हुजूर (ﷺ) का मुअजिज़ा | Huzoor ﷺ Ka Mojza

हुजूर (ﷺ) को गैबी मदद

सहाब-ए-किराम फर्माते हैं के हम एक सफर में अल्लाह के रसूल के साथ चार सौ आदमी थे।

हम लोगों ने ऐसी जगह पड़ाव डाला जहाँ पीने के लिये पानी नहीं था। हम सब घबरा गए, इतने में एक छोटी सी बकरी अल्लाह के रसूल (ﷺ) के सामने आकर खड़ी हो गई। आपने उस का दूध दूहा और फिर खूब सैर हो कर पिया और अपने सहाबा को भी पिलाया हत्ता के सब सैर हो गए।

उसके बाद उस बकरी को बाँध दिया गया, सुबह को उठ कर देखा, तो वह बकरी गायब थी। हुजूर (ﷺ) को खबर दी गई, तो आप (ﷺ) ने फर्माया: “जो अल्लाह उसको लाया था वही उसे ले गया।”

📕 बैहकी फी दलाइलिन्नुबबह: २३८१

हुजूर (ﷺ) का मुअजिज़ा | Huzoor ﷺ Ka Mojza

हज़रत साबित (र.अ) के लिये पेशीनगोई

आप (ﷺ) ने हज़रत साबित बिन कैस (र.अ) से फरमाया था:

“क्या तुम इस पर राजी नहीं के एक अच्छी जिन्दगी बसर करो और शहीद की मौत मरो
और फिर जन्नत में दाखिल हो जाओ?

तो हजरत साबित ने फरमाया : या रसूलल्लाह (ﷺ) हाँ क्यों नहीं।

चुनान्चे हज़रत साबित (र.अ) ने अच्छी जिन्दगी बसर की
और फिर अल्लाह की राह में शहीद हो गए।”

Ummate Nabi Android Mobile App