मजदूर को पूरी मजदूरी देना

۞ हदीस: रसूलुल्लाह (ﷺ) ने फरमाया :

“मैं क़यामत के दिन तीन लोगों का मुक़ाबिल बन कर उन से झगडूंगा,

(उन तीन में से एक) वह शख्स है जिसने किसी को मजदूरी पर रखा और

उससे पूरा पूरा काम लिया मगर उसको पूरी मजदूरी नहीं दी।”

खुलासा: मजदूर को मुकम्मल मजदूरी देना वाजिब है।

📕 इब्ने माजाह : २४४२

Related Posts:

Trending Post

Leave a Reply

Ummate Nabi Android Mobile App