Insan Duniya me ess Qadar Mashghool hota hai ke …

Insan Duniya me ess Qadar Mashghool hota hai ke …

“Insan Dunia me Ess Qadar Mashghool hota hai ke,
Usey Pata bhi nahi chalta ke Jis Kapde se Uska Kafan Ban’na hai Wo Bazar me aa chuka hai.

📕 Hazrate Ali (RaziAllahu Anhu)



“इंसान दुनिया में एस क़दर मशग़ूल होता है के उसे पता भी नहीं चलता के जिस कपडे से उसका कफन बनना है वो बाजार में आ चूका है।”

📕 हजरत अली रजि०

Leave a Comment