Allah Ta’ala Zaalim ko Chand Roz ki Mohlat deta rehta hai

Hadees of the Day

Allah Ta’ala Zaalim ko Chand Roz ki Mohlat deta rehta hai

✦ Hadees: Abu Musa (R.A.) se riwayat hai ke, RasoolAllah (ﷺ) ne farmaya:

Allah Ta’ala Zaalim ko chand roz duniya me muhlat deta rehta hai lekin jab pakadta hai toh phir nahi chodta. Rawi ne bayan kiya ke phir Aap (ﷺ) ne is aayat ki tilawat ki:

‏{‏ وَكَذَلِكَ أَخْذُ رَبِّكَ إِذَا أَخَذَ الْقُرَى وَهْىَ ظَالِمَةٌ إِنَّ أَخْذَهُ أَلِيمٌ شَدِيدٌ‏ }‏

“Aur tere Parwardigar ki pakad issi tarha hai, jab wo basti walo ko pakadta hai Jo zulm karte rehte hain, beshak iski pakad badi takleef dene waali aur badi hi sakht hai.” (Surah Hud 11:102)

📕 Sahih al-Bukhari;  © www.ummat-e-nabi.com/home | Arabic ref: Book 65, Hadith 4686

<<<<<<< ۞ >>>>>>>

आज की हदीस

अल्लाह तआला ज़ालिम को चंद रोज़ दुनिया में मोहलत देता रेहता है!

✦ हदिस : अबू मूसा (रज़ी अल्लाहु अन्हु) से रिवायत है के,
रसूलअल्लाह  (ﷺ) ने फ़रमाया:
“अल्लाह तआला ज़ालिम को चंद रोज़ दुनिया में मोहलत देता रेहता है!
लेकिन जब पकड़ता है तो फिर नहीं छोड़ता।
रावी ने बयां किया के फिर आप (ﷺ) ने इस आयत की तिलावत की:

‏{‏ وَكَذَلِكَ أَخْذُ رَبِّكَ إِذَا أَخَذَ الْقُرَى وَهْىَ ظَالِمَةٌ إِنَّ أَخْذَهُ أَلِيمٌ شَدِيدٌ‏ }‏

“और तेरे परवरदिगार की पकड़ इसी तरह है,
जब वो बस्ती वालो को पकड़ता है जो ज़ुल्म करते रहते है,
बेशक इसकी पकड़ बड़ी तकलीफ देने वाली
और बड़ी ही सख्त है।” (सूरह हुद 11:102)

📕 सहीह अल-बुखारी, अरेबिक दलील बुक 65, हदीस 4686

5/5 - (1 vote)

Leave a Reply

Trending Post

Ummate Nabi Android Mobile App