Browsing category

हिंदी हदिस

हदीस का अर्थ, हदीस शरीफ हिंदी में, हदीस शरीफ की बातें, हदीसे नबवी, हदीस और साइंस, हदीस की किताबें, बुखारी शरीफ, मुस्लिम शरीफ, इब्ने माजा, सुनन अबू दावूद, हदीस की तकरीर, हदीस ए मुबारक, इस्लामी हदीस की बातें, हदीस के बारे में जानकारी, हदीस और कुरान शरीफ की बातें।
hadees in hindi, islamic status in hindi, islamic status for whatsapp in hindi, islamic hadees in hindi, hadees e nabvi in hindi, hadees sharif in hindi, hadees ki baatein in hindi, islamic hadees in hindi with images, hadis in hindi, islamic status hindi, small hadees sharif in hindi, nabi ki hadees hindi, islamic whatsapp status in hindi, islamic quotes in hindi

ह़ाएज़ा औ़रत से शफ़कत व मुहब्बत से पेश आना।

पोस्ट 18 : ह़ाएज़ा औ़रत से शफ़कत व मुहब्बत से पेश आना। आ़ईशा रज़िअल्लाहु अ़न्हा फ़रमाती हैं: ❝ मैं ह़ैज़ की हालत में हुवा करती और पानी पी कर बर्तन अल्लाह के नबी ﷺ को दे दिया करती। आप वहीं से मुंह लगा कर पीते जहां से मैं ने पिया था। और ह़ैज़ ही की […]

औ़रत टेढ़ी पस्ली से बनी है।

पोस्ट 17 : औ़रत टेढ़ी पस्ली से बनी है। अबू हुरैराह रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया: ❝ औ़रत पस्ली की त़रह़ है, अगर तू उसे सीधा करने की कोशिश करे तो उस को तोड़ देगा। और अगर तू उस से फ़ायदा हासिल करना चाहे तो उस के टेढ़ेपन […]

अच्छा मुस्लमान वो है जो अपने घर वालों से अच्छा हो

पोस्ट 16 : अच्छा मुस्लमान वो है जो अपने घर वालों से अच्छा हो अबू हुरैराह रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया: ❝ ईमान वालों में सब से कामिल ईमान वाले वो हैं जो अख़्लाक़ में ज्यादा अच्छे हो, और तुम में सब से अच्छे इंसान वो हैं जो […]

औ़रत की कमियों के बावजूद उस से नफ़रत ना करने का हुक्म

पोस्ट 15 : औ़रत की कमियों के बावजूद उस से नफ़रत ना करने का हुक्म अबू हुरैराह रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया: ❝ कोई मोमिन मर्द किसी मोमिन औ़रत से नफ़रत ना रखे, अगर इस में कोई स़िफ़त उसे नापसंद हो भी तो उस में कोई ऐसी स़िफ़त […]

औ़रत का मर्द पर ह़क़

पोस्ट 14 : औ़रत का मर्द पर ह़क़ मआ़विया अल कुशैरी रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत हैं, फ़रमाते हैं: मैं ने अर्ज़ किया: ❝ ऐ अल्लाह के रसूल ﷺ हमारी बीवियों का हम पर क्या ह़क़ है ? आप ﷺ ने फ़रमाया: ये कि जब तुम खाओ तो उन्हें भी खिलाओ, और तुम पहनो तो उन्हें […]

बीवियों में अ़दल की अहमियत

पोस्ट 13 : बीवियों में अ़दल की अहमियत अबू हुरैराह रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि, अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया: ❝ जब किसी शख़्स़ की दो बीवियां हो, और वो उन के दरमियान अ़दल ना करे तो क़ियामत के दिन वो इस हाल में आएगा कि उस का एक पहलू साक़ित (paralysed)  होगा। […]

शोहर की ह़ाजत की रिआ़यत करने की अहमियत

पोस्ट 12 : शोहर की ह़ाजत की रिआ़यत करने की अहमियत अबू हुरैराह रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि, अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया: ❝ उस जात की क़सम जिस के हाथ में मेरी जान है! जो भी शख़्स़ अपनी बीवी को अपने बिछोने की त़रफ़ बुलाता है और वो उस का इन्कार करती […]

शोहर को राज़ी करने की फ़ज़ीलत

पोस्ट 11 : शोहर को राज़ी करने की फ़ज़ीलत इब्ने अ़ब्बास रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि, अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया: ❝ क्या मैं तुम्हें जन्ऩती मर्द कौन हैं ना बतादूं ? लोगों ने अ़र्ज़ किया: ज़रूर ऐ अल्लाह के रसूल ﷺ ! आप ने फ़रमाया: नबी जन्ऩती है, सिद्दीक़ जन्ऩती है, शहीद जन्ऩती […]

शोहर की नाशुक्री का अन्जाम

पोस्ट 10 : शोहर की नाशुक्री का अन्जाम इब्ने अ़ब्बास रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि, अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया: ❝ मुझे जहन्ऩम दिखाई गई तो मैं ने देखा कि उस में अक्सरिय्यत औ़रतों की है । (क्यूंकि) वो (नाशुक्री, इन्कार) करती हैं। पूछा गया: क्या अल्लाह से कुफ्र करती हैं ? आप […]

शोहर का बीवी पर हक़

पोस्ट 09 : शोहर का बीवी पर हक़ “अब्दुल्लाह बिन औफ़ रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि, फ़रमाते हैं:” जब मुआ़ज़ रज़िअल्लाहु अ़न्हु मुल्के शाम से लौटे तो आते ही नबी ﷺ के आगे सज्दे में गिर गए। आप ﷺ ने पूछा: ऐ मुआ़ज़ ये क्या है ? वो बोले: मैं शाम गया तो देखा […]

दीन व दुनिया में शोहर का तआ़वुन करना

पोस्ट 08: दीन व दुनिया में शोहर का तआ़वुन करना “अबू उमामा रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि” अल्लाह के रसूल ﷺ ने मुआ़ज़ बिन ज़बल से फ़रमाया: ❝ऐ मुआ़ज़! शुक्र करने वाला दिल, ज़िक्र करने वाली ज़बान और नेक बीवी जो दुनिया और दीन के मुआ़मले में तेरी मदद करे उन तमाम ख़ज़ाने से […]

शोहर की फ़रमांबरदारी की फ़ज़ीलत

पोस्ट 07: शोहर की फ़रमांबरदारी की फ़ज़ीलत “अबू हुरैराह रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि” “अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया:” ❝ जब एक औ़रत अपनी पांच नमाज़ें अदा करे, (रमज़ान के) महीने के रोज़े रखे, अपनी शरमगाह की हिफ़ाज़त करे, और अपने शोहर की फ़रमांबरदारी करे तो वो (कियामत के दिन) जन्ऩत के जिस […]

बेहतरीन बीवी कौन ?

पोस्ट 06: बेहतरीन बीवी कौन ? “अब्दुल्लाह बिन सलाम रज़िअल्लाहु अ़न्हु से रिवायत है कि” “अल्लाह के रसूल ﷺ ने फ़रमाया:” ❝ सब से बेहतरीन औ़रत (बीवी) वो है कि जब तू उसे देखे तो वो तुझे ख़ुश करे, और जब तू उसे कोई हुक्म दे तो तेरी फ़रमांबरदारी करे, और तेरी गै़र मौजूदगी में […]