26 Muharram | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

26. मुहर्रम | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

हज़रत इस्हाक़ (अ.स) की खुसूसियत व अज़मत, मुअजिजा : हज़रत फातिमा (र.अ) के चेहरे का रोशन हो जाना, एक फ़र्ज़ : तमाम रसूलों पर ईमान लाना, एक सुन्नत : कनाअत और सब्र हासिल करने की दुआ, अहेम अमल : तकलीफों पर सब्र करना, नाप तौल में कमी करने का गुनाह …

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Part 15.13

हजरत मूसा अलैहि सलाम » Qasas ul Anbiya: Part 15.13

मूसा (अ.स.) के वाकिये से नसीहत, मुसीबतों में सब्र किया जाए, कामयाबी के लिए शर्त, मोहब्बते इलाही की ताक़त, अल्लाह की मदद, ईमानी लज्ज़त के असरात, सब्र का फल, गुलामी के असरात, जमीन की विरासत के लिए शर्ते …

Jo Logon se Milta Julta aur Unki Bato par Sabr Karta Ho

♥ Mafhoom-e-Hadees: Nabi-e-Kareem (Sallallahu Alaihay Wasallam) Ne Farmaya –
“Jo Logon Se Milta Julta Rehta Hai Aur Inn Ki Takleef Deh Baaton Par Sabr Karta Hai,
Wo Afzal Hai Uss Shakhs Se Jo Logon Se Rabta aur Khalt Nahi Rakhta
Aur Na Inn Ki Takleef Deh Baaton Par Sabr Karta Hai..”

(Shamail-e-Kubra, Part#4, Page#376)

Rate this post