नबी (ﷺ) का मोजिज़ा: उमैर और सफवान की साजिश की खबर देना

उमैर बिन वहब और सफवान बिन उमय्या खान-ए-काबा में बैठ कर बद्र के मकतूलीन पर रो रहे थे, बिलआखिर उन दोनों में पोशीदा तौर पर यह साजिश करार पाई के उमैर मदीना जा कर आप (ﷺ) को धोके से क़त्ल कर आए। लिहाज़ा उमैर उठ कर घर आया और तलवार को जहर में बुझा कर मदीना को चल खड़ा हुआ और मदीना पहुँचा।

आप (ﷺ) ने पूछा : उमैर यहाँ किस इरादे से आए हो? उस ने कहा के उस कैदी को छुड़ाने आया हूँ।

आप (ﷺ) ने फ़र्माया : क्या तुम दोनों ने खान-ए-काबा में बैठ कर मेरे क़त्ल की साजिश नहीं की है? उमैर यह राज की बात सुन कर सक्ते में पड़ गया और बे इख्तियार बोल उठा के मुहम्मद (ﷺ) ! बेशक आप खुदा के पैग़म्बर हैं खुदा की कसम! मेरे और सफवान के अलावा किसी तीसरे को इस मामले की खबर न थी फिर उमैर ने कलिमा पढ़ा और आपने उन के कैदी को छोड दिया।

📕 तारीखे तबरी:१/४५७, जिकर व कअतिबदरिल कुबरा

5/5 - (1 vote)

Leave a Comment