फिरौन का इबरतनाक अंजाम

कुरआन के बयान के मुताबिक खुदाई का दावा करने वाले फिरऔन की नाफरमानी जब हद से बढ़ गई, तो अल्लाह तआला ने समन्दर में डुबा कर हलाक कर दिया और साथ ही यह ऐलान किया के उस की लाश को आने वाले लोगों के लिए इबरत बनाऊँगा।

चुनान्चे मुहकिकीन की राए के मुताबिक फिरऔन की लाश सन १८८१ में समन्दर से मिली, जो तकरीबन तीन हजार एक सौ सोला साल बाद समंदर से निकाली गई और इतनी लम्बी मुद्दत गुजरने के बाद भी लाश को गलने सड़ने से महफूज रखा, जो आज भी मिस्र के म्यूजियम में मौजूद है, आखिर वह कौन सी जात है? जिस ने समन्दर में भी उसकी लाश को महफूज रखा।

यकीनन अल्लाह की जात बड़ी कुदरत वाली है।

यह भी पढ़े : फिरौन की लाश पर परिक्षण कर के डॉक्टर मोरिस को कुरान की सत्यता पर विश्वास हुआ

📕 अल्लाह की कुदरत

5/5 - (3 votes)

और देखे :

Leave a Reply