शेख अब्दुल कादिर जीलानी रह. (सिरत व इरशादात)

शेख अब्दुल कादिर जीलानी रह. (सिरत व इरशादात)

۞ बिस्मिल्लाह-हिर्रहमान-निर्रहीम ۞ अल्लाह के नाम से जो बड़ा मेहरबान निहायत रहम वाला है। सब तारीफे अल्लाह तआला के लिये …

Read Moreशेख अब्दुल कादिर जीलानी रह. (सिरत व इरशादात)

3. रबी उल आखिर | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

3. रबी उल आखिर | सिर्फ़ 5 मिनट का मदरसा

(1). हुजूर (ﷺ) गारे हिरा में, (2). इंसान की हड्डियों में अल्लाह की कुदरत, (3). ज़कात अदा करना, (4). छींक आए तो मुंह पर कपड़ा या हाथ रख ले, (5). अपने घरवालों पर खर्च करने की फ़ज़ीलत, (6). तिजारत में झूट बोलने का गुनाह, (7). बद नसीबी की पहचान, (8). , (9). नींद न आने का इलाज, (10). अपनी औलाद को कत्ल न करो।

और (हे मनुष्य!) तेरे पालनहार ने आदेश दिया है कि उसके सिवा किसी की इबादत (वंदना) न करो तथा माता-पिता के साथ उपकार करो।” [कुरआन १७:२३]

और (हे मनुष्य!) तेरे पालनहार ने आदेश दिया है कि उसके सिवा किसी की इबादत (वंदना) न करो तथा माता-पिता के साथ उपकार करो।” [कुरआन १७:२३]

अच्छाई उदारता नहीं है: 

माता-पिता के साथ अच्छा बर्ताव अनिवार्य है उदारता नहीं।

“और (हे मनुष्य!) तेरे पालनहार ने आदेश दिया है कि उसके सिवा किसी की इबादत (वंदना) न करो तथा माता-पिता के साथ उपकार करो।”

(कुरआन १७:२३)

Ref: Wisdom Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

Sataaye hue ki aah se bacho, kyunki uske aur Allah ke bich koi rukawat nahi hoti

सताए हुए की आह से बचो, क्यूंकि उसके और अल्लाह के मध्य कोई रुकावट नहीं होती।

पैग़म्बर मुहम्मद (ﷺ) ने फ़रमाया:

❝ सताए हुए की आह से बचो, क्यूंकि उसके और अल्लाह के मध्य कोई रुकावट नहीं होती। ❞

📕 बुख़ारी

| #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com/quotes

अल्लाह के साथ शिर्क न करना अगरचे तुम टुकड़े टुकड़े कर दिए जाओ और जला दिए जाओ। [हदीस: इब्ने माजाह 4034] #IplusTV #IslamicQuotes

अल्लाह के साथ शिर्क न करना अगरचे तुम टुकड़े टुकड़े कर दिए जाओ और जला दिए जाओ। [हदीस: इब्ने माजाह 4034]

۞ हदीस : अल्लाह के पैगम्बर (ﷺ) ने फ़रमाया :

“अल्लाह के साथ शिर्क न करना अगरचे तुम टुकड़े टुकड़े कर दिए जाओ और जला दिए जाओ।”

सत्य साधक के लिए कुरआन मार्गदर्शक है। “वास्तव में, ये कुरआन वह मार्ग दिखाता है, जो सबसे सीधी है…” (कुरआन 17:9)

सत्य साधक के लिए कुरआन मार्गदर्शक है। “वास्तव में, ये कुरआन वह मार्ग दिखाता है, जो सबसे सीधी है…” (कुरआन 17:9)

सत्य साधक के लिए कुरआन  मार्गदर्शक है।

“वास्तव में, ये कुरआन वह मार्ग दिखाता है, जो सबसे सीधी है…”

(कुरआन  17:9)

Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

संदेह पैदा करनेवाले को छोड़कर निःसंदेह वाले को स्वीकार करें। सत्य शांति है और असत्य शंका।” (हजरत मुहम्मद ﷺ)

संदेह पैदा करनेवाले को छोड़कर निःसंदेह वाले को स्वीकार करें। सत्य शांति है और असत्य शंका।” (हजरत मुहम्मद ﷺ)

अनिश्चित्व/ संदेह में शांति नहीं।

संदेह पैदा करनेवाले को छोड़कर निःसंदेह वाले को स्वीकार करें। सत्य शांति है और असत्य शंका।”

(हजरत मुहम्मद ﷺ)

Ref: Wisdom  Media School | #IslamicQuotes by Ummat-e-Nabi.com

और व्यभिचार (adultery) के निकट भी न जाओ।

और व्यभिचार (adultery) के निकट भी न जाओ।

कल्याणकारी मधुर संदेश

इस्लाम समाज में फैली किसी भी बुराई जैसे (चोरी/बलात्कार/शराब…आदि) से न सिर्फ रोकता है बल्कि उसे मिटाने के तरीके भी बताता है।

“और ज़िना (व्यभिचार) के निकट भी न जाओ, नि:सन्देह यह बहुत ही घृणित काम और बुरा रास्ता है।”

पवित्र कुरआन (17:32)

सबसे पहले तो इस्लाम लोगों को आध्यात्मिक स्तर पर इतना उठाता है कि वो ऐसा कार्य न करें। इसके बाद भी यदि कुछ लोग (स्त्री-पुरुष) यौन-अपराध कर बैठे तो इस्लाम ऐसे लोगों पर अपनी क़ानून व्यवस्था को क्रियान्वित (लागु) कर देता है।

दोषी पुरुष-स्त्री-दोनों या कोई एक-यदि विवाहित हैं तो संगसार कर देने (मार डालने) की सज़ा दी जाती है। यदि दोनों, या कोई एक,
अविवाहित हो तो ‘सौ कोड़े मारने की सज़ा निर्धारित की गई है।

तुम में सबसे अच्छा वह है जो अपनी क़ौम के लोगों के अत्याचार का विरोध करे और स्वयं वह पाप न करे।

तुम में सबसे अच्छा वह है जो अपनी क़ौम के लोगों के अत्याचार का विरोध करे और स्वयं वह पाप न करे।

पैग़म्बर मुहम्मद(ﷺ) ने फ़रमाया: “तुम में सबसे अच्छा वह है जो अपनी क़ौम के लोगों के अत्याचार का विरोध करे …

Read Moreतुम में सबसे अच्छा वह है जो अपनी क़ौम के लोगों के अत्याचार का विरोध करे और स्वयं वह पाप न करे।

Al-Quran: Jo Zakaat tum Allah ki khushnoodi haasil karne ke iraade se dete ho

31 Aug | Al-Quran: Jo Zakaat tum Allah ki khushnoodi haasil karne ke iraade se dete ho

[bs-heading title=”Roman Urdu” show_title=”1″ title_link=”#RomanUrdu” heading_color=”#ef4e56″ heading_style=”t6-s9″ heading_tag=”h4″ custom-css-class=”_h_lang”][/bs-heading]

۞ Jo Zakaat tum Allah ki khushnoodi haasil karne ke iraade se dete ho, to jo log bhi aisa karte hain, woh (apne maal ko) kayi guna badha lete hain..”

📕 Quran; Ar-Rum 30:39

[bs-heading title=”हिंदी” show_title=”1″ title_link=”#Hindi” heading_color=”#eea534″ heading_style=”t6-s9″ heading_tag=”h4″ custom-css-class=”_h_lang”][/bs-heading]

۞ जो ज़कात तुम अल्लाह की खूशनूदी हासिल करने के इरादे से देते हो, तो जो लोग भी ऐसा करते हैं, वह (अपने माल को) कई गुना बढा लेते हैं।”

📕 अल-कुरान; सुरह अर-रूम ३०:३९

[bs-heading title=”English” show_title=”1″ title_link=”#English” heading_color=”#9777b6″ heading_style=”t6-s9″ heading_tag=”h4″ custom-css-class=”_h_lang”][/bs-heading]

۞ When you give Zakaat (Charity) seeking Allah’s pleasure and whoever does the same. They find their wealth increased Manifold.”

📕 Quran; Ar-Rum 30:39

[bs-heading title=”मराठी” show_title=”1″ title_link=”#Marathi” heading_color=”#019966″ heading_style=”t6-s9″ heading_tag=”h4″ custom-css-class=”_h_lang”][/bs-heading]

۞ जेव्हा तुम्ही अल्लाह ची इच्छा शोधत ज़कात देता, आणि जो कोणी असे करतो, त्यांची संपती अनेक पटीने वाढली जाते.”

📕 अल-कुरान; सुरह अर-रूम ३०:३९

Al-Quran: Badi kharaabi hai aise shakhs ke liye, jo peeth pichhe dusron par Aib lagaane waala

22 Aug | Al-Quran: Badi kharaabi hai aise shakhs ke liye, jo peeth pichhe dusron par Aib lagaane waala

[bs-heading title=”Roman Urdu” show_title=”1″ title_link=”#RomanUrdu” heading_color=”#ef4e56″ heading_style=”t6-s9″ heading_tag=”h4″ custom-css-class=”_h_lang”][/bs-heading]

۞ Badi kharaabi hai aise shakhs ke liye, jo peeth pichhe dusron par Aib lagaane waala (aur) munh par taana dene ka aadi ho.”

📕 Quran; Al-Humaza 104:1

[bs-heading title=”हिंदी” show_title=”1″ title_link=”#Hindi” heading_color=”#eea534″ heading_style=”t6-s9″ heading_tag=”h4″ custom-css-class=”_h_lang”][/bs-heading]

۞ बडी खराबी है एसे शख्स के लिये, जो पीठ पीछे दूसरों पर एब लगाने वाला (और) मुंह पर ताना देने का आदी हो।”

📕 अल-कुरान; सुरह हुमजा १०४:१

[bs-heading title=”English” show_title=”1″ title_link=”#English” heading_color=”#9777b6″ heading_style=”t6-s9″ heading_tag=”h4″ custom-css-class=”_h_lang”][/bs-heading]

۞ Woe to him who is addicted to backbiting and taunting people.”

📕 Quran; Al-Humaza 104:1

[bs-heading title=”मराठी” show_title=”1″ title_link=”#Marathi” heading_color=”#019966″ heading_style=”t6-s9″ heading_tag=”h4″ custom-css-class=”_h_lang”][/bs-heading]

۞ मोठी कमी आहे त्या व्यक्ती वर, जो पाठीमागे दुसऱ्यांवर लानछन लावनारा तर (तोंडावर उलट सुलट बोलनारा असेल).”

📕 अल-कुरान; सुरह हुमजा १०४:१

जो कोई दिल से ‘अल्हम्दुलिल्लाही रब्बिल आलमीन’ कहेगा उसके लिए 30 नेकियां लिखी जाएगी

🌟 रसूलअल्लाह (सलअल्लाहू अलैही वसल्लम) ने फरमाया :

❝जो कोई दिल से अल्हम्दुलिल्लाही रब्बिल आलमीन कहेगा (यानी ज़ुबान के साथ दिल से भी इसका यकीन हो की तमाम तारीफें अल्लाह के लिए हैं और वही सारे जहाँ का पालने वाला है) तो उसके लिए 30 नेकियां लिखी जाएगी और 30 गुनाह मिटा दिए जाएँगे”❞

📕 मसनद अहमद , हदीस 7813-सहीह 


⭐ रसूलअल्लाह (सलअल्लाहू अलैही वसल्लम) ने फरमाया:

❝अलहम्दुलिल्लाह कहने से मीज़ान भर जाता है❞

📕 सुनन इब्न माजा, जिल्द 1, 280-सहीह

© Ummat-e-Nabi.com

Ummate Nabi Android Mobile App