दीन व दुनिया में शोहर का तआ़वुन करना

पोस्ट 08:
दीन व दुनिया में शोहर का तआ़वुन करना

“अबू उमामा रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि”
अल्लाह के रसूल ﷺ ने मुआ़ज़ बिन ज़बल से फ़रमाया:
ऐ मुआ़ज़! शुक्र करने वाला दिल, ज़िक्र करने वाली ज़बान और नेक बीवी जो दुनिया और दीन के मुआ़मले में तेरी मदद करे उन तमाम ख़ज़ाने से बेहतर है जो लोग जमा कर रहे हैं ।

📕 बैहक़ी
📕 सहीह अल जामे 4409

————-J,Salafy————
इल्म हासिल करना हर एक मुसलमान मर्द-और-औरत पर फर्ज़ हैं
(सुनन्ऩ इब्ने माजा ज़िल्द 1, हदीस 224)

 

J.Salafyबैहकी हदीससहीह अल जामेसुनन इब्ने माजाहदीस की बातें हिंदी में


Recent Posts