild 1, 1505 -Hasan


❝ अस्तगफिरुल्लाह अल लज़ी ला इलाहा इल्ला हुवा अल हय्युल-कयूम वा अतुबू इलैही ❞

✦ अल क़ुरान : अपने रब से माफी माँगो की वो बड़ा माफ़ करने वाला है, वो आसमान से तुम पर (रहमत की) बारिश बरसाएगा और माल से तुम्हारी मदद फरमाएगा और औलाद से (तुम्हारी मदद फरमाएगा ) और तुम्हे बाग अता करेगा और उनमें तुम्हारे लिए नहरें बहा देगा।

📕 अल क़ुरान , सुरह नूह (71), आयत 10-12

– – – – – – – – – – –

✦ रसूलअल्लाह सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया:

“जो अस्तिग्फार (तौबा) करने को अपने ऊपर लाजिम कर ले तो अल्लाह सुबहानहु उसको हर तंगी से निकलने का एक रास्ता अता फरमाएगा और हर गम से निजत देगा और ऐसी जगह से रोज़ी अता फरमाएगा जहाँ से उसको गुमान भी नहीं होगा।”

📕 सुनन अबू दाऊद जिल्द 1, 1505 – हसन

Related Post about Tauba and Astagfar :

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More