हदीस: अल्लाह उसपर दया नहीं करता जो लोगों पर दया नहीं करता

۞ Bismillah-Hirrahman-Nirrahim ۞ अल्लाह के अंतिम सन्देष्टा मुहम्मद साहब (सलाल्लाहू अलैहि वसल्लम) फ़रमाते है : “अल्लाह उसपर दया नहीं करता जो लोगों पर दया नहीं करता। ” - सहीह मुस्लिम, 6030

हदीस: सताए हुए की ‘आह’ से बचो क्यूंकी उसके और अल्लाह के बिच कोई रुकावट…

अल्लाह के अंतिम पैगम्बर मुहम्मद (सलल्लाहु अलैहि वसल्लम) फरमाते है : ❝सताए हुए की 'आह' से बचो क्यूंकी उसके और अल्लाह के बिच कोई रुकावट नहीं होती।❞ 📕 सहीह अल बुखारी २४४८

हदिस: मजदुर की मजदूरी उस का पसीना सूखने से पहले दे दो।

अल्लाह के अंतिम पैगम्बर (सलल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने मजदूरों के हक़ में फ़रमाया: ❝ मजदुर की मजदूरी उस का पसीना सूखने से पहले दे दो।❞ -इब्ने माजाह २४४३

जो जवान आदमी किसी बूढ़े की इज़्ज़त उसके बुढ़ापे की वजह से करेगा तो

۞ हदिस : अनस बिन मलिक (र.अ) से वर्णित है के, अल्लाह के पैगम्बर (सलल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फ़रमाया: “जो जवान आदमी किसी बूढ़े की इज़्ज़त उसके बुढ़ापे की वजह से करेगा तो अल्लाह इस (आदमी) के बुढ़ापे के दिनों में ऐसे लोगो को तैयार करेगा जो बुढ़ापे में इस की इज़्ज़त करेंगे।” -मिश्कात जिल्द 2, सफा 1423 सहीह . ?…

ऐ ईमानवालो! अपने सदक़ो को एहसान जताकर और दुख देकर नष्ट न करो

पवित्र कुरआन में अल्लाह अपने बन्दों से फरमाता है के: ❛ ऐ ईमानवालो! अपने सदक़ो को एहसान जताकर और दुख देकर उस व्यक्ति की तरह नष्ट न करो जो लोगों को दिखाने के लिए अपना माल ख़र्च करता है और अल्लाह और अंतिम दिन पर ईमान नहीं रखता। -अल कुरआन; सूरह बक़रह 2:264

हिकायत – पार्ट 2: आदम (अलैहि सलाम) और बीबी हव्वा (अलैहि सलाम)

हज़रत आदम (अलैहि सलाम) और बीबी हव्वा (अलैहि सलाम) को ज़मीन पर उतारा गया. अज़ीज़ दोस्तों! जब शैतान मरदूद और लानती हो गया तो उसके जन्नत मे दाखीले पर पाबन्दी लग गई। अब वो जन्नत मे दाखील नहीं हो सकता था। ✦ आदम अलैहि सलाम की तखलीख: हज़रत आदम (अलैहि सलाम) जब उठ कर बैठ गए तो उन्हे छींक आ गई और तब आदम (अलैहि सलाम)…

हिकायत – पार्ट 1 : रू –ए–ज़मीन की इब्तेदा (खिल्क़त का आगाज)

۞ बिस्मिल्लाह –हिर्रहमान –निर्रहीम ۞ “अल्लाह के नाम से शुरू जो तमाम जहानों को बनाने वाला और उसे पालने वाला है और दूरूदो सलाम हो उसके आखरी नबि रसूल ‘अल्लाह (सलल्लाहू अलैहि वसल्लम) पर।” ✦ फरीश्ते, जिन्न और इन्सान आदम (अलैहि सलाम) की तख्लीख: अल्लाह ता’आला ने फरीश्तों को नूर से पैदा किया, जिन्नों को आग से…

दहेज़ की हक़ीकत और दहेज प्रथा के दुष्प्रभाव (Reality of Dowry)

ये वो विषय है जिस पर अगर तफसील से लिखा जाए तो रुकना मुश्किल है ,.. बहरहाल फिर भी हम इस पर दहेज़ के ताल्लुक से कुछ अहम बात करने की कोशिश करेंगे,..• सबसे पहली बात अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त नें क़ुरआन में फरमाया “मर्द औरतों पर क़व्वाम हैं इसलिए कि अल्लाह तआला नें उनमें से एक को दूसरे पर फज़ीलत दी और इसलिए कि…

क्या रमजान की मुबारकबाद देने से जन्नत मिलती है ? (Beware Fake Hadith)

“जो रमजान की मुबारकबाद सबसे पहले दुसरे को दे उसपर जन्नत वाजिब और जहन्नुम की आग हराम” सुभान'अल्लाह ! कहा से लाये ये हदीस,. इतने आसानी से जन्नत मिलती तो सहाबा(रज़ीअल्लाहु अन्हु) इतनी तकलीफे क्यों उठाते ? बल्कि रमजान का इंतज़ार करते, रमजान की खुशखबरी देते और माशा'अल्लाह जन्नत के मुस्तहिक हो जाते| कोई भी…