2 Safar | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

2. सफर | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

इस्लामी तारीख : हज़रत यूसुफ (अ.स), मुअजिज़ा: नबी (ﷺ) की पुकार पर पत्थर का हाज़िर होना, एक फ़र्ज़ : मस्जिद में दाखिल होने के लिए पाक होना, एक सुन्नत : बीमार को दुआ देना, गरीबों के काम में मदद करने की फ़ज़ीलत, अल्लाह तआला के साथ शिर्क करने का गुनाह …

30 Muharram | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

30. मुहर्रम | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

इस्लामी तारीख : हज़रत याकूब (अ.स), मुअजिज़ा: सुराका के घोड़े का ज़मीन में धंस जाना, एक फ़र्ज़ : बाजमात नमाज़ पढ़ने की निय्यत से मस्जिद जाना, मुसलमानों को तकलीफ पहुँचाने का गुनाह, आख़िरत : जहन्नम की वादी, तिब्बे नब्बीसे इलाज : शहद के फवाइद …

Mereez ke liye Dua

Mareez ki Shifa ke liye Dua

Dua | Hadees of the Day

Mereez ke liye 7 Baar yah Dua padhe

RasoolAllah (ﷺ) ne farmaya:

Jab koi shakhs kisi aise mareez ki ayadat kare jiski maut ka waqt qareeb nahi aaya ho to uske paas jakar 7 martaba ye Dua padhe to Allah usko us marz se shifa ata farma dega:

أَسْأَلُ اللَّهَ الْعَظِيمَ رَبَّ الْعَرْشِ الْعَظِيمِ أَنْ يَشْفِيَكَ

❛ As’alullah Al-‘Azeem Rabbal ‘Arshil ‘Azeem an Yashfik ❜

“Main Azmat wale Allah Jo Azeem Arsh ka Malik hai
se Dua karta Hoon ki woh tumko Shifa de.”

📕 Sunan Abu Dawud: 3106 (Sahih)

4.9/5 - (7 votes)
28 Muharram | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

28. मुहर्रम | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

इस्लामी तारीख : हजरत लूत (अ.स), एक फ़र्ज़ : कजा नमाज़ों की अदाएगी, एक सुन्नत : कब्रस्तान जाने की दुआ, अहेम अमल : तहिय्यतुल वुजू पर जन्नत का इन्आम, नमाज़ में सुस्ती करने का गुनाह …

14 Zil Hijjah | Sirf Paanch Minute ka Madarsa

14 Zil Hijjah | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

(1). अल्लामा अब्दुर्रहमान बिन जौज़ी (रह.), (2). बेहोशी से शिफ़ा पाना, (3). कज़ा नमाज़ों की अदायगी, (4). गुनाहों से बचने की दुआ, (5). मस्जिद की सफाई का इन्आम, (6). कुफ्र की सज़ा जहन्नम है, (7). माल व औलाद दुनिया के लिए ज़ीनत, (8). कब्र की पुकार, (9). बड़ी बीमारियों से हिफ़ाज़त, (10). जन्नत में दाखिल करने वाले आमाल…

18 Jamadi-ul-Akhir | Sirf Panch Minute ka Madarsa

18 Jamadi-ul-Akhir | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

इस्लामी तारीख: हज्जतुलवदा में आखरी खुतबा, इल्म हासिल करना फ़र्ज़ है, क़ब्र के जियारत की दुआ, मुसाफा से गुनाहों का झड़ना, यतीमों का माल खाने का गुनाह, माल व औलाद क़ुर्बे खुदावन्दी का जरिया नहीं …

17 Jamadi-ul-Akhir | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

17 Jamadi-ul-Akhir | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

इस्लामी तारीख: हज्जतुल विदाअ, अल्लाह की कुदरत: इन्सान का सर, एक फर्ज: बीवी की विरासत में शौहर का हिस्सा, सोने से पहले बिस्तर झाड़ लेना, जन्नत में दाखिल करने वाली चीज़, इजार या पैन्ट टखने से नीचे पहनने का गुनाह …