Aadmi ne Pait se jyada Bura koi Bartan nahi bhara

۞ Hadees: Mikdam Ibn Madikarab (R.A) se riwayat hai ki,
Maine Rasool’Allah (ﷺ) ko yeh farmate huye suna ki –

“Aadmi (Insan) ne Pait se Jyada Buraa koi Bartan nahi bhara.
Ibne Aadam ko Chand Luqme Kaafi hai Jo Uski Peeth Ko Sidha Rakhe
Agar Jyada Khana Zaruri ho tou Tihaai Pait Khane ke liye,
Tihaai Paani Ke Liye aur Tihaai Saans Ke Liye..”

[ Tirmizi 2380 ]

पेट से ज्यादा बुरा कोई बर्तन नहीं

आदमी (इंसान) ने पेट से ज्यादा बुरा कोई बर्तन नहीं भरा। इब्ने आदम को चंद लुक्मे काफी है जो उसकी पीठ को सीधा रखे। लेकिन अगर ज्यादा खाना ज़रूरी हो तो तिहाई पेट खाने के लिए, तिहाई पानी के लिए और तिहाई साँस के लिए रखे।”

📕 तिर्मिजी: २३८०


Share on:

Leave a Reply

close